comScore

IPL-13 : लंबे सूखे को खत्म करना चाहेगी कोहली सेना

September 18th, 2020 09:24 IST
IPL-13 : लंबे सूखे को खत्म करना चाहेगी कोहली सेना

हाईलाइट

  • आईपीएल-13 : लंबे सूखे को खत्म करना चाहेगी कोहली सेना (टीम प्रीव्यू)

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने आईपीएल के 12 साल के इतिहास में एक भी खिताब अपने नाम नहीं किया है। वह तीन बार आईपीएल के फाइनल में पहुंची है लेकिन चमचमाती आईपीएल ट्रॉफी के करीब तक नहीं। बेंगलोर ने कहोली की कप्तानी में आखिरी बार 2016 में आईपीएल फाइनल खेला था, तब से टीम का हालत हर सीजन बुरी ही होती गई है।

कोहली के अलावा अब्राहम डिविलियर्स जैसा स्टार होने के बाद भी बेंगलोर का प्रदर्शन निचले स्तर का ही रहा है। इसका एक अहम कारण टीम की कोहली और डिविलियर्स पर अति निर्भरता है। इस सीजन कोहली चाहेंगे कि ऐसा न हो और एक सही संयोजन टीम को मिल सके जो हर स्थिति में टीम को जीत दिला सके।

इस सीजन बेंगलोर ने कुछ और बड़े नाम शामिल किए हैं जो कोहली और डिविलयर्स पर से भार हटा सकते हैं और इनमें से एक नाम है एरॉन फिंच। आस्ट्रेलिया की सीमित ओवरों की टीम के कप्तान फिंच टी-20 के खतरनाक बल्लेबाजों में गिने जाते हैं। उनके आने से टीम को कोहली और डिविलियर्स के अलावा एक और मजबूत बल्लेबाज मिलेगा।

वहीं बिग बैश लीग (बीबीएल) में सिडनी सिक्सर्स के लिए खेलने वाले जोश फिलिपे भी टीम में आए हैं और वो टीम के लिए कारगर साबित हो सकते हैं। कोहली अगर फिंच, डिविलयर्स और फिलिपे तीनों को अंतिम-11 में जगह देते हैं तो फिर उनके पास एक ही विदेशी खिलाड़ी को टीम में शामिल करने का विकल्प होगा और ऐसे में उन्हें गेंदबाजी में डेल स्टेन, क्रिस मौरिस, एडम जाम्पा, इसुरु उदाना में से किसी एक को ही चुनना होगा।

कोहली अगर फिलिपे को बाहर बैठाते हैं तो यह अचरच की बात नहीं होगी। टीम में जाम्पा तो आए हैं लेकिन उन्हें युजवेंद्र चहल के ऊपर तरजीह दी जाए यह संभव नहीं दिखता है। चहल को कुछ होता है तो ही जाम्पा को मौका मिल सकता है। दोनों एक साथ खेलें, इसकी संभावना न के बराबर है।

वहीं मध्य क्रम को मजबूत करने और स्पिन की ताकत बढ़ाने के लिए मोइन अली टीम के लिए अहम हैं। यहां भी कोहली को माथापच्ची करनी पड़ेगी कि वो मोइन को किस तरह अंतिम-11 में शामिल करें। तेज गेंदबाजी में उमेश यादव और नवदीप सैनी पर भी काफी कुछ निर्भर रहेगा।

टीम : विराट कोहली (कप्तान), अब्राहम डिविलियर्स, गुरकीरत मान, देवदूत पडीकल, एरॉन फिंच, युजवेंद्र चहल, मोहम्मद सिराज, उमेश यादव, नवदीप सैनी, केन रिचर्डसन, डेल स्टेन, इसुरु उदाना, मोइन अली, पवन नेगी, शिवम दुबे, वॉशिंगटन सुंदर, क्रिस मौरिस, पवन देशपांडे, पार्थिव पटेल (विकेटकीपर), जोशुआ फिलिपे (विकेटकीपर), शाहबाज अहमद।

कमेंट करें
Thtfo
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।