क्या मोदी ने गलत बोला?: पूर्व सीएम श्रीपति मिश्रा के बेटे ने लगाया आरोप, कांग्रेस ने साधा निशाना

November 18th, 2021

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते मंगलवार को यूपी के सुल्तानपुर पहुंचकर पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का उद्धाटन किया और  प्रदेश की जनता को बड़ी सौगात दी थी। लेकिन यहां से पीएम मोदी चुनावी बिगुल भी फूंकते दिखे। मोदी ने अपने संबोधन में राजनीतिक गरमी तब बढ़ा दी थी जब सुल्तानपुर के रहने वाले कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री श्रीपति मिश्रा का नाम लिया और उनके अपमान का जिक्र किया था। मोदी ने सपा व कांग्रेस को परिवारवादी बताते हुए श्रीपति मिश्रा के अपमान का मुद्दा उठाया। इस मौके पर पूर्व सीएम श्रीपति मिश्रा का नाम लेकर मोदी ने यूपी विधानसभा चुनाव में ब्राह्मण कार्ड खेला था। लेकिन बृहस्पतिवार को पूर्व सीएम श्रीपति मिश्र के बेटे प्रमोद मिश्र के बयान ने कांग्रेस को मोदी पर हमला बोलने का बड़ा मौका दे दिया है। फिर कांग्रेस कहां पीछे हटने वाली है।


पूर्व सीएम श्रीपति मिश्र के बेटे ने किया पलटवार

आपको बता दें कि कांग्रेस ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें पूर्व सीएम श्रीपति मिश्र के बेटे प्रमोद मिश्र ने पीएम मोदी के उस बयान पर पलटवार किया है, जिसमें मोदी ने पूर्व सीएम श्रीपति मिश्र के अपमान का जिक्र किया था, उन्होंने कहा था कि जिनका जमीनी अनुभव और कर्मशीलता ही पूंजी थी, परिवार के दरबारियों ने उनको अपमानित किया,ऐसे कर्मयोगियों का अपमान यूपी की जनता भुला नहीं सकती। हालांकि पीएम के बयान के दो दिन बाद ही श्रीपति मिश्र के बेटे प्रमोद मिश्र ने मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि पिता जी को इंदिरा जी ने और राजीव जी ने जो सम्मान दिया उससे ज्यादा कहीं और नहीं मिल सकता था। अपने जीवन के अंतकाल तक नेहरू परिवार ने उनका कभी अपमान नहीं किया, अपमान तो भाजपा ने हमारे बड़े भाई साहब का किया है।

सीएम पद से इस्तीफा देने की बनी थी वजह!

आपको बता दें कि श्रीपति मिश्र के राजनीतिक जीवन का सबसे महत्वपूर्ण साल 1982 का आता है, जब वीपी सिंह के इस्तीफे के बाद इंदिरा गांधी ने उन्हें यूपी का सीएम बना दिया था। माना जाता है कि संजय गांधी से श्रीपति मिश्र के अच्छे रिश्ते थे, जिसके चलते वह सीएम बनाए गए थे। हालांकि इस दौरान कई मुद्दों पर उनकी अरुण नेहरू और राजीव गांधी से बात बिगड़ गई और उन्हें पद छोड़ना पड़ गया था। मोदी परिवारवाद के इसी मुद्दे को यूपी के सुल्तानपुर से उछाला जहां पर वह मंगलवार को पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का उद्धाटन करने पहुंचे थे। बता दें कि श्रीपति मिश्र उन आखिरी ब्राह्मण नेताओं में से थे, जो यूपी के सीएम बने थे। 

खबरें और भी हैं...