comScore

गैंगरेप पीड़िता के परिवार से बोले बीजेपी नेता- धन्यवाद दीजिए, हम आए हैं

June 30th, 2018 18:15 IST
गैंगरेप पीड़िता के परिवार से बोले बीजेपी नेता- धन्यवाद दीजिए, हम आए हैं

हाईलाइट

  • स्थानीय विधायक सुदर्शन गुप्ता ने पीड़ित परिवार से कहा है कि वो सांसद साहब का धन्यवाद करें कि वो आपकी बेटी को देखने आए हैं।
  • पीड़ित मासूम के माता-पिता ने हाथ जोड़कर सांसद सुधीर गुप्ता को धन्यवाद दिया।
  • मंदसौर में इरफान और आसिफ नाम के युवकों ने 7 साल की मासूम बच्ची को अपनी हवस का शिकार बनाया था।

डिजिटल डेस्क, मंदसौर। मंदसौर गैंगरेप केस की शिकार आठ साल की मासूम बच्ची अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है। लोग आरोपियों को फांसी देने की मांग कर रहे हैं तो मंत्री-विधायक प्रचार करने में लगे हैं। शुक्रवार को भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता और विधायक सुदर्शन गुप्ता भी पीड़ित मासूम और उसके परिवार से मिलने अस्पताल पहुंचे। जहां उन्होंने बच्ची का हाल-चाल पूछने की बजाए अपना प्रचार शुरू कर दिया। स्थानीय विधायक सुदर्शन गुप्ता ने पीड़ित परिवार से कहा है कि वो सांसद साहब का धन्यवाद करें कि वो आपकी बेटी को देखने आए हैं। जिसके बाद पीड़ित मासूम के माता-पिता ने हाथ जोड़कर सांसद सुधीर गुप्ता को धन्यवाद दिया। 

बता दें कि मंदसौर में इरफान और आसिफ नाम के युवकों ने 7 साल की मासूम बच्ची को अपनी हवस का शिकार बनाया था। दोनों आरोपियों ने बच्ची के साथ ऐसी क्रूरता की कि आज बच्ची जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है। बच्ची का इलाज कर रहे है डॉक्टरों के मुताबिक रेप के दौरान बच्ची के प्राइवेट पार्ट में रॉड या लकड़ी की स्टिक डाली गई थी। बच्ची के जिस्म पर कई जगह गहरे चोंट के निशान भी पाए गए है। रेप के बाद धारदार हथियार से बच्ची की हत्या करने की कोशिश भी की गई थी। हलांकि बच्ची की हालत में अभी तक मामूली सुधार हुआ है। डॉक्टरों का कहना है कि बच्ची बात करने की हालत में नहीं है। हादसे के बाद से पूरे देश में गैंगरेप के आरोपियों को फांसी दी जाने की मांग की जा रही है। 

कांग्रेस बोली, जांच सही दिशा में नहीं हो रही है

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि इस मामले में FIR दर्ज करे में लंबा वक्त लगा। आज भी जांच सही दिशा में आगे नहीं बढ़ रही है। सिंधिया ने सीबीआई जांच की मांग की है।

नर्स-डॉक्टरों के स्पर्श करने से सहम जाती है बच्ची 
इंदौर के एमवाय अस्पताल में भर्ती बच्ची हादसे से के बाद से इतनी डरी और सहमी हुई है कि कोई नर्स इंजेक्शन लगाए या डॉक्टर स्पर्श भी करे तो बच्ची सहम जाती है। शुक्रवार को बच्ची दर्द से इतनी बुरी तरह तड़प उठी कि उसके मुंह से निकला- मां मुझे ठीक कर दो, या मार डालो। बच्ची पलभर भी मां से दूर नहीं रहे पा रही है। बच्ची के जख्म इतना ज्यादा दर्द दे रहे हैं कि उसे सहन करना बच्ची के लिए नामुमकिन जैसा हो गया है। बच्ची की मां ने आरोपियों को फांसी देने की मांग की है।

संक्रमण से बचाना सबसे बड़ी चुनौती
बच्ची का ऑपरेशन कर रहे डॉक्टरों के मुताबिक ऑपरेशन कर उसके जख्मी अंगों का इलाज किया है, लेकिन अब उसे संक्रमण से बचाना सबसे बड़ी चुनौती है। उसके घाव भरने में 14 दिन का समय लगेगा। 15-20 दिन में उसे डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग के वार्ड 15 में भर्ती तीसरी कक्षा की इस छात्रा की आंखों के आसपास सूजन है। हाथ, गर्दन और पैरों पर गहरे जख्म हैं। पूरे शरीर पर पट्टियां लगी हैं। फिलहाल बच्ची एंटीबायोटिक दवा, इंजेक्शन और सलाइन के भरोसे है। पीडियाट्रिक सर्जरी एचओडी और बच्ची का इलाज कर रहे डॉ. ब्रजेश लाहोटी के अनुसार बच्ची की हालत में मामूली सुधार देखा गया है, लेकिन बच्ची खतरे से बाहर है। उनका मानना है कि घाव ठीक होने के बाद वह सामान्य बच्चों की तरह जीवन बिता सकेगी।
 

एम्स में कराया जाए बच्ची का इलाज 
शुक्रवार को हाईकोर्ट की इंदौर बेंच में दायर जनहित याचिका में मांग की गई है कि बच्ची का इलाज नई दिल्ली के एम्स अस्पताल में सरकारी खर्च पर कराया जाए। आनंद ट्रस्ट की ओर से सत्यपाल आनंद द्वारा दायर याचिका में राज्य सरकार को जिम्मेदार मानते हुए उसे बर्खास्त करने की मांग भी की गई है। याचिका में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पक्षकार बनाया गया है। 


मरने के लिए झाड़ियों में फेंक दिया
पुलिस की गिरफ्त में आए दूसरे आरोपी आसिफ ने बताया कि बीते मंगलवार को इरफान के साथ वो सरस्वती शिशु मंदिर के गेट के सामने खड़ा था। बच्ची को देखकर उनकी नीयत बदली। फिर इरफान बच्ची को लड्डू का लालच देकर अपने साथ ले गया। आसिफ उसके पीछे-पीछे आ रहा था। बाद में लक्ष्मण दरवाजा के पीछे दोनों ने बच्ची के साथ दरिंदगी की और उसे मरने के लिए झाड़ियों में फेंक दिया।
 

सभी की एक मांग,आरोपियों को फांसी दी जाए
मंदसौर दुष्कर्म के बाद से रतलाम अंचल सहित पूरे देश में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। नीमच के आस-पास के सभी गांव बंद है। आरोपी इरफान के गांव रिंगनोद के लोगों ने कहा है कि फांसी हुई तो गांव में उसका शव नहीं दफनाने देंगे। लोगों की एक ही मांग है आरोपियों को फांसी दी जाए। इससे कम सजा मंजूर नहीं। 

शिवराज ने की फांसी की मांग

शुक्रवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इस मामले की सुनवाई कोर्ट में जल्द होनी चाहिए साथ ही आरोपियों को फांसी पर लटकाना चाहिए।


 

कमेंट करें
IBC2e