comScore

नक्सली दहशत में जीवन, सीसीटीवी भी नहीं लगा रहा प्रशासन

नक्सली दहशत में जीवन, सीसीटीवी भी नहीं लगा रहा प्रशासन

डिजिटल डेस्क, गड़चिरोली। नक्सल प्रभावित जिले में प्रशासन द्वारा सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाने से लोग जहां नक्सली खौफ में जी रहे हैं। वहीं चोरी-डकैती की घटनाएं उनका पीछा नहीं छोड़ रही हैं। जिला मुख्यालय में चोरी की वारदातें कम करने और अन्य घटनाओं पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से शहर के विभिन्न जगहों पर सीसीटीवी कैमेरे लगाने के लिए नगर परिषद ने प्रस्ताव तैयार किया था, लेकिन दो वर्ष पूर्ण होने बावजूद  अब तक शहर में एक भी जगह पर सीसीटीवी कैमेरे नहीं लगाए गए हैं। बता दें कि, यहां हमेशा नक्सली दहशत बनी रहती है और गर्मी के दिनों में सर्वाधिक चोरी की वारदातें भी होती हैं। बावजूद इसके प्रशासन की लापरवाही चिंतनीय विषय है। 

गड़चिरोली नगर परिषद अंतर्गत 23 वार्ड शामिल हैं। इन वार्डों में हजारों नागरिक रहते हैं। इन वार्डों के नागरिकों को नगर परिषद प्रशासन के माध्यम से सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती हैं। नागरिकों के सुरक्षा हेतु शहर के बीचों-बीच पुलिस थाना भी है। शहर के विभिन्न वार्डों में छोटी-छोटी चोरी की वारदातें बड़े पैमाने पर घटित होती रहती हैं। मात्र आरोपी वारदातों को अंजाम देने के बाद फरार होने में कामयाब भी हो जाते हैं। कहीं दुर्घटना घटी तो वाहन चालक घटनास्थल से फरार हो जाता है और उसका व उसके वाहन का पता भी नहीं चल पाता है। साथ ही शहर में शराब विक्रेताओं की संख्या भी काफी अधिक है। यह शराब विक्रेता रात के समय ही सर्वाधिक शराब की तस्करी करते हैं। पुलिस द्वारा गश्त लगाए जाने के बावजूद भी यह शराब तस्कर पुलिस के हाथों से बच निकलते हैं।

बता दें कि, दो वर्ष पहले नगर परिषद प्रशासन ने शहर के विभिन्न वार्डों में सीसीटीवी कैमेरे लगाने का प्रस्ताव तैयार कर प्रस्ताव को तकनीकी मंजूरी प्राप्त करने के लिये मंत्रालय भेजा था। यह सीसीटीवी कैमेरे शहर के मुख्य इंदिरा गांधी चौक, आईटीआई चौक, सेमाना देवस्थान, कैम्प एरिया, कॉम्प्लैक्स, जिला अस्पताल, बसस्थानक समेत विभिन्न जगहों पर 55  लगाए जाने थे, लेकिन सीसीटीवी लगाने के संदर्भ में किसी भी तरह की प्रोसेस आगे नहीं बढ़ पाई है। 

Loading...
कमेंट करें
QTdMY