comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

श्रीसंत ने शेयर किये तिहाड़ के अनुभव, कहा- कई बार आया ख़ुदकुशी का ख्याल

श्रीसंत ने शेयर किये तिहाड़ के अनुभव, कहा- कई बार आया ख़ुदकुशी का ख्याल

हाईलाइट

  • कई बार आया खुदकुशी करने का ख्याल: श्रीसंत
  • श्रीसंत को जेल में खानी पड़ी गालियां
  • लगा था 7 साल का बैन
  • अगले साल खत्म होगा बैन

डिजिटल डेस्क नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज एस श्रीसंत ने हाल ही में एक अंग्रेजी अख़बार को अपना इंटरव्यू दिया है। इस दौरान श्रीसंत ने अपने बीते बुरे वक्त की खुलकर बात की। उन्होंने तिहाड़ जेल में बिताए 26 दिनों के अनुभवों को शेयर करते हुए बताया कि जेल से आने के बाद वह लंबे समय तक डिप्रेशन में रहे और कई बार उन्हें खुदकुशी करने का ख्याल भी आया।

अपने इंटरव्यू में श्रीसंत ने बताया कि जब वह जेल में थे तब एक कैदी उन्हें बहुत गालियां देता था। श्रीसंत ने बताया कि वह कैदी बलात्कार और हत्या का आरोपी था और उसका हर दूसरा शब्द गाली ही होता था। जिससे श्रीसंत डरते भी बहुत थे। उन्होंने जेल में एक गाना लिखने की बात भी कही।

श्रीसंत ने कहा कि 'जब मैं जेल से बाहर आया तो काफी समय तक डिप्रेशन में रहा। मैं रात भर सो नहीं पाता था और बिना बात के ही रो पड़ता था।' इन सबके चलते उन्हें खास थेरेपी भी लेनी पड़ी थी। श्रीसंत पर बैन लगाने और उनके जेल जाने पर उन्होंने कहा कि 'मैं यह नहीं सोचता था कि मेरे साथ ऐसा क्यों हुआ ? मैं सोचता था कि ऐसा हो कैसे सकता है ? क्या मैंने कभी कुछ गलत किया जिस कारण मेरे साथ ये सब हो रहा है ? लेकिन मुझे कभी कोई जवाब नहीं मिल सका।' श्रीसंत के मुताबिक उन्हें डिप्रेशन से बाहर निकलने के लिए संगीत ने उनकी मदद की।

मैच फिक्सिंग करने वाले कई खिलाड़ी खेल रहे क्रिकेट
मैच फिक्सिंग के मुद्दे पर श्रीसंत ने बताया कि जिन खिलाड़ियों ने मैच फिक्सिंग की, वह अभी भी अपने चेहरे पर मुस्कान लिए क्रिकेट खेल रहे हैं। श्रीसंत ने कहा कि 'मैं सबूतों के साथ इन खिलाड़ियों के नाम बता सकता हूं लेकिन मैं ऐसा करूंगा नहीं क्योंकि जिससे मैं गुजरा हूं, मुझे नहीं लगता कि उन सबसे वे लोग गुजर सकेंगे।'

क्रिकेट से दूर होने के बाद श्रीसंत एक्टिंग और राजनीति से अपना संबंध बना चुके हैं। श्रीसंत ने फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट और उनकी बेटी पूजा भट्ट के साथ एक वेबसीरीज में काम करने की बात कही है। इसके अलावा श्रीसंत ने बताया कि वह अपनी ऑटोबायोग्राफी पर भी काम कर रहे हैं। राजनीति पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि वह केरल की राजधानी तिरूवनंतपुरम से BJP के टिकट के साथ कांग्रेस के शशि थरूर के खिलाफ चुनाव लड़ना चाहते हैं।

बता दें कि साल 2013 के IPL मैच में स्पॉट फिक्सिंग के कारण BCCI ने श्रीसंत पर आजीवन बैन लगाया था। हाईकोर्ट द्वारा पूरा मामला देखने के बाद BCCI ने इस आजीवन बैन को घटाकर सात साल का कर दिया था, जो साल 2020 में खत्म हो जाएगा।

कमेंट करें
82O1t
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।