comScore

US open 2018: जापान की नाओमी ने जीता ग्रैंड स्लेम,सेरेना ने अंपायर से कहा चोर

September 10th, 2018 10:17 IST
US open 2018: जापान की नाओमी ने जीता ग्रैंड स्लेम,सेरेना ने अंपायर से कहा चोर

हाईलाइट

  • नाओमी ने फाइनल मुकाबले में सेरेना विलियम्स को हराया
  • फाइनल में डेल पात्रो और नोवाक जोकोविच आमने सामने
  • सेरेना ने अंपायर पर लगाया लैंगिक भेदभाव का आरोप

डिजिटल डेस्क, न्यूयॉर्क। 20 वर्षीय नाओमी ओसाका ने इतिहास रच दिया है। रविवार को यूएस ओपन महिला एकल फाइनल मुकाबले में नाओमी ने अमेरिका की सेरेना विलियम्स को हराकर ग्रैंड स्लेम खिताब अपने नाम किया। इस जीत के साथ ही नाओमी जापान से ग्रैंड स्लेम जीतने वाली पहली खिलाड़ी बन गई हैं। उन्होंने 6 बार की चैम्पियन सेरेना को सीधे सेटों में 6-2, 6-4 से हराया। नाओमी ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए पहला सेट आसानी से जीता। दूसरे सेट में सेरेना ने वापसी की कोशिश की लेकिन जीत हासिल करने में नाकामयाब रहीं। खिताब जीतने के बाद नाओमी ने कहा, "मुझे पता था कि यहां सब सेरेना का समर्थन करेंगे। मेरा सपना था कि मैं यूएस ओपन का फाइनल सेरेना के खिलाफ खेलूं।" उन्होंने सेरेना की तरफ झुककर उन्हें धन्यवाद भी किया।

सेरेना ने अंपायर पर लगाया आरोप: 

मैच के दौरान सेरेना ने अंपायर पर लैंगिक भेदभाव का आरोप लगाया। मैच में उनके कोच पर कथित रूप से हाथ से इशारा करने पर अंपायर ने सेरेना पर एक गेम का जुर्माना लगाया। इस फैसले पर सेरेना ने कहा, 'पुरुषों के मुकाबलों में अगर यही होता तो अंपायर जुर्माना नहीं लगाते। वे तो अंपायर को इससे भी बुरा-भला कह देते हैं। उन्होंने अंपायर को गुस्से में चोर भी कहा। हालांकि, बादमें सेरेना ने अंपायर से माफी भी मांगी। वहीं उन्होंने यह भी कहा की, मेरी एक बेटी है और मैं उसके सामने एक अच्छा उदाहरण प्रस्तुत करना चाहती हूं। बेईमानी करने के बजाय मैं मैच हारना पसंद करूंगी।

इससे पहले शुक्रवार को वर्ल्ड नंबर 19 नाओमी ने महिला एकल सेमीफाइनल मुकाबले में वर्ल्ड नंबर 14 मेडिसन कीज को मात देकर फाइनल में जगह बनाई थी। सेमीफाइनल मुकाबले में नाओमी ने अमेरिका की कीज को 6-2,6-4 से हराया था। वहीं सेरेना ने सेमीफाइनल में लताविया की एनस्तासिया सेवोस्तोवा को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। सेरेना ने इस सेमीफाइनल मुकाबले में सेवोस्तोवा को 6-3, 6-0 से हराया था। 

पुरुष एकल सेमीफाइनल में शनिवार को नोवाक जोकोविच ने जापान के केई निशिकोरी को 6-3, 6-4, 6-2 से हराकर फाइनल में जगह बनाई। वहीं अन्य सेमीफाइनल मुकाबले में जुआन मार्टिन डेल पोत्रो ने राफेल नडाल से मुकाबला जीता। राफेल नडाल ने घुटने में लगी चोट के कारण मैच बीच में ही छोड़ दिया था। नडाल जब इस मैच से हटे उस समय पोत्रो 7-6, 6-2 से आगे थे। डेल पात्रो यूएस ओपन के फाइनल में पहुंच गए जहां उनका सामना सर्बिया के नोवाक जोकोविच से 10 सितंबर को होगा। पोत्रो ने क्वार्टर फाइनल में अमेरिका के जॉन इस्नर को 6-7(5), 6-3, 7-6(4), 6-2 से हराया था। वहीं वर्ल्ड नंबर 1 राफेल नडाल ने डोमिनिक थीम को 0-6, 6-4, 7-5, 6-7, 7-6, से हराया था। 

कमेंट करें
fzQOt
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।