• Dainik Bhaskar Hindi
  • Politics
  • Digvijay Singh isolated on the statement of surgical strike, Congress party and Rahul Gandhi raised their eyebrows

दिग्गी से काटी कन्नी: पुलवामा पर दिए बयान पर दिग्विजय सिंह को अपनी ही पार्टी ने दिया झटका, राहुल गांधी ने दिग्गी के बयान पर सेना का दिया साथ दिग्विजय पर उठाए सवाल

January 24th, 2023

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिग्विजय सिंह सर्जिकल स्ट्राइक और पुलवाम अटैक पर बयान देकर फंसते हुए नजर आ रहे हैं। इस बयान के बाद भाजपा ने दिग्विजय सिंह पर तुरंत हमला बोल दिया था। बीजेपी ने उनके इस बयान को गैरजिम्मेदाराना बताया था। हालांकि, इस बयान के बाद कांग्रेस पार्टी ने भी अपना अलग स्टैंड रखा है। अपने नेता के इस बयान से वह सहमत नजर नहीं आ रही है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिग्विजय सिंह के इस बयान को निजी बताया है। जिसके बाद दिग्विजय सिंह अलग-थलग पड़ते हुए नजर आ रहे हैं।  

राहुल ने दिग्विजय के बयान से झाड़ा पल्ला

दरअसल, जम्मू-कश्मीर में इन दिनों भारत जोड़ो यात्रा हैं। जहां पर राहुल गांधी ने आज पत्रकारों से बातचीत की। जम्मू में हो रही प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल से एक पत्रकार ने दिग्विजय सिंह के सर्जिकल स्ट्राइक पर दिए गए बयान को लेकर सवाल पूछा। जिसका राहुल गांधी ने जवाब दिया कि,कांग्रेस पार्टी ने इस देश को आजादी दिलाई है। जब हम देश से लड़ रहे थे तो भाजपा और आरएसएस अंग्रेजों के साथ खड़े थे। वहीं दिग्विजय ने जो कहा मैं उस बात से सहमत नहीं हूं। हमें सेना पर पूरा विश्वास है। अगर सेना कुछ करती है तो उसे सबूत देने की कोई जरूरत नहीं है। मैं व्यक्तिगत तौर पर इस बात से सहमत नहीं हूं और कांग्रेस पार्टी की ऑफिशीयल स्टेंट्मेंट यही है कि, वो दिग्विजय सिंह का खुद का ओपिनियन है। राहुल गांधी के इस बयान पर दिग्विजय अब अलग-थलग पड़ गए हैं। पार्टी ने सिंह के बयान से किनारा कर लिया है। अब देखना होगा कि दिग्विजय राहुल गांधी के इस बयान पर क्या कहते हैं? 

सर्जिकल स्ट्राइक पर उठाए थे सवाल

दिग्विजय सिंह ने सोमवार को जम्मू में एक सभा को संबोधित करते हुए सर्जिकल स्ट्राइक और पुलवामा अटैक पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि "सर्जिकल स्ट्राइक की गई, लेकिन सबूत नहीं दिखाए गए। वे केवल झूठ फैलाते हैं।" वहीं सिंह ने पुलवामा में हुए आतंकवादि घटना का जिक्र करते हुए कहा था कि "हमारे सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। हमले के बाद सीआरपीएफ के अधिकारियों ने पीएम मोदी से अनुरोध किया था कि घायल जवानों को एयलिफ्ट किया जाए, लेकिन पीएम मोदी ने हामी नहीं भरी। ऐसी चूक कैसे हुई? आज तक संसद में पुलवामा पर कोई रिपोर्ट नहीं रखी गई।" दिग्विजय के इस बयान के बाद भाजपा हमलावर नजर आई थी और इनके बयान को गैरजिम्मेदाराना ठहराया था।