comScore

केरल: बाढ़ से 22 की मौत, 22,165 से ज्यादा लोग रेस्क्यू, राहुल ने केन्द्र से मांगी मदद


हाईलाइट

  • केरल में भारी बारिश से बाढ़
  • कई जिलों में जन-जीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त
  • बाढ़ प्रभावित इलाकों से सुरक्षित बचाए गए 22,165 से ज्यादा लोग

डिजिटल डेस्क,  तिरुवनंतपुरम। केरल में गुरुवार रात से भारी बारिश हो रही है। जिसके चलते कई इलाकों में बाढ़ आ गई है। वहीं कई जगहों पर भूस्खलन हो गया है। वायनाड, एर्नाकुलम, त्रिशूर, पठानमथिट्टा, मलप्पुरम जिलों में बीती रात जोरदार बारिश हुई। सड़कों पर जलभराव होने से लोगों के घरों में पानी भर गया। मलप्पुरम और कोझीकोड को जोड़ने वाली प्रमुख सड़कें जल भराव के कारण बंद हैं। अब तक 22 लोगों की मौत हो गई है। 22,165 लोगों को राहत शिविर में पहुंचाया गया है। कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के पार्किंग क्षेत्र में पानी भर जाने के कारण पहले तो शुक्रवार को आधी रात तक विमान परिचालन बंद किया गया था और अब परिचालन रविवार दोपहर तीन बजे तक बंद रहेगा। 

वायनाड से सांसद राहुल गांधी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल के मुताबिक, उन्होंने प्रधानमंत्री से बात की और केरल खासकर वायनाड में बाढ़ एवं भूस्खलन से प्रभावित लोगों के लिए हर संभव सहायता की मांग की। उनके ट्विटर हैंडल पर कहा गया है, ''प्रधानमंत्री ने आपदा से प्रभावित लोगों के लिए हर जरूरी सहायता का भरोसा दिया है.''

केरल स्टेटट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी(केडीएसएमए) के मुताबिक केरल के बाढ़ प्रभावित इलाकों से अब तक 22,165 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है। पूरे राज्य में बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए 315 कैंप स्थापित किए गए हैं। इस बीच कोच्चि हवाई अड्डे पर 11 अगस्त 3 बजे तक सभी विमानों का परिचालन रोक दिया गया है। रेल सेवाएं भी पूरी तरह से प्रभावित हो गई हैं। 

मौसम विभाग ने केरल के इडुक्की, मलप्पुरम, कोझिकोड के में बारिश का रेड अलर्ट, जबकि त्रिशूर, पलक्कड, वायनाड, कन्नूर और कासरगोड में बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। केरल के तट से सटे इलाकों में पश्चिम दिशा की ओर से 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने का अनुमान जताया है। इस कारण मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है। 

भारी को लेकर मौसम विभाग के अलर्ट के बाद केरल सरकार ने सभी स्कूलों में अवकाश की घोषणा कर दी है। स्थानीय प्रशासन और एनडीआएफ की टीमें बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत बचाव का कार्य कर रही है। बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। 

कमेंट करें
hWHPN