comScore

तावड़े का दावा - एनसीपी के घोषणा पत्र में मोदी सरकार की तारीफ, शिंदे को नहीं दिया कोई न्यौता, नावेद अंतुले शिवसेना में शामिल

March 27th, 2019 21:38 IST
तावड़े का दावा - एनसीपी के घोषणा पत्र में मोदी सरकार की तारीफ, शिंदे को नहीं दिया कोई न्यौता, नावेद अंतुले शिवसेना में शामिल

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश भाजपा ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के उस दावे को खारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि मुझे और मेरी बेटी विधायक प्रणिती शिंदे को भाजपा के एक बड़े नेता ने पार्टी में शामिल होने का ऑफर दिया है। बुधवार को भाजपा नेता व प्रदेश के शिक्षा मंत्री विनोद तावडे ने कहा कि शिंदे को भाजपा में शामिल होने के लिए कोई पेशकश नहीं की गई थी। तावडे ने कहा कि शिंदे का बयान उसी तरह से है जैसे मेरे कुछ दोस्त मुझसे कहते हैं कि हमें उद्योगपति मुकेश अंबानी के परिवार में विवाह का निमंत्रण मिला था। इसका मतलब है कि मेरी हैसियत इतनी बड़ी है। तावडे ने कहा कि शिंदे सज्जन और सीधे व्यक्ति हैं। इसलिए उन्होंने स्वीकार किया कि भाजपा ताकतवर पार्टी है। तावड़े ने कहा कि हमें भोले लोगों की जरूरत नहीं है।

राकांपा के घोषणा पत्र में मोदी सरकार की तारीफ

इसी दौरान तावडे ने राष्ट्रवादी कांग्रेस के घोषणा पत्र की आलोचना करते हुए कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने घोषणा पत्र को पढ़ा ही नहीं है। ऐसा लग रहा है कि घोषणापत्र को पार्टी कार्यालय के कर्मचारियों ने तैयार किया है। तावडे ने कहा कि घोषणपत्र में एक जगह पर कहा गया है कि पिछले 45 सालों में बेरोजगारी का स्तर सबसे कम है। दूसरी जगह पर दावा किया गया है कि बेरोजगारी बढ़ी है। समझ में नहीं आता है कि पार्टी कहना क्या चाहती है। तावडे ने कहा कि घोषणापत्र में एनडीए सरकार के कदम की तारीफ की गई है। इससे पार्टी ने एक तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की है। तावडे ने कहा कि घोषणपत्र में पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचार का नजर आना आश्चर्य जनक लगता है। दीनदयाल के हर हाथ को काम, हर खेत को पानी देने की विचारधारा को पार्टी ने स्वीकार किया है। 

अंतुले के बेटे नावेद अंतुले शिवसेना में शामिल

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री बैरिस्टर ए आर अंतुले के बेटे नावेद अंतुले शिवसेना में शामिल हो गए हैं। बुधवार को मातोश्री में शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में नावेद पार्टी में प्रवेश किया। रायगड जिले में नावेद का प्रभाव माना जाता है। नावेद के शिवसेना में शामिल होने से रायगड सीट से राष्ट्रवादी कांग्रेस के उम्मीदवार सुनील तटकरे को झटका लग सकता है। रायगड में अंतुले और तटकरे परिवार के बीच लगातार मतभेद सामने आते रहे हैं। लोकसभा चुनाव में तटकरे का मुकाबला शिवसेना के उम्मीदवार तथा केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री अनंत गीते से है। नावेद ने कहा कि मेरे पिता अंतुले और शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहब ठाकरे के बीच अच्छे संबंध थे लेकिन राजनीति में वह जुड़ नहीं सका। तटकरे को झटका देने के सवाल पर नावेद ने कहा कि उन्होंने ही मुझे शिवसेना में शामिल होने के लिए बाध्य किया है। 

कमेंट करें
efzTB