राजनैतिक यात्रा : द्रमुक के कुशासन के खिलाफ राज्य का दौरा करेंगे पलानीस्वामी

July 16th, 2022

हाईलाइट

  • पलानीस्वामी अन्नाद्रमुक के एकल नेता के रूप में उभरे हैं

डिजिटल डेस्क, चेन्नई। अन्नाद्रमुक के नवनिर्वाचित महासचिव एडप्पादी के. पलानीस्वामी जल्द ही द्रमुक सरकार के कुशासन के खिलाफ राज्यव्यापी यात्रा करेंगे। हालांकि घोषणा खुले में नहीं आई है, विपक्षी दल के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि ईपीएस ने जुलाई के अंत से यात्रा शुरू करने का फैसला किया है और वह द्रमुक सरकार पर हमला करेगी।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि पलानीस्वामी अन्नाद्रमुक के एकल नेता के रूप में उभरे हैं, जब 11 जुलाई को पार्टी की आम परिषद की बैठक में उन्हें पार्टी का अंतरिम महासचिव नियुक्त किया गया था। इसने पार्टी सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता के निधन के बाद पलानीस्वामी और ओ. पनीरसेल्वम के नेतृत्व वाली पार्टी के दोहरे नेतृत्व को समाप्त कर दिया है।

अन्नाद्रमुक के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि डीएमके पर हमला करने के बजाय यात्रा का मुख्य उद्देश्य ओ.पनीरसेल्वम के पार्टी से निष्कासन के बाद जमीनी स्तर पर पानी की जांच करना है। पन्नीरसेल्वम, वी.के. शशिकला और टीटीवी दिनाकरण, सभी प्रमुख थेवर नेता, अन्नाद्रमुक से बाहर, पार्टी ने थेवर समुदाय के अपने पारंपरिक समर्थन आधार को कम कर दिया है जो दक्षिणी तमिलनाडु में इसका मुख्य आधार रहा है।

शुक्रवार को सलेम में एक सार्वजनिक कार्यक्रम में, एडप्पादी के. पलानीस्वामी ने पर्याप्त संकेत दिए हैं कि पार्टी डीएमके के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन अपनी शक्तियों का इस्तेमाल अन्नाद्रमुक को पंगु बनाने के लिए कर रहे थे और पार्टी इसकी अनुमति नहीं देगी।

तमिलनाडु के राजनीतिक परि²श्य में आने वाले दिन दिलचस्प होंगे, क्योंकि ईपीएस समर्थन बढ़ाने और डीएमके और ओपीएस और उनके करीबी सहयोगियों पर हमला करने के लिए एक यात्रा शुरू करने के लिए अदालतों और भारत के चुनाव आयोग को पार्टी में पैर जमाने के लिए इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा है।

 

 (आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

खबरें और भी हैं...