comScore

ओमान की खाड़ी में इंडियन नेवी ने तैनात किए 2 युद्धपोत, जहाजों को सुरक्षित निकालने की जिम्मेदारी

ओमान की खाड़ी में इंडियन नेवी ने तैनात किए 2 युद्धपोत, जहाजों को सुरक्षित निकालने की जिम्मेदारी

हाईलाइट

  • ओमान की खाड़ी में भारतीय नौसेना ने दो युद्धपोतों को तैनात किया है
  • दो विदेशी ऑयल टैंकरों पर हमलें के बाद एतियात के तौर पर ये युद्धपोत तैनात किए गए हैं
  • भारत के जहाजों को सुरक्षित निकालने के ऑपरेशन को 'संकल्प' नाम दिया है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। ओमान की खाड़ी में भारतीय नौसेना ने दो युद्धपोतों को तैनात किया है। अमेरिका और ईरान के तनाव के बीच खाड़ी में दो विदेशी ऑयल टैंकरों पर हमलें के बाद एतियात के तौर पर ये युद्धपोत तैनात किए गए हैं। भारत ने ओमान की खाड़ी और होरमुज-स्ट्रेट से गुजर रहे भारत के जहाजों को सुरक्षित निकालने के ऑपरेशन को 'संकल्प' नाम दिया है।

नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डीके शर्मा ने कहा, 'हमने इस क्षेत्र में हुई घटनाओं को ध्यान में रखते हुए ऑपरेशन संकल्प के तहत डिस्ट्रॉयर आईएनएस चेन्नई और गश्ती पोत आईएनएस सुनयना को तैनात किया है। इनका काम फारस की खाड़ी और ओमान की खाड़ी से गुजरने वाले भारतीय जहाजों की सुरक्षा है।' उन्होंने कहा, 'नौसेना अपने P-8I लॉन्ग रेंज पेट्रोल एयरक्राफ्ट से क्षेत्र में हवाई निगरानी भी कर रही है। इसके अलावा, सूचना फ्यूजन सेंटर-हिंद महासागर क्षेत्र, जिसे दिसंबर 2018 में नौसेना ने लॉन्च किया गया था, खाड़ी क्षेत्र में जहाजों की आवाजाही पर कड़ी नजर रख रहा है।'

अमेरिका और कुछ अन्य देशों ने माइन और विस्फोटकों से किए गए दो ऑइल टैंकरों पर हमलों के पीछे ईरान को दोषी ठहराया है। हालांकि ईरान ने इसका दृढ़ता से खंडन किया है। स्थिति की पूरी तरह से समीक्षा के बाद, डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ शिपिंग ने 13 और 16 जून को सभी भारतीय जहाजों के लिए एडवाइजरी जारी की थी और पार्याप्त कदम उठाने के लिए कहा था। नौसेना ने कहा, 'हम हिंद महासागर में भारतीय समुद्री व्यापार और जहाजों की सुरक्षा सुनिश्चि करने के लिए प्रतिबद्ध है और एक स्थिर और शांतिपूर्ण महासागर क्षेत्र को बनाए रखने में सहयोग कर रहे हैं।'

बता दें कि ओमान की खाड़ी में 13 जून को दो तेल टैंकरों पर हमला किया गया था। सैटेलाइट तस्वीरें जारी कर अमेरिका ने इस हमले के लिए ईरान को जिम्मेदार बताया था। पेंटागन की ओर से जारी की गई तस्वीरों में से एक में ईरान के सैनिक जापान के कोकुका करेजियस जहाज से विस्फोटक सामग्री हटाते हुए दिख रहे हैं। दूसरी तस्वीर में कोकुहा जहाज पर एक बड़ा छेद भी दिखाई दे रहा है।

कमेंट करें
NCME0