पंजाब सियासत: अकाली दल और भाजपा से सांठगांठ कर रहे अमरिंदर

November 23rd, 2021

डिजिटल डेस्क, चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने मंगलवार को राज्य के हितों को नुकसान पहुंचाने के लिए अकाली दल और भाजपा के साथ साठगांठ करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की आलोचना की। बांगा कस्बे में एक जनसभा को संबोधित करते हुए चन्नी ने कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान अमरिंदर सिंह ने पंजाब के हितों को खतरे में डालकर बादल परिवार और नरेंद्र मोदी के हितों की रक्षा की थी। उन्होंने कहा कि इस वजह से कांग्रेस विधायकों ने एकजुट होकर उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी से बेदखल कर दिया। चन्नी ने कहा कि अमरिंदर सिंह द्वारा बनाई गई नई पार्टी का उद्देश्य अकालियों और भाजपा को लाभ पहुंचाना है, जिससे राज्य बर्बादी की कगार पर होगा।

अकालियों पर अनुसूचित जातियों के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अकालियों ने बसपा के साथ अपवित्र गठबंधन किया है और जानबूझकर उन्हें कमजोर सीटें आवंटित की हैं। चन्नी ने कहा कि इन सीटों पर अकाली दल जीतने के लिए बीजेपी को फायदा पहुंचाना चाह रहा है। उन्होंने कहा कि प्राथमिक मकसद यह सुनिश्चित करना है कि अनुसूचित जाति समुदाय के हितों को नुकसान पहुंचे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने उन्हें अफवाह फैलाने वाला बताया, जिन्हें राज्य की कोई परवाह नहीं है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल केवल खोखले वादे कर रहे हैं, जबकि उनकी सरकार लोगों को सुशासन और स्वच्छ प्रशासन दे रही है। चन्नी ने लोगों से कहा कि वे केजरीवाल एंड कंपनी के लंबे-चौड़े दावों से गुमराह न हों। मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्टी लाइन से हटकर राजनेताओं के एक कुलीन और अपवित्र गठजोड़ ने पंजाब को लूटने के लिए आम आदमी को सत्ता से बाहर करने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि इस कुलीन वर्ग के सदस्यों का राज्य को लूटने के लिए अपने निहित स्वार्थों के रूप में एक साझा समझौता है। चन्नी ने कहा कि हालांकि अब यह गठजोड़ टूट गया है और सत्ता आम आदमी के पास है।

(आईएएनएस)

खबरें और भी हैं...