तेलंगाना : हैदराबाद की सड़कों पर कैब, ऑटो, ट्रक दिखे नदारद

May 20th, 2022

हाईलाइट

  • मनमानी बढ़ोतरी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

डिजिटल डेस्क, हैदराबाद। हैदराबाद और तेलंगाना में कई जगहों पर सड़कों पर गुरुवार को ऑटो-रिक्शा, कैब और ट्रक गायब दिखे। दरअसल, कई यूनियन अपनी मांगों को लेकर एक दिवसीय बंद का आह्वान किया है। ऑटो, डीसीएम वैन और प्राइवेट बसों के मालिक और ड्राइवर भी एक दिवसीय बंद का हिस्सा बने।

कैब, ऑटो-रिक्शा और ट्रकों के मालिकों और ड्राइवरों की संयुक्त कार्रवाई समितियों (जेएसी) करों और जुर्माने में मनमानी बढ़ोतरी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे है। उन्होंने मांग की, कि फिटनेस सर्टिफिकेट रिन्यू नहीं कराने पर हर दिन 50 रुपये का जुर्माना सरकार तुरंत वापस ले।

यूनियन संगठनों ने खैरताबाद में सड़क परिवहन प्राधिकरण (आरटीए) कार्यालय की घेराबंदी करने का भी ऐलान किया है। पुलिस ने एहतियात के तौर पर आरटीए कार्यालय के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी है।

वाहन मालिकों और ड्राइवरों का कहना है कि डीजल, पेट्रोल और गैस की बढ़ती कीमतों ने उन पर पहले ही भारी बोझ डाल दिया है। अब ग्रीन, लाइफ, रोड टैक्स और फिटनेस पेनल्टी एक और तगड़ा झटका है। परिवहन अधिकारियों ने पिछले महीने मोटर वाहन अधिनियम 2019 के अनुसार करों और जुर्माने में संशोधन किया था।

यूनियन नेताओं का कहना है कि फिटनेस सर्टिफिकेट नवीनीकरण नहीं कराने पर अधिकारियों द्वारा जब्त किए जाने के डर से मालिक अपने वाहन बाहर नहीं निकाल रहे हैं। वहीं कैब यूनियन मोटर व्हीकल एग्रीगेटर गाइडलाइंस 2020 को लागू करने की मांग कर रही हैं। ऑटो ड्राइवर और कैब भी ईंधन की बढ़ती कीमतों के चलते मीटर किराए में संशोधन की मांग कर रहे हैं।

इस बीच, राज्य के स्वामित्व वाली तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) कैब और ऑटो की हड़ताल के मद्देनजर विशेष सेवाओं को शुरू कर रही है। टीएसआरटीसी ग्रेटर हैदराबाद जोन के अधिकारियों ने कहा कि जहां भी आवश्यकता होगी, वे मांग को पूरा करने के लिए विशेष बसों का संचालन करेंगे।

 

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.