केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू : अफस्पा हटाना क्रांतिकारी फैसला, पूरे पूर्वोत्तर को अफस्पा मुक्त करना है मोदी सरकार का लक्ष्य

April 2nd, 2022

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने असम, नागालैंड और मणिपुर के प्रमुख क्षेत्रों से आर्मड फोर्सेज स्पेशल पावर एक्ट अफस्पा हटाने के फैसले को एक क्रांतिकारी निर्णय बताते हुए दावा किया है कि पूरे पूर्वोत्तर को अफस्पा मुक्त करना मोदी सरकार का लक्ष्य है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 50 बार से ज्यादा पूर्वोत्तर राज्यों के दौरे का जिक्र करते हुए दावा किया कि उनके प्रयासों की वजह से पूर्वोत्तर के राज्यों में शांति लौट आई है और तेजी से विकास भी हो रहा है।

भाजपा राष्ट्रीय मुख्यालय में राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया के साथ संयुक्त रूप से मीडिया को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने हाल ही में पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों में अफस्पा हटाने के भारत सरकार के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि असम, नागालैंड और मणिपुर के प्रमुख क्षेत्रों से आम्र्ड फोर्सेज स्पेशल पावर एक्ट को हटाने का फैसला एक क्रांतिकारी निर्णय है। इसका मतलब ये है कि वहां शांति लौट आई है। कुछ जगह बच गई है, वहां भी जल्द स्थिति सामान्य हो जाएगी।

बोडो समझौता, एनएलएफटी और ब्रू-रियांग समझौते का जिक्र करते हुए किरेन रिजिजू ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में सरकार के प्रयासों से हुए इन समझौते के कारण ही आम्र्ड फोर्सेज स्पेशल पावर एक्ट को आज नार्थ ईस्ट के बड़े हिस्से से हटाया गया है और वहां शांति स्थापित हुई है।

पूर्वोत्तर के राज्यों में शांति स्थापित करने, इन राज्यों को देश के मेनस्ट्रीम में शामिल करने और अफस्पा को हटाने का श्रेय पीएम मोदी को देते हुए कहा कि उन्होंने पूर्वोत्तर को जिस प्रकार तवज्जो दी और इस क्षेत्र को आगे ले जाने के लिए जिस प्रकार काम किया, उसकी बदौलत आज पूर्वोत्तर में बदलाव आया है, शांति आई है। उन्होंने आगे कहा कि आज पहली बार ऐसा महसूस हो रहा है कि नॉर्थ ईस्ट देश के मेनस्ट्रीम में शामिल हो चुका है।

पूर्वोत्तर राज्यों के बीच सीमा विवाद के समाधान में मिली कामयाबी का जिक्र करते हुए रिजिजू ने कहा कि असम और मेघालय के बीच में जो मुख्य मुद्दा था, उसके पहले हिस्से का समाधान लगभग पूरा कर लिया गया है और दूसरे हिस्से का समाधान भी होने वाला है। ऐसे ही असम और अरुणाचल प्रदेश की सीमाओं को लेकर चल रहे मुद्दों पर भी गृहमंत्री अमित शाह के नेतृत्व में असम और अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों से बात करके उनके समाधान की प्रक्रिया भी प्रारंभ हो चुकी है।

प्रधानमंत्री मोदी का अभिनंदन करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि, आज पूरे नार्थ ईस्ट में पूरी तरह से शांति कायम है। मैं देशवासियों को बताना चाहता हूं कि आज नॉर्थ ईस्ट में कोई भी आराम से जा सकता है और वहां आराम से घूम सकता है। इसके लिए मैं पूरे पूर्वोत्तर और सभी देशवासियों की और से प्रधानमंत्री जी का अभिनंदन करना चाहता हूं ।

उन्होंने कांग्रेस पर अपनी सरकारों के कार्यकाल में राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़ करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस देश में कई संगठन गड़बड़ी फैलाने के लिए काम कर रहे हैं और इस पर संसद में कोई प्रस्ताव लाने से पहले कांग्रेस सांसद को सोचना चाहिए।

भाजपा राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों को लेकर मोदी सरकार ने तीन लक्ष्यों के साथ काम किया है। भाटिया के कहा कि मोदी सरकार ने पूर्वोत्तर के लिए ऐसी नीतियां बनाई हैं कि वहां की सांस्कृतिक धरोहर की रक्षा की जा सके, बड़े मुद्दों को हल करके विवादों का निस्तारण प्रभावी तरीके से हो और साथ ही पूर्वोत्तर के राज्यों में प्रगति हो और वो मुख्यधारा में भी शामिल हो सके।

गौरव भाटिया ने पिछली सरकारों पर पूर्वोत्तर राज्यों के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार के दौर में यह बदला है जो हम सबके लिए गर्व की बात है।

(आईएएनएस)