नई दिल्ली: बीजेपी की ओर से राष्ट्रपति के प्रबल दावेदार केरल राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान!

June 10th, 2022

हाईलाइट

  • कट्टर इस्लाम का कट्टर विरोध

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  राष्ट्रपति चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद से ही राजनीति में दावेदारों के नाम को लेकर चर्चा जोर शोर से होने लगी। इस समय केंद्र के साथ साथ ज्यादातर राज्यों की सत्ता संभाल रही बीजेपी में राष्ट्रपति चेहरे के साथ जाति वोटरों को  साधने पर फोकस  है।
इस साल के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने है, साथी ही 2023 में कई राज्यों में चुनाव होने वाले है। उसके बाद 2024 में लोकसभा चुनाव होने है। इन्हें देखते हुए बीजेपी समाज के चेहरें के  सहारे सियासी गद्दी पाना चाहेंगी। इस समय दो समुदायों पर ही चर्चा तेज है , एक तो आदिवासी और दूसरा मुस्लिम। वैसे बीजेपी को मुस्लिम विरोधी पार्टी के तौर पर देखा जाता रहा है। लेकिन हाल ही के चुनावों  में नए चेहरों पर दांव खेलकर बीजेपी ने हर किसी राजनैतिक पार्टी को सोचने के लिए मजबूर किया है। वैसे कई दफा बीजेपी ने उन चेहरों को मौका दिया है जिनके बारे में सोचना तो दूर संभावना भी नजर नहीं आती है। 

                                        

इस वक्त बीजेपी को मुस्लिम विरोधी पार्टी के तौर पर प्रमुखता से देखा जाता है , विपक्ष कई मौकों पर मंच से बीजेपी पर ऐसे आरोप लगाता रहा है। हाल ही बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा के पैगंबर पर दिए विवादित बयान के बाद दुनियाभर के मुस्लिम देशों ने अपना विरोध दर्ज कराया है। ऐसे में बीजेपी हर हाल में चाहेगी की दुनिया के सामने उनकी  जो इमेज धूमिल हुई है उसे खत्म किया जाए। इससे पहले घाटी से 370 हटाने, राम मंदिर और तीन तलाक कानून को लेकर मुस्लिम समुदाय बीजेपी को विद्रोही भावना से देखते है। 
ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये बनता है कि यदि बीजेपी ने मुस्लिम चेहरे पर दांव खेला , तो सबसे प्रबल दावेदार कौन होगा। ऐसे में राजनैतिक गलियारों में सबसे प्रमुख चेहरों में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान का नाम सबसे टौप पर  है।