बीजेपी राजस्थान में कलह: वसुंधरा के धार्मिक यात्रा से बीजेपी में मची हलचल, दिसंबर में आ रहे हैं शाह 

November 29th, 2021

डिजिटल डेस्क, जयपुर। राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने छह जिलों में अपनी चार दिवसीय धार्मिक यात्रा समाप्त करने के बाद भाजपा की राजस्थान इकाई में टकराव खुले तौर पर सामने आए हैं। बता दें कि प्रदेश नेतृत्व ने इसे  राजे के बीजेपी के समानांतर संगठन बनाने का प्रयास बताते हुए खुद को अलग कर लिया। राजे ने पिछले सप्ताह एक "धार्मिक यात्रा" शुरू की थी, जिसमें उन्होंने राजस्थान के सभी मंदिरों में पूजा की और भाजपा नेताओं के परिजनों से मुलाकात की, जिन्होंने कोविड-19 महामारी के दौरान अपनी जान गंवाई थी। इस यात्रा के दौरान राजे के काफी ज्यादा जनसमर्थन मिला था। बताया जा रहा है कि वसुंधरा राजे जनसमर्थन के माध्यम से अपने को सीएम चेहरे के लिए आगे करना चाह रही हैं। 

यात्रा को लेकर केंद्रीय आलाकमान को भेजा जाएगा रिपोर्ट

आपको बता दें कि वसुंधरा राजे के इस यात्रा पर राज्य इकाई ने केंद्रीय नेतृत्व को एक रिपोर्ट भेजने का फैसला किया है। जिसमें जनसभाओं का आयोजन किया गया था। इस यात्रा में भाग लेने वाले भाजपा विधायकों, सांसदों और पूर्व विधायकों की सूची भी भेजी जाएगी। पार्टी के झंडे का इस्तेमाल विभिन्न बैठकों के दौरान के प्रदर्शित पोस्टरों के प्रकार और नारेबाजी की भी जानकारी दी जाएगी। राज्य नेतृत्व को राजे की जिस बात ने परेशान किया, वह यह है कि यात्रा में कई विधायकों और सांसदों की भागीदारी और जबरदस्त सार्वजनिक प्रतिक्रिया देखी गई।

दिसंबर में आ रहे हैं शाह

बता दें कि वसुंधरा राजे की यात्रा के बाद से राजस्थान राज्य इकाई में हलचल मचा है। बताया जा रहा है कि पार्टी कार्यकर्ताओं की अनुशासन क्लास लेने खुद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पहुंच रहे हैं। पांच दिसंबर को जयपुर मे शाह 10 हजार से अधिक जनप्रतिनिधियों को संबोधित करेंगे।