दैनिक भास्कर हिंदी: बदलेगा टेस्ट मैचों का 'टेस्ट', पहली बार खेला जा रहा 4 दिनों का मैच

December 26th, 2017

डिजिटल डेस्क, जोहान्सबर्ग। इंटरनेशन क्रिकेट हिस्ट्री में पहली बार 4 दिन का टेस्ट मैच खेला जा रहा है। 4 दिन का ये पहला टेस्ट साउथ अफ्रीका और जिंबाब्वे के बीच 26 दिसंबर से खेला जा रहा है, जो 29 दिसंबर तक चलेगा। ये टेस्ट मैच साउथ अफ्रीका के पोर्ट एलिजाबेथ में खेला जा रहा है। 140 साल की क्रिकेट हिस्ट्री में ये पहली बार है, जब कोई दो टीमें 4 दिन का टेस्ट मैच खेल रही हैं। बता दें कि जिंबाब्वे के खिलाफ 4 दिन का टेस्ट मैच खेलने के बाद साउथ अफ्रीका 5 जनवरी से टीम इंडिया के साथ टेस्ट सीरीज खेलेगी।


क्या है इसकी वजह? 

दरअसल, क्रिकेट एक्सपर्ट्स का मानना है कि क्रिकेट में वनडे और टी-20 के आ जाने के बाद से टेस्ट क्रिकेट पर इसका असर पड़ा है। इसके अलावा ये भी कहा जा रहा है कि पहले ज्यादातर टेस्ट मैच ड्रॉ हो जाते थे, लेकिन अब ज्यादा टेस्ट मैचों के रिजल्ट निकलते थे। इसका कारण है कि अब टेस्ट मैच तीसरे या चौथे दिन ही खत्म हो जाते हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि अब बहुत ही कम टेस्ट मैच 5वें दिन तक जाते हैं।

ट्रायल के तौर पर होगा 4 दिन का टेस्ट

इसी साल अक्टूबर में हुई इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) की मीटिंग में साउथ अफ्रीका और जिंबाब्वे के बीच 4 दिन का टेस्ट मैच कराने की मंजूरी दी गई थी। उस वक्त ICC का कहना था कि 4 दिन का टेस्ट मैच ट्रायल के तौर पर खेला जाएगा। फिलहाल, साउथ अफ्रीका और जिंबाब्वे को ही 4 दिन का टेस्ट मैच खेलने की मंजूरी दी गई है। दोनों टीमों के बीच होने वाले इस टेस्ट मैच में गुलाबी कलर की बॉल का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके साथ ही इस मैच के लिए कई नियमों में भी बदलाव किए गए हैं। बता दें कि दोनों टीमों के बीच ये 4 दिन का टेस्ट मैच 26 से 29 दिसंबर तक चलेगा।

कौन-कौन से नियमों में हुआ है बदलाव? 

साउथ अफ्रीका और जिंबाब्वे के बीच होने वाले इस 4 दिन के टेस्ट मैच के लिए 3 नियमों में बदलाव किए गए हैं। इनमें जो पहला नियम है वो ये है कि 'इस टेस्ट मैच में हर रोज 98 ओवर का खेल खेला जाएगा, जबकि 5 दिन के टेस्ट में 90 ओवर का खेल होता है।' दूसरा नियम ये है कि 'इस टेस्ट मैच में रोज आधे घंटे का ज्यादा होगा, यानी कि 6 घंटे की बजाय साढ़े 6 घंटे का खेल होगा।' इसके अलावा जो तीसरा और आखिरी नियम है, वो ये है कि 'पहले दो सेशन सवा 2 घंटे और तीसरा सेशन 2 घंटे का होगा। अभी तीनों सेशन 2 घंटे के होते हैं।'

ICC का क्या था कहना? 

अक्टूबर में ऑकलैंड में हुई मीटिंग के बाद ICC ने कई अहम फैसलों को मंजूरी दी थी। इसमें 4 दिन का टेस्ट कराने का भी एक फैसला था। इस फैसले पर ICC के चीफ एक्जीक्यूटिव डेव रिचर्डसन का कहना था कि, '4 दिन का टेस्ट मैच होने से नए टेस्ट खेलने वाले देशों को काफी फायदा होगा। इस फैसले से छोटी टीमों को मजबूत टीमों के साथ टेस्ट मैच खेलने का मौका मिलेगा इससे उनके खेल में सुधार आएगा।' डेव रिचर्डसन ने ये भी कहा था कि, '2019 वर्ल्ड कप से पहले सभी मेंबर 4 दिन के टेस्ट को ट्रायल के तौर पर खेल सकते हैं।'

2019 से शुरू होगी टेस्ट चैंपियनशिप

ICC के नए फैसले के मुताबिक, साल 2019 से 2021 तक 2 सालों के बीच 9 टीमें टेस्ट चैंपियनशिप में हिस्सा लेंगी। हर टीम इन 2 सालों में 6 सीरीज खेलेगी। इस सीरीज के 3 मैच होम ग्राउंड पर जबकि बाकी के 3 मैच विदेश में खेलने होंगे। इसके साथ ही हर सीरीज में टीमें कम से कम 2 टेस्ट और ज्यादा से ज्यादा 5 टेस्ट खेल सकती है। ये सभी मैच 5 दिन के होंगे और इनके आखिरी में वर्ल्ड टेस्ट लीग चैंपियनशिप का फाइनल खेला जाएगा।

वनडे लीग भी होगी 

वनडे लीग में 13 टीमें हिस्सा लेंगी। इस लीग में खेलकर टीमें वर्ल्ड कप के लिए सीधे क्वालिफाय कर सकती हैं। इस लीग में हर टीम 8 सीरीज खेलेगी, जिसमें से 4 सीरीज होम ग्राउंड पर और बाकी की 4 सीरीज विदेशी ग्राउंड पर खेलेगी। इस लीग में जो टीम जीतेगी, वो वर्ल्ड कप के लिए डायरेक्ट क्वालिफाय कर जाएगी। वनडे लीग भी टेस्ट चैंपियनशिप की तरह ही 2 साल तक चलेगी, जो 2020-21 से शुरू होगी और 2023 के वर्ल्ड कप से पहले खत्म हो जाएगी।