दैनिक भास्कर हिंदी: लॉकडाउन के बाद शूटिंग करने के लिए तैयार है बॉलीवुड

May 31st, 2020

हाईलाइट

  • लॉकडाउन के बाद शूटिंग करने के लिए तैयार है बॉलीवुड

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली, 31 मई (आईएएनएस)। कोरोना वायरस को रोकने के लिए हुए लॉकडाउन के बाद अब नए सामान्य में बॉलीवुड में फिल्म निर्माण का तरीका पहले जैसा होगा। नए दिशा-निर्देश और प्रतिबंध, सेट पर लोगों के तापमान की जांच से लेकर बजट में आए परिवर्तन तक काफी कुछ बदल जाएगा।

फिल्म निर्माता अश्विनी अय्यर तिवारी ने आईएएनएस को बताया कि प्रोडक्शन की प्रक्रिया के तरीके में क्या कुछ बदलाव होंगे।तिवारी ने आईएएनएस को बताया, हम उम्मीद के अज्ञात समय में रह रहे हैं। जब भी शूटिंग शुरू होगी तो प्रोडक्शन की प्रक्रिया के तरीके में बदलाव देखने को मिलेंगे। गिल्ड के नए नियमों के मुताबिक एक नया सामान्य जहां हर जगह सभी की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण प्राथमिकता होगी है।

उन्होंने आगे कहा, शेड्यूल में बदलाव हो सकता है, जिसमें कलाकारों और क्रू की कम से कम संख्या के साथ इनडोर जगहों पर प्रोडक्शन को पूरा किया जाएगा। तिवारी ने कहा, टीम प्रबंधन और प्रक्रियाओं को विशेष देखभाल और योजना की आवश्यकता होगी। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सभी को अपनी टीम के लिए बहुत जिम्मेदार होने की आवश्यकता है। अर्थव्यवस्था में गिरावट के कारण क्या उन्हें लगता है कि बजट को फिर से तैयार करना होगा? इस बारे में तिवारी ने कहा, मुझे लगता है कि बजट पर फिर से काम किया जाएगा और कुछ क्षेत्रों में बजट आवंटन बढ़ सकता है।

अभिनेत्री ऋचा चड्ढा को उम्मीद है कि शूटिंग उचित दिशा-निदेशरें के साथ शुरू होगी। ऋचा ने आईएएनएस को बताया, वास्तव में मैं नहीं जानती कि महामारी के बाद शूटिंग का परि²श्य कैसा होगा लेकिन मैं उम्मीद कर रही हूं कि उचित दिशा निदेशरें के साथ शूटिंग शुरू हो सकती है। प्रोड्यूसर्स गिल्ड ने पहले ही दिशानिर्देशों का एक लंबा सेट भेज दिया है, जिसमें बताया गया है कि वे टेलीविजन के लिए कैसे शूटिंग को फिर से शुरू करने की योजना बना रहे हैं।

अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडीज को लगता है कि बदलाव धीरे-धीरे होगा। जैकलीन ने आईएएनएस को बताया, मुझे यकीन है कि लॉकडाउन के बाद बदलाव होगा लेकिन यह धीरे-धीरे होगा। चीजें न केवल मनोरंजन उद्योग बल्कि हर किसी के लिए सामान्य होने में समय लेंगी। तब तक, हमें घर पर सुरक्षित रहना चाहिए।

अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने आईएएनएस को बताया कि उच्च अधिकारियों द्वारा जो भी नियम दिए जाते हैं, उनका पालन अभिनेताओं और श्रमिकों को समान रूप से करना पड़ता है। पंकज ने कहा, कोई भी दिशा-निर्देश जो डब्ल्यूएचओ, मेडिकल बिरादरी, भारत के डॉक्टरों, महाराष्ट्र सरकार, फिल्म फेडरेशन से , सिन्टा और हमारे संघ द्वारा दिए जाएंगे वो अभिनेताओं के साथ-साथ श्रमिकों के लिए भी समान होंगे। हम अभिनेता भी श्रमिक हैं।