comScore

जनसंख्या विस्फोट को राष्ट्रीय आपातकाल मानकर इस पर हो काम : महात्मे

जनसंख्या विस्फोट को राष्ट्रीय आपातकाल मानकर इस पर हो काम : महात्मे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राज्यसभा सांसद डॉ विकास महात्मे ने तेजी से बढ़ती आबादी को राष्ट्रीय आपातकाल मानकर उसके नियंत्रण के लिए युद्धस्तर पर काम करने और इसके लिए एक आयोग स्थापित करने की मांग उठाई है। उन्होने यह मसला राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान उठाया। डॉ महात्मे ने कहा कि अगर हम अपनी जनसंख्या पर विचार करते हैं तो दो तरह की विचारधाराएं दिखाई देती हैं। एक विचारधारा कहती है कि सबसे बड़ा मनुष्यबल भारत के पास है। यह अपने आप में बड़ी उपलब्धि है क्योंकि यह मनुष्यबल काम करेगा और देश आगे बढ़ेगा। जबकि दूसरी विचारधारा जिससे मैं सहमत हूं, वह यह है कि बढ़ती हुई आबादी जनसंख्या विस्फोट है, जो कभी भी फट सकता है। सांसद ने कहा कि हमारे संसाधन, काम मिलने के अवसर, हमारी जरूरतें और हमारी जनसंख्या में साम्य नहीं है। अक्सर देखा गया है कि गरीब या आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों में बच्चों की संख्या बहुत अधिक होती है, जबकि उनके पास इन बच्चों के पालन, परवरिश और शिक्षा के लिए संसाधन नहीं होते। इसकी वजह से कुपोषण स्तर बढ़ रहा है। दूसरी तरफ शिक्षित परिवार है जिनके पास संसाधन है, लेकिन उनके बच्चे अक्सर एक या दो ही होते हैं। इससे सामाजिक विषमता बढ़ती जा रही है। ऐसी स्थिति में उनकी मांग है कि आबादी नियंत्रण के लिए युद्धस्तर पर काम हो। 

नागपुर एम्स के सदस्य बने डॉ महात्मे 

केन्द्र सरकार ने राज्यसभा सांसद डॉ विकास महात्मे को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नागपुर का सदस्य चुना है। हाल ही में सरकार ने एक परिपत्र प्रकाशित किया है जिसमें डॉ महात्मे को नागपुर एम्स का सदस्य बनाने की जानकारी दी गई है। 
 
 

कमेंट करें
IiE9g