दैनिक भास्कर हिंदी: केंद्र ने HC से कहा- ज़ायडस कैडिला की कोरोना वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल पूरा, जल्द ही यह उपलब्ध होगी

July 16th, 2021

हाईलाइट

  • ज़ायडस कैडिला ने कोविड-19 वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल पूरा कर लिया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। ज़ायडस कैडिला ने 12-18 आयु वर्ग के लिए अपनी कोविड-19 वैक्सीन का क्लीनिकल ट्रायल पूरा कर लिया है और जल्द ही यह उपलब्ध हो जाएगी। केंद्र ने दिल्ली हाईकोर्ट को शुक्रवार को इस बारे में सूचित किया। ज़ायडस कैडिला की जायकोव-डी दुनिया की पहली DNA बेस्ड वैक्सीन है।  DNA-प्लाज्मिड वैक्सीन शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए जेनेटिक मटेरियल का इस्तेमाल करती है।

15 जुलाई को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अंडर सेक्रेटरी सत्येंद्र सिंह ने एक हलफनामे में कहा, अहमदाबाद स्थित ज़ायडस कैडिला की डीएनए वैक्सीन वैधानिक अनुमतियों के अधीन है, यह निकट भविष्य में 12-18 आयु वर्ग के बच्चों के लिए उपलब्ध हो सकती है। हलफनामे के माध्यम से, केंद्र टिया गुप्ता नाम की एक नाबालिग की दायर याचिका का जवाब दे रहा था, जिसने 12 से 17 वर्ष की आयु के नाबालिगों के लिए तत्काल टीके की मांग की थी।

पिछले महीने केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को इसकी जानकारी दी थी। दूसरी ओर, Zydus Cadila ने 1 जुलाई को कहा था कि वे ZyCoV-D वैक्सीन को 45-60 दिनों के भीतर रोल आउट करने की योजना बना रहे हैं, जो कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) की मंजूरी के अधीन है। वैक्सीन निर्माताओं ने यह भी कहा था कि शुरुआत में, यह एक महीने में चार से पांच लाख खुराक का उत्पादन कर सकता है, जो जुलाई के अंत से उनकी नई विनिर्माण सुविधा चालू होने के बाद मासिक रूप से बढ़कर एक करोड़ खुराक हो जाएगी।

इस बीच, दिल्ली हाईकोर्ट में अपने नवीनतम हलफनामे में, केंद्र ने यह भी बताया कि डीसीजीआई ने भारत बायोटेक को अपने टीके, यानी कोवैक्सिन के लिए 2 वर्ष से 18 वर्ष की आयु के वॉलेंटियर्स पर क्लिनिकल ट्रायल करने की अनुमति दी है।

खबरें और भी हैं...