comScore

राज्यपाल आनंदीबेन ने कहा- दूसरे राज्यों के अच्छे कार्यों को यूपी में भी लागू करें

राज्यपाल आनंदीबेन ने कहा- दूसरे राज्यों के अच्छे कार्यों को यूपी में भी लागू करें

हाईलाइट

  • राज्यपाल ने कहा, लखनऊ प्रतिष्ठित शहर है, इसलिए इसे स्वच्छता अभियान में ऊपर लाने का प्रयास किया जाए
  • अस्पतालों का समय-समय पर निरीक्षण करें, शिकायत प्राप्त होने पर कड़ी कार्रवाई भी की जाए

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को कहा कि अन्य राज्यों में हो रहे अच्छे कार्यों की जानकारी लेकर उन्हें उत्तर प्रदेश में भी लागू करने का प्रयास करें। राज्यपाल राजभवन में आयोजित एक बैठक में जनपद लखनऊ में चल रही शासकीय योजनाओं से सम्बन्धित जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने कहा, निर्माण कार्य को डेडलाइन तय करके करें तथा वित्तीय रिपोर्ट के साथ-साथ भौतिक सत्यापन के लिए रिपोर्ट तैयार करें। साथ ही दूसरे राज्यों के अच्छे कार्यों की जानकारी लेकर अपने प्रदेश में लागू करने का प्रयास करें।

आनंदीबेन पटेल ने कहा, प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत ऋण लेने वालों के प्रकरण लंबित न रखते हुए प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित करें। स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत निर्मित शौचालयों में पानी की उचित और निरन्तर व्यवस्था होनी चाहिए, बीच-बीच में जनता से फीडबैक लेते रहें, ताकि उसका सही प्रयोग हो सके। लखनऊ प्रतिष्ठित एवं बड़ा शहर है। इस दृष्टि से उसे स्वच्छता अभियान में ऊपर लाने का प्रयास किया जाए।

राज्यपाल ने आयुष्मान भारत के अन्तर्गत आने वाले पात्र लोगों को जोड़ने की बात कही। उन्होंने कहा, इस योजना के अन्तर्गत आने वाले सरकारी कर्मचारियों के साथ-साथ आउटसोर्सिग एवं दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को लाभ मिले। अस्पतालों का समय-समय पर निरीक्षण करें तथा शिकायत प्राप्त होने पर उन पर कड़ी कार्रवाई भी की जाए।

उन्होंने कहा, शैक्षिक-सत्र समय से शुरू करें। स्कूलों में ड्राप आउट को रोकने के लिए स्पष्ट नीति बनाएं तथा नियमित जांच के माध्यम से कुपोषित बच्चों को पौष्टिक आहार उपलब्ध कराकर कुपोषण की कमी दूर करने के प्रयास होने चाहिए। महिलाओं को प्रशिक्षण देकर स्वयं सहायता समूह से जोड़ें, ताकि वे आत्मनिर्भर बन सकें।

पटेल ने कहा, रिंग रोड के आस-पास झोपड़पट्टियों को स्थापित न होने दिया जाए, क्योंकि इससे सड़क दुर्घटना की सम्भावनाएं बढ़ जाती हैं। सड़क के किनारे पौधरोपण ऐसे कराया जाए ताकि भविष्य में सड़क चौड़ीकरण की सम्भावना रहे और चौड़ीकरण के समय हरे पेड़ काटने की नौबत न आए।

इस अवसर पर राज्यपाल के अपर मुख्य सचिव हेमंत राव, विशेष सचिव डॉ.अशोक चन्द्र, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, मुख्य विकास अधिकारी मनीष बंसल, मुख्य चिकित्साधिकारी नरेन्द्र अग्रवाल सहित योजनाओं से जुड़े अधिकारी भी उपस्थित थे।

कमेंट करें
CiIaS