रूस-यूक्रेन युद्ध : यूक्रेन में फंसे हर भारतीय को वापस लाया जाएगा: उपराष्ट्रपति

March 2nd, 2022

हाईलाइट

  • कहा- सरकार उस दिशा में हर संभव प्रयास कर रही है

डिजिटल डेस्क, विजयवाड़ा/नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने बुधवार को विश्वास जताया कि यूक्रेन में फंसे प्रत्येक भारतीय को सुरक्षित घर वापस लाया जाएगा, क्योंकि सरकार उस दिशा में हर संभव प्रयास कर रही है।

विजयवाड़ा में भारत देसा पक्षाना - विल ड्यूरेंट के- ए केस फॉर इंडिया की तेलुगू अनुवाद पुस्तक के विमोचन समारोह में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने उन्हें युद्ध क्षेत्र में फंसे भारतीयों को बचाने के लिए किए जा रहे उपायों के बारे में अवगत कराया।

उन्होंने कहा, भारत देश के राष्ट्रीय हितों को ध्यान में रखते हुए अंतर्राष्ट्रीय गतिविधियों के बारे में एक समुचित ²ष्टिकोण अपना रहा है। उन्होंने सभी लोगों से देश के हितों की रक्षा के लिए एक स्वर में बोलने और ऐसा कुछ भी न कहने का अनुरोध किया जो भारत के लिए हानिकारक हो।

उपराष्ट्रपति ने भारतीय लोकतंत्र के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय मीडिया के वर्गों द्वारा किए जा रहे दुष्प्रचार और गलत सूचना अभियान चलाने की निंदा की और कहा कि कुछ शक्तियां भारत की प्रगति और एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में उसके उभरने को सहन नहीं कर पा रही हैं।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत सभी देशों के साथ हमेशा शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व में विश्वास करता है। उन्होंने स्मरण किया कि भारत कभी विश्वगुरु के रूप में जाना जाता था और वह सांस्कृतिक और आर्थिक रूप से शक्तिशाली था। उन्होंने कहा कि भारत अन्य देशों की सहायता करने के लिए एक मजबूत, स्थिर और समृद्ध राष्ट्र बनना चाहता है।

उपराष्ट्रपति ने कुछ ताकतों द्वारा भारत को जाति, पंथ, क्षेत्र और धर्म के नाम पर विभाजित करने के प्रयासों की भी आलोचना की।

ब्रिटिश शासन के बारे में बोलते हुए, नायडू ने कहा कि अंग्रेजों ने न केवल हमारी संपदा को लूटा है, बल्कि उन्होंने हमारे स्वाभिमान को भी ठेस पहुंचाई है। उन्होंने एक ऐसी शिक्षा प्रणाली की शुरूआत की, जो दोषपूर्ण और बहिष्कृत थी, अंग्रेजों ने कभी भी भारत की उपलब्धियों की महानता पर प्रकाश नहीं डाला, बल्कि हमारे इतिहास को विकृत किया।

ब्रिटिश शासन का अध्ययन करने के लिए विल ड्यूरेंट की पुस्तक का एक उपयोगी संसाधन के रूप में संदर्भ देते हुए, नायडू ने कहा कि प्रसिद्ध अमेरिकी इतिहासकार ने 150 वर्षों तक इंग्लैंड द्वारा भारत का जान-बूझकर खून बहाना दिखाकर भारत में ब्रिटिश शासन के वास्तविक स्वरूप का खुलासा किया है और इसका सर्वकालीन इतिहास में सबसे बड़े अपराध के रूप में वर्णन किया है।

(आईएएनएस)

खबरें और भी हैं...