भारतीय मछुआरों पर हमला: तमिलनाडु मछुआरा संघ ने श्रीलंका नेवी के हमले का किया विरोध, सरकार से मांगी मदद

October 20th, 2021

हाईलाइट

  • श्रीलंकाई नौसेना भारतीय मछुआरों को नाजायज तरीकों से मारने की कोशिश कर रहे है

डिजिटल डेस्क, चेन्नई। अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा रेखा (आईएमबीएल) के पास श्रीलंकाई नौसेना द्वारा नियमित रूप से भारतीय मछुआरों पर हो रहे हमलों को लेकर तमिलनाडु मैकेनाइज्ड बोट फिशरमेन एसोसिएशन ने केंद्र और राज्य सरकार से मामले पर संज्ञान लेने को कहा है।

एसोसिएशन के अध्यक्ष एम. आसन मोहिदीन ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि श्रीलंकाई नौसेना भारतीय मछुआरों पर हमला करने और नाजायज तरीकों से उन्हें मारने की कोशिश कर रही है। श्रीलंकाई नौसेना द्वारा भारतीय मछली पकड़ने वाली नाव पर हमले के कारण एक मछुआरे राजकिरण की डूबने से मैत हो गई, उसकी मौत के लिए श्रीलंकाई नौसेना को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। भारतीय मछली पकड़ने वाली नाव पर श्रीलंकाई नौसेना के हमले को लेकर एसोसिएशन ने मंगलवार शाम को पुदुकोट्टई जिले के कोट्टईपट्टनम में विरोध मार्च निकाला।

मोहिदीन ने कहा कि यह कोई अकेली घटना नहीं है। श्रीलंकाई नौसेना हमारे मछुआरों को मारने के लिए गोलियां नहीं चला रही है बल्कि उन्हें खत्म करने के लिए अन्य तरीकों का इस्तेमाल कर रही है। केंद्र सरकार और तमिलनाडु राज्य सरकार को इस मामले को गंभीर तरीके से लेना चाहिए। हालांकि, द्वीप राष्ट्र की नौसेना ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि उसने दो भारतीय मछुआरों को एक मछली पकड़ने वाली नाव से बचाया था जो डूब रही थी। उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय मछुआरे श्रीलंकाई जलक्षेत्र में अवैध शिकार कर रहे थे और स्पष्ट रूप से आईएमबीएल के लंकाई जलक्षेत्र के अंदर थे।

श्रीलंकाई नौसेना ने यह भी कहा कि घटना के दौरान एक मछुआरा लापता हो गया था और बचाए गए दो मछुआरों को जाफना के कांकेसेंथुरई में हिरासत में लिया गया था। पुदुकोट्टई में कोट्टईपट्टनम के तीन मछुआरे राजकिरण (30), अरोक्या जेवियर (32), और सुगंधन (23) सोमवार को कच्चातीवु में आईएमबीएल के पास मछली पकड़ने के लिए समुद्र में गए थे और श्रीलंकाई नौसेना के एक जहाज ने उन्हें रोक लिया था। मछुआरों में से एक, राजकिरण समुद्र में गिर गया, जबकि दो अन्य, सुगंथन और अरोकिया जेवियर को श्रीलंकाई नौसेना ने आईएमबीएल पार करने और श्रीलंकाई जल में अवैध शिकार के आरोप में हिरासत में लिया था।

पुदुकोट्टई के मत्स्य पालन के सहायक निदेशक एम. चिन्नाकुप्पन ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि मुझे जानकारी मिली है कि राजकिरण का शव समुद्र से बरामद कर लिया गया है और पोस्टमार्टम के लिए जाफना के कांकेसनेथुराई भेज दिया गया है। हालांकि श्रीलंकाई नौसेना ने कहा कि लापता मछुआरे की तलाश जारी है। इस बीच, कोट्टईपट्टनम में नाराज मछुआरों ने श्रीलंकाई नौसेना के खिलाफ नारेबाजी की और सड़कों को जाम कर दिया।

(आईएएनएस)