राहुल गांधी का RSS-BJP पर हमला: कांग्रेस सांसद ने कहा- ये लोग हिंदू नहीं हैं, ये सिर्फ हिंदू धर्म का इस्तेमाल करते हैं

September 15th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने बीजेपी और आरएसएस पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने  कहा कि ये लोग हिंदू नहीं हैं, ये सिर्फ हिंदू धर्म का इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने कांग्रेस की महिला इकाई ‘अखिल भारतीय महिला कांग्रेस’ के स्थापना दिवस समारोह में दावा किया कि आरएसएस और बीजेपी के लोग ‘महिला शक्ति’ को दबा रहे हैं और भय का माहौल पैदा कर रहे हैं।

राहुल गांधी ने कहा, महात्मा गांधी जी की फोटो में आपको तीन से चार महिलाएं दिखेंगी ही दिखेंगी; कभी आपने मोहन भागवत जी के साथ किसी महिला की फोटो देखी है? नहीं देखी; क्योंकि इनका संगठन महिला शक्ति का दमन करता है और हमारा संगठन महिला शक्ति को एक मंच देता है। मंच पर राहुल ने कांग्रेस का चुनाव चिन्ह दिखाते हुए कहा, ये जो कांग्रेस का निशान है, 'हाथ का चिह्न', ये चिह्न आपको हर धर्म की तस्वीरों में दिखाई देगा। इस चिह्न का मतलब है- 'सच्चाई से डरो मत' और भाजपा की विचारधारा है 'डरो और डराओ'; इनके मन में जो डर था, वो इन्होंने पूरे देश में फैला दिया है।

राहुल गांधी ने कहा, नफरत से नहीं लड़ना है; नफरत हमारा औजार नहीं है, हमारा औजार 'प्यार' है; जिस दिन हमने नफरत से लड़ना शुरू किया तो इसका मतलब हम 'डर' गए; नफरत डर का ही एक रूप है और जिस दिन हमने नफरत दिखाई हम कांग्रेसी नहीं रहे। नरेंद्र मोदी ने, जिस शक्ति को हम लक्ष्मी, दुर्गा और सरस्वती कहते हैं, उस पर आक्रमण किया है; ये है आपका चिह्न (कांग्रेस का चिह्न), किसी व्यक्ति या किसी चीज़ से आपको डरने की ज़रूरत नहीं है; अगर किसी को डरने की ज़रूरत है, तो वो उन्हें है, वो भी 'आपसे'। 

राहुल गांधी ने कहा, हम बस एक चीज़ देखते हैं कि वह व्यक्ति डरा या नहीं; अगर वह नहीं डरा तो स्पष्ट है कि कांग्रेसी है और अगर डर गया तो डर को निकालना है और उसे कांग्रेसी बनाना है। नरेंद्र मोदी जी और RSS ने महिला को हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री नहीं बनाया; कांग्रेस पार्टी ने बनाया है; तो हमारे लिए चाहे वह महिला हो या पुरुष, दलित हो या आदिवासी या किसी भी प्रदेश का हो, हमारे लिए सब 'एक' हैं। भाजपा अपने आप को एक हिन्दू पार्टी कहती है और पूरे देश में दुर्गा जी और लक्ष्मी जी पर आक्रमण करते हैं; जहाँ भी यह जाते हैं तो कहीं दुर्गा को मारा जाता है तो कहीं लक्ष्मी को मारा जाता है। राहुल ने कहा, लक्ष्मी - जो लक्ष्य को पूरा करे उस शक्ति को हम लक्ष्मी कहते हैदुर्गा - जो रक्षा करने का काम करे उस शक्ति को हम दुर्गा कहते हैं। 

राहुल गांधी ने कहा, यह एक राजनेता का काम होता है कि वो बिना किसी भेदभाव के इन शक्तियों को प्रत्येक व्यक्ति, प्रत्येक घर तक पहुंचाए। अगर महात्मा गांधी जी ने हिन्दू धर्म को समझा और उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी हिन्दू धर्म को समझने में लगा दी तो RSS की विचारधारा ने उस हिन्दू की छाती में तीन गोली क्यों मारी? पिछले 100-200 सालों में अगर किसी एक व्यक्ति ने हिन्दू धर्म को समझा हो और उसे अपना अभ्यास बनाया है तो वो केवल महात्मा गांधी जी हैं; इसे हम भी मानते हैं और भाजपा-RSS के लोग भी मानते हैं

राहुल गांधी ने कहा,  'महात्मा गांधी' को पूरी दुनिया एक उदाहरण मानती है; मंडेला से लेकर और मार्टिन लूथर किंग तक कहते हैं कि हाँ, 'महात्मा गांधी' एक उदाहरण थे और 'महात्मा गांधी' जी ने अहिंसा को बहुत अच्छी तरह से समझा और सिखाया। भाजपा-RSS और हमारी विचारधारा अलग है।कांग्रेस का कार्यकर्ता होने के नाते मैं यह बात समझ सकता हूँ कि मैं बाक़ी विचारधाराओं के साथ कोई न कोई समझौता कर सकता हूँ, लेकिन मैं भाजपा और RSS की विचारधारा के साथ कभी भी समझौता नहीं कर सकता। 

 

खबरें और भी हैं...