comScore

लोन दिलाने के बहाने लगाते थे चूना, खास पेन का इस्तेमाल कर ठगी करने वाले गिरफ्तार

लोन दिलाने के बहाने लगाते थे चूना, खास पेन का इस्तेमाल कर ठगी करने वाले गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बैंक से कर्ज दिलाने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले एक गिरोह का कुरार पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। छानबीन में खुलासा हुआ है कि आरोपी ठगी के लिए खास पेन का इस्तेमाल करते थे जिसकी लिखावट बाद में रबर (इरेजर) से मिटाई जा सकती थी। जांच में पता चला है कि आरोपियों ने अब तक कई लोगों को इसी तरह चूना लगाया है।

मामले में राकेश कुमार चौबे नाम के शख्स ने शिकायत दर्ज कराई थी। इसी साल 20 अगस्त को एक शख्स ने उन्हें फोन कर पूछा कि अगर उन्हें लोन की जरूरत है तो वह मदद कर सकता है। चौबे को बेटी की पढ़ाई के लिए लोन की जरूरत थी इसलिए उन्होंने हामी भर दी। अगले ही दिन वेरिफिकेशन के नाम पर उनसे एक शख्स मिला जिसने खुद को एचडीएफसी बैंक का प्रतिनिधि बताया। उस शख्स ने चौबे से कहा कि उन्हें चार अग्रिम चेक देने होंगे जिसके जरिए आगे ईएमआई के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। साथ ही उस शख्स ने चौबे को कहा कि उनके खाते में कम से कम एक लाख रुपए होने जरुरी हैं तभी लोन पास होगा। उस शख्स ने चौबे के सामने अपने पेन से चेक पर तिरछी लाइन खींचते हुए कैंसल लिखा जिससे उन्हें भरोसा हो जाए कि चेक का गलत इस्तेमाल नहीं होगा। लेकिन चौबे अगले दिन हैरान रह गए जब उनके बैंक खाते से उन्हीं चेक का इस्तेमाल कर 25-25 हजार रुपए करके 1 लाख रुपए निकाल लिए गए। इसके बाद चौबे ने उस शख्स द्वारा दिए गए विजिटिंग कार्ड के आधार पर खोजबीन की तो पता चला कि उसमें मोबाइल नंबर समेत सभी जानकारियां झूठीं हैं।

उन्होंने कुरार पुलिस स्टेशन में मामले की शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद छानबीन में जुटी पुलिस ने कड़ी मशक्कत करते हुए गुरमिठा सिंह गुजराल, बिरेन पुरोहित, परेश हिंगू और जिगर कारेलीया नाम के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। सीनियर इंस्पेक्टर बाबासाहेब सालुंखे ने बताया कि आरोपी चेक पर कैंसल लिखने के लिए एक खास पेन का इस्तेमाल करते थे जिसे बाद में पूरी तरह मिटाया जा सकता था। आरोपियों के खिलाफ मालाड, मानपाडा, मुंब्रा, कस्तूरबा, आजाद मैदान, एमआरए मार्ग पुलिस स्टेशनों में इसी तरह ठगी के मामले दर्ज हैं। आरोपियों के पास से चार अलग-अलग बैंकों के कैंसल चेक, पायलट कंपनी के ठगी के लिए इस्तेमाल किए गए पेन, 60 हजार नकद, अपराध के लिए इस्तेमाल मोबाइल आदि जब्त किए गए हैं। कोर्ट में पेशी के बाद आरोपियों को 13 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। 

कमेंट करें
rzOj5