दैनिक भास्कर हिंदी: वसीम रिजवी को D कम्पनी की धमकी : माफी नहीं मांगी तो भुगतना पड़ेगा अंजाम

January 14th, 2018

 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम ने शिया सेंट्रल बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी को धमकी दी है। दरअसल वसीम रिजवी ने मदरसा शिक्षा की आलोचना की थी। इसके बाद से ही रिजवी मुस्लिमों के एक वर्ग के निशाने पर आ गए हैं। धमकी मिलने के बाद वसीम रिजवी ने दाऊद इब्राहिम के खिलाफ थाने में नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई है। गौरतलब है कि वसीम रिजवी ने मदरसा शिक्षा के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को  चिट्ठी लिखी थी। इस चिट्ठी में कई ऐसी बाते कही गई थी जिससे मदरसों और मुसलमानों की छवि को भारी नुकासान होना बताया जा रहा है। इसके बाद जमात-ए-उलेमा-ए-हिंद ने वसीम रिजवी पर 20 करोड़ का मानहानि का मुकदमा ठोक दिया। साथ ही उनके सामने माफी मांगने की शर्त भी रखी।


फोन पर खुद को बताया 'भाई' का आदमी

वसीम रिजवी  के मुताबिक उन्हें शनिवार को देर रात एक फोन आया था। फोन करने वाले व्यक्ति ने खुद को D कंपनी का आदमी बताया और भाई के नाम से धमकी दी। साथ ही वसीम रिजवी को मौलानाओं से बिना शर्त माफी मांगने को कहा। माफी नहीं मांगने पर परिवार समेत अंजाम भुगतने की धमकी दी। वहीं मदरसों के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने के विरोध में जमात-ए-उलेमा-ए-हिंद ने वसीम रिजवी को लीगल नोटिस भेजा है और 20 करोड़ की मानहानि का दावा किया है।


वसीम रिजवी की जिस चिट्ठी पर बवाल मचा है जमात-ए-उलेमा के मुताबिक इस चिट्ठी में बेहद आपत्तिजनक बातें लिखी गई हैं। जमात-ए-उलेमा का कहना है कि इस चिट्ठी की वजह से मदरसों का और मुसलमानों की छवि को भारी नुकसान हुआ है। इस चिट्ठी की वजह से मदरसों में पढ़ने वाले लाखों बच्चों के दिमाग पर बुरा असर पड़ रहा है और लोग शक की निगाहों से देखने लगे हैं।

 

चिट्ठी में इन बातों का किया गया है जिक्र

1. मदरसा इंजीनियर और डॉक्टर बनाने में फेल है। 

2. मदरसा युवाओं को कट्टरपंथ की और धकेल रहे है।

3. मदरसे सिविल सर्वेंट से ज्यादा आतंकवादी पैदा कर रहे है।

4. मदरसों में बम बनाने की दी जा रही है शिक्षा।

5. मदरसों को आधुनिक शिक्षा का केंद्र बनाने की जरुरत

4. मदरसा शिक्षा की जगह मदरसों को किया जाए CBSE या फिर ICSE स्कूलों से संबद्ध


ओवैसी की चुनौती

सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष के दिए इस बयान पर ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने उन्हें सबसे बड़ा जोकर करार दे दिया था। उन्होंने कहा था कि वसीम रिजवी सबसे बड़े मौकापरस्त हैं और उन्होंने अपनी आत्मा आरएसएस को बेच दी है। ओवैसी ने रिजवी को चुनौती दी थी कि वो ऐसा एक भी मदरसा दिखाएं जहां छात्रों को आतंकवादी बनना सिखाया जाता है। उन्होंने कहा था कि रिजवी के पास अगर इसका कोई सबूत है तो वो देश के गृह मंत्री के पास जाकर उसे पेश करें।