comScore

कश्मीर को दहलाने की साजिश रच रहा पाक, POK में आतंकियों की ट्रेनिंग

कश्मीर को दहलाने की साजिश रच रहा पाक, POK में आतंकियों की ट्रेनिंग

हाईलाइट

  • धारा 370 को हटाए जाने से बौखलाया पाकिस्तान बड़ी आतंकी साजिश रच रहा है
  • पाकिस्तान ने आतंकियों को ट्रेनिंग देने के लिए कैंप स्थापित किए हैं
  • ये कैंप पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में स्थापित किए गए हैं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 को हटाए जाने से बौखलाया पाकिस्तान बड़ी आतंकी साजिश रच रहा है। अपनी दशकों पुरानी नीति पर काम करते हुए पाकिस्तान ने भारत में दहशत फैलाने के लिए एक बार फिर आतंकियों के ट्रेनिंग कैंप स्थापित किए हैं। ये कैंप पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में स्थापित किए गए हैं। पाकिस्तानी आतंकवादी समूह जमात-ए-इस्लामी इन आतंकी शिविरों का नेतृत्व कर रहा है। इसकी एक तस्वीर भी सामने आई है। 

खुफिया सूत्रों ने बताया कि रावलकोट के तरनोटी और पोथी बाला में चलाए जा रहे ट्रेनिंग कैंपों में भर्ती किए जा रहे लोगों का ब्रेन वॉश कर उन्हें भारत में हमलों को अंजाम देने के लिए तैयार किया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि जैश-ए-मोहम्मद, हिजबुल मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा सहित विभिन्न पाकिस्तानी ग्रुप के आतंकवादी अगस्त 2019 में पाकिस्तानी सेना की मदद से स्थापित इन प्रशिक्षण शिविरों का हिस्सा हैं। इन आतंकवादियों को नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार करने के लिए भी प्रशिक्षित किया जा रहा है। आतंकियों से कहा गया है कि वह J&K में जाकर धार्मिक स्थलों और सुरक्षाबलों को निशाना बनाए।

खुफिया एजेंसियों को मिले इनपुट्स के मुताबिक, हिजबुल कमांडर शमशेर खान को जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की कोशिश का जिम्मा सौंपा गया है। खान, जो एक खूंखार आतंकवादी है, सितंबर के आखिरी हफ्ते या अक्टूबर की शुरुआत में जम्मू-कश्मीर के रास्ते भारत में नए प्रशिक्षित आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की योजना बना रहा है। ट्रेनिंग कैंपों की जो तस्वीरें सामने आई है उसमें, जमात-ए-इस्लामी के नेता एजाज़ अफ़ज़ल और अदनान रज़्ज़ाक को जैश-ए-मोहम्मद और हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों के साथ तरनतार और पोथी बाला में देखा जा सकता है।

पाकिस्तान की जासूसी एजेंसी आईएसआई इन आतंकी समूहों का समर्थन कर रही है और अपने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के वज़ीरिस्तान क्षेत्र से 10,000 आतंकवादियों की भर्ती करने की कोशिश कर रही है। आईएसआई ने इन आतंकवादियों को भारत में तबाही मचाने के लिए भेजने से पहले प्रशिक्षण देने के लिए शिविर लगाए हैं। पाकिस्तान की सेना भी भारत के साथ नियंत्रण रेखा पर तनाव बढ़ाने की कोशिश कर रही है और इस क्षेत्र में 2,000 से अधिक सैनिकों की एक और ब्रिगेड को तैनात किया है। भारतीय सेना भी पाकिस्तानी सेना के ब्रिगेड पर कड़ी नजर रख रही है जो कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के बाग और कोटली में तैनात की गई है।

भारतीय खुफिया एजेंसियों के अनुसार, जम्मू-कश्मीर में बड़ी संख्या में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के मकसद से पाकिस्तानी सेना और आईएसआई ने पीओके में आतंकी शिविर स्थापित किए हैं। पीओके में कम से कम 18 आतंकी शिविरों और लॉन्च पैडों की पहचान एजेंसियों ने की है, जहां बड़ी संख्या में आतंकवादी पाकिस्तानी सेना और आईएसआई के समर्थन के साथ नियंत्रण रेखा को पार करने के लिए तैयार हैं। कुछ प्रमुख आतंकी कैंप मनशेरा, कोटली और ए -3 में हैं। मानसेरा के तहत, लॉन्च पैड बालाकोट, गढ़ी, हबीबुल्लाह, बतरसी, चेरो मंडी, शिवा नाला, मस्करा और अब्दुल्ला बिन मसूद में मौजूद हैं।

कोटली क्षेत्र में, गुलपुर, सेसा, बाराली, डूंगी और कोटली में आतंकी शिविरों और लॉन्च पैड बनाए गए हैं। ए -3 सेक्टर में, काली घाटी और हजारे में आतंकी कैंप पाए गए हैं। इनके अलावा बहावलपुर, बंबा और बरनाला में नए शिविर लगाए गए हैं।

कमेंट करें
bTyXl