comScore

मनसे का कंदील हटाने के विवाद में पार्टी नेता गिरफ्तार, चौदह दिन की न्यायिक हिरासत

मनसे का कंदील हटाने के विवाद में पार्टी नेता गिरफ्तार, चौदह दिन की न्यायिक हिरासत

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मनसे द्वारा लगाए गए अवैध कंदील उतार रहे मनपा अधिकारियों से बहस करना पार्टी नेता संदीप देशपांडे को भारी पड़ गया। बीएमसी अधिकारी की शिकायत के आधार पर पुलिस ने सरकारी काम में बाधा पहुंचाने अधिकारियों से बदसलूकी के आरोप में एफआईआर दर्ज कर देशपांडे समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। कोर्ट में पेशी के बाद सभी को 14 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। दरअसल शिवाजी पार्क इलाके में दीपावली की शुभेच्छा देते हुए हर साल की तरह इस साल भी मनसे की ओर से कई कंदील और झंडे लगाए गए थे। इन कंदीलों में मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे की तस्वीरें भी थीं। यह कंदील आम तौर पर तुलसी विवाह के बाद हटाए जाते हैं। लेकिन मुंबई महानगर पालिका ने इन कंदीलो को अवैध बताते हुए शुक्रवार को इन्हें हटाना शुरू कर दिया। मनपा के सहायक आयुक्त किरण दिघावकर की अगुआई में हो रही इस कार्रवाई से देशपांडे नाराज हो गए। पहले तो उन्होंने दिघावकर को फोन कर कार्रवाई रोकने को कहा और बाद में खुद समर्थकों के साथ पहुंचकर कार्रवाई कर रहे बीएमसी अधिकारी दिघावकर और दूसरे कर्मचारियों से बदसलूकी और गालीगलौज शुरू कर दी।

देशपांडे का आरोप था केवल मनसे के कंदील और झंडे हटाए जा रहे हैं जबकि शिवसेना की ओर से लगाए गए कंदील और झंडों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। देशपांडे की हरकत से नाराज दिघावकर ने शिवाजी पार्क पुलिस स्टेशन में मामले की शिकायत की। जिसके बाद पुलिस ने देशपांडे और उनके साथियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 141, 142, 143, 353, 504, 506 के तहत एफआईआर दर्ज कर चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। देशपांडे और दूसरे आरोपियों को महानगर न्यायदंडाधिकारी पीएस काले के समक्ष पेश किया गया डीसीपी प्रणय अशोक ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया जहां से सभी को 14 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। 

कमेंट करें
xObpE