comScore

Vikas Dubey arrested: कानपुर एनकाउंटर का मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे उज्जैन में गिरफ्तार


हाईलाइट

  • कानपुर कांड का मोस्ट वॉन्टेड विकास दुबे उज्जैन से गिरफ्तार
  • विकास दुबे ने मीडिया और पुलिस को बुलाकर किया सरेंडर

डिजिटल डेस्क, भोपाल। कानपुर शूटआउट के मुख्य आरोपी मोस्ट वॉन्टेंड गैंगस्टर विकास दुबे को मध्य प्रदेश पुलिस ने उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया है। विकास दुबे लगातार पुलिस को चकमा दे रहा था। बताया जा रहा है कि, गुरुवार को विकास दुबे ने महाकालेश्वर मंदिर में पर्ची कटाई और इसके बाद खुद ही सरेंडर कर दिया। फिलहाल वह स्थानीय पुलिस की हिरासत में है। बता दें कि, कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी विकास दुबे पर यूपी पुलिस ने पांच लाख रुपए का इनाम घोषित कर रखा था।

जानकारी के मुताबिक, विकास दुबे ने स्थानीय मीडिया को भी अपने सरेंडर की खबर दी थी। इसके बाद उज्जैन के महाकाल थाने के पास स्थानीय पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। बताया जा रहा है कि, विकास दुबे महाकाल मंदिर के सामने खड़ा था। जैसे ही वहां मीडिया पहुंची तभी उसने चिल्लाया, मैं विकास दुबे हूं, कानपुर वाला। इसके बाद स्थानीय पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। तुरंत उसे गिरफ्तार कर महाकाल थाने लाया गया। उससे पूछताछ की जा रही है। सरेंडर की खबर के बाद एसटीएफ की टीम उज्जैन के लिए रवाना हो गई है।

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है, यह पुलिस के लिए एक बड़ी सफलता है, विकास दुबे एक क्रूर हत्यारा है। कानपुर की घटना के बाद से ही पूरे मध्य प्रदेश की पुलिस अलर्ट पर थी। विकास दुबे को उज्जैन महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया गया है। उत्तर प्रदेश पुलिस को भी सूचित कर दिया गया है। अभी विकास दुबे मप्र पुलिस की कस्टडी में है। 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए उज्जैन पुलिस को बधाई दी है। सीएम ने कहा, जिनको लगता है कि महाकाल की शरण में जाने से उनके पाप धूल जाएँगे उन्होंने महाकाल को जाना ही नहीं। हमारी सरकार किसी भी अपराधी को बख्श्ने वाली नहीं है।

विकास की गिरफ्तारी को लेकर सीएम शिवराज ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर बात की है। जानकारी के मुताबिक मप्र पुलिस विकास दुबे को उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंप देगी।

गौरतलब है कि, कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में दो जुलाई की रात दबिश देने गई पुलिस की टीम के एक सीओ, तीन दारोगा तथा चार सिपाही की हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद से हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे फरार चल रहा था। पुलिस की भारी भरकम टीमें यूपी के साथ-साथ बाहर भी उसकी तलाश में लगी हुई थीं। पुलिस ने मोस्टवांटेड विकास दुबे के जगह-जगह पर पोस्टर्स लगवाए गए थे। इन सबके बावजूद भी विकास यूपी से लेकर हरियाणा और फिर मध्य प्रदेश तक पहुंच गया। 

कानपुर: राज्यमंत्री संतोष शुक्ला ही नहीं, थाने में कई पुलिसकर्मी की हत्या भी कर चुका है विकास

कमेंट करें
Wg0om