दैनिक भास्कर हिंदी: जींद में महापंचायत के दौरान स्टेज टूटा, राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा- किसानों को धमकाना सरकार का काम नहीं 

February 3rd, 2021

हाईलाइट

  • हरियाणा: जींद ज़िले में महापंचायत के दौरान स्टेज टूटा।
  • मैं किसानों को बहुत अच्छे से जानता हूं, ये पीछे हटने वाले नहीं हैंः राहुल गांधी
  • सरकार को ही पीछे हटना होगा। फायदा है सबका कि आज हट जाएंः राहुल गांधी

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)।  बीकेयू नेता राकेश टिकैत बुधवार को हरियाणा के जींद में समर्थन जुटाने और किसान आंदोलन में तेजी लाने के लिए यहां एक किसान महापंचायत को संबोधित करने एक गांव पहुंचे, जहां उनका हजारों लोगों ने शानदार स्वागत किया और उनके साथ एकजुटता प्रदर्शित की। टिकैत के साथ प्रदेश भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी भी मौजूद थे। इसी दौरान राकेश टिकैत जिस मंच पर खड़े थे वह स्टेज टूट गया। इस पर राकेश टिकैत ने कहा, पंचायत में मंच टूट गया, अच्छा हुआ, भाग्यवान लोगों के मंच टूटते हैं... ये लोग भी वही हैं, ये ट्रैक्टर भी वही हैं। वचन वही है हमारे 40 लोग (संयुक्त किसान मोर्चा) ही फैसला करेंगे, सरकार से बातचीत करेंगे। 

महापंचायत के आयोजक कंडेला खाप के अध्यक्ष टेक राम ने कहा कि सभी खाप या सामुदायिक कोर्ट इसमें भाग ले रहे हैं। उन्होंने मीडिया को बताया, हमने 50,000 लोगों की उपस्थिति के लिए व्यवस्था की है। महापंचायत में भाग लेने से एक दिन पहले टिकैत ने कहा कि तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान सरकार की बात नहीं मानेंगे, तो अखिल भारतीय ट्रैक्टर रैली निकालेंगे। इससे पहले भी कंडेला किसानों के आंदोलन का केंद्र रहा है। किसानों ने 2002 में कंडेला से बिजली बकाया की माफी की मांग को लेकर आंदोलन चलाया था।

हरियाणा के जींद जिले में हजारों किसानों की मौजूदगी के बीच किसान महापंचायत ने बुधवार को सर्वसम्मति से तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को रद्द करने का प्रस्ताव पारित किया, जहां बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने घोषणा की कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी जाती हैं तो, वे अखिल भारतीय स्तर पर महापंचायत आयोजित करेंगे। 

सरकार किलाबंदी क्यों कर रही हैः राहुल गांधी 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेंस संबोधित करते हुए कहा कि,  क्या सरकार किसान से डरती है। किसानों को धमकाना सरकार का काम नहीं है। सरकार किलाबंदी क्यों कर रही है। उन्होंने कहा कि किसान हिन्दुस्तान की शक्ति है, उसे दबाना, धमकाना, मारना सरकार का काम नहीं है। सरकार का काम किसान से बात करके इस समस्या का समाधान करना है। मैं किसानों को बहुत अच्छे से जानता हूं, ये पीछे हटने वाले नहीं हैं। सरकार को ही पीछे हटना होगा। फायदा है सबका कि आज हट जाएं। 

बजट के मुद्दे पर उन्होंने कहा, मुझे उम्मीद थी कि बजट 99 प्रतिशत लोगों को समर्थन देगा, लेकिन यह बजट सिर्फ एक प्रतिशत लोगों के लिए है। अर्थव्यवस्था केवल उपभोग के माध्यम से बढ़ सकती है। आपूर्ति पक्ष को पैसा देने से अर्थव्यवस्था नहीं चलेगी।

गांधी ने दावा किया कि चीन ने भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने रक्षा बजट को लेकर भी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने बजट में सशस्त्र बलों को अधिक आवंटन दिए जाने पर जोर दिया।

खबरें और भी हैं...