comScore

राज्यसभा शपथ ग्रहण: सिंधिया, दिग्विजय समेत नवनिर्वाचित 45 सांसदों ने ली शपथ

राज्यसभा शपथ ग्रहण: सिंधिया, दिग्विजय समेत नवनिर्वाचित 45 सांसदों ने ली शपथ

हाईलाइट

  • राज्यसभा के नवनिर्वाचित 61 में से 45 सदस्यों ने ली शपथ
  • सभापति वेंकैया नायडू ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राज्यसभा के नवनिर्वाचित 61 में से 45 सदस्यों ने आज (22 जुलाई) शपथ ग्रहण की। राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू अपने चेंबर में सभी सदस्यों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। शपथ लेने वालों में एनसीपी नेता शरद पवार, मध्य प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह, कांग्रेस से बीजेपी में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया, शिवसेना की प्रियंका चतुर्वेदी और मल्लिकार्जुन खड़गे प्रमुख रहे। अनुपस्थित 16 सदस्य अब मानसून सत्र के दौरान शपथ लेंगे।

पहली बार हाउस चैंबर में हुआ शपथ ग्रहण
बता दें कि, इस बार चुने गए 61 सदस्यों में से 43 सदस्य पहली बार राज्यसभा पहुंचे हैं। अब सदन में बीजेपी सांसदों की संख्या 75 से बढ़कर 86 हो गई है। दरअसल संसद सत्र चालू नहीं होने की स्थिति में शपथ अध्यक्ष के कक्ष में होती है, लेकिन पहली बार शपथ ग्रहण हाउस चैंबर में हुआ। कोरोना के कारण इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरी तरह ध्यान रखा गया। हर सदस्य को सिर्फ एक गेस्ट साथ में लाने की इजाजत थी। यह पहली बार है जब दो संसद सत्रों के बीच में नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाई गई। अमूमन शपथ ग्रहण समारोह संसद सत्र के दौरान होता है।

नवनिर्वाचित सांसदों को संबोधित करते हुए उपराष्ट्रपति और सभापति एम वेंकैया नायडू ने कहा, देश के विधि निर्माता के रूप में आपका चुनाव हुआ है। अपने दायित्व के निर्वहन में आप सुनिश्चित करें कि सदन में आपका आचरण नियमों के अनुकूल हो, स्थापित मानदंडों के अनुरूप हो और सदन के बाहर आपका आचरण नैतिकता के मानदंडों के अनुसार हो।

उन्होंने कहा, राज्य सभा के सदस्य के रूप में आपका कार्यकाल विधि और न्याय मंत्रालय की अधिसूचना के साथ ही प्रारंभ हो गया है, लेकिन आप शपथ लिए बिना इस सदन और इसकी समितियों की बैठकों में भाग नहीं ले सकते थे। सभापति ने कहा, नियमित द्विवर्षीय चुनावों और उपचुनावों में 20 राज्यों से 61 स्थानों पर निर्वाचन हुआ था, जिनमें कुछ अनुभवी लेकिन काफी संख्या में पहली बार बने नए सदस्य निर्वाचित हुए।

राज्यसभा के लिए चुने गए नए सदस्यों में बीजेपी के 17 और कांग्रेस के 9 हैं। बीजद और वाईएसआर कांग्रेस के चार-चार, जेडीयू के तीन, अन्नाद्रमुक और द्रमुक ने तीन-तीन, एनसीपी, आरजेडी और टीआरएस ने दो-दो और शेष सीटें अन्य ने जीतीं। इन नए सदस्यों में से 43 पहली बार चुने गए हैं। बाकी सदस्यों ने दोबारा राज्यसभा में वापसी की है।

गौरतलब है कि कोविड-19 के प्रकोप के बीच राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण शपथ ग्रहण समारोह को पहले स्थगित कर दिया गया था। राज्यसभा में खाली सीटों के लिए मतदान जून 2020 में हुआ था।

कमेंट करें
NgMvL