comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मप्र : इंदिरा इज बैक के सियासी मायने

January 12th, 2020 15:30 IST
 मप्र : इंदिरा इज बैक के सियासी मायने

हाईलाइट

  • मप्र : इंदिरा इज बैक के सियासी मायने

भोपाल, 12 जनवरी (आईएएनएस)। कांग्रेस में राहुल गांधी को फिर पार्टी अध्यक्ष की कमान सौंपने की चल रही कवायद के बीच महासचिव प्रियंका गांधी के जन्म दिन पर इंदिरा इज बैक का नारा बुलंद हुआ है। इस नारे के सियासी मायने खोजे जाने लगे हैं। सवाल उठ रहा है कि क्या कांग्रेस के भीतर ही गांधी परिवार को लेकर दो धाराएं चल पड़ी हैं।

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद पार्टी की कमान सोनिया गांधी संभाले हुए हैं। वहीं दूसरी ओर प्रियंका गांधी को महासचिव के साथ पूरे उत्तर प्रदेश का प्रभारी बना दिया गया है और वह उत्तर प्रदेश में लगातार सक्रियता हैं।

प्रियंका गांधी का रविवार 12 जनवरी को जन्मदिन मनाया जा रहा है। इस मौके पर मध्य प्रदेश सहित देश के अन्य राज्यों के समाचार पत्रों में कांग्रेसजनों की ओर से बड़े-बड़े इश्तिहार जारी किए गए हैं। इन इश्तिहारों में इंदिरा इज बैक का नारा बुलंद किया गया है। साथ ही इंदिरा गांधी के साथ प्रियंका की तस्वीर लगाई गई है। इन तस्वीरों के जरिए इंदिरा गांधी का रूप प्रियंका में दिखाने की कोशिश नजर आती है। इंदिरा गांधी की श्वेत-श्याम तस्वीर तो प्रियंका की रंगीन तस्वीर है। साथ ही लिखा है, वही दूरदर्शिता, वही निष्ठा, वही इच्छाशक्ति, सभी धर्मो और समाज को एक साथ विकास की दिशा में लाने का जज्बा।

कांग्रेस के मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा इस बारे में कहती हैं, प्रियंका गांधी के जन्मदिन पर जारी विज्ञापन में राजनीति नहीं खोजी जानी चाहिए। प्रियंका जी की कार्यशैली और उनके तौर-तरीके में इंदिरा गांधी की छवि झलकती है। भावनात्मक तौर पर कार्यकर्ताओं को प्रिंयका में इंदिरा नजर आती हैं। उसी भाव को कार्यकर्ताओं ने अपनी ओर से व्यक्त किया है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और खाद्य आपूर्ति निगम के पूर्व अध्यक्ष डॉ. हितेश वाजपेयी इस पर तंज सकते हैं और कहते हैं, कांग्रेस में सब कुछ एक परिवार है, उसी से सब तय होना है। जिसे भी राजनीति करनी है उसे सोनिया, राहुल और प्रियंका का संरक्षण हासिल करना जरूरी है। राहुल गांधी क्या हैं, यह सबके सामने आ गया है। एक वर्ग प्रियंका के करीब पहुंचना चाहता है। इसके लिए भक्ति दिखाने की होड़ है और उसी का हिस्सा है यह विज्ञापनबाजी।

राजनीतिक विश्लेशक रवींद्र व्यास का कहना है, कांग्रेस ने राजनीतिक लाभ के लिए यह विज्ञापन जारी किया है। कांग्रेस ने प्रियंका के जन्मदिन पर इंदिरा गांधी को भुनाने की कोशिश की है। मगर सवाल उठ रहा है कि नई पीढ़ी कितना जानती है इंदिरा गांधी को। कांग्रेस को अपने पुराने नेताओं द्वारा देश को दिए गए योगदान के प्रचार के दूसरे रास्ते भी तलाशना होंगे, यह विज्ञापनबाजी तो नेता अपने राजनीतिक लाभ और स्वार्थ के लिए करते हैं। इनका स्थायी असर नहीं होता।

ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित कई बड़े नेता राहुल गांधी को फिर से पार्टी की कमान सौंपे जाने की वकालत करते आ रहे हैं।

कमेंट करें
TeCwZ
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।