comScore

SSR Death Case: सुशांत की 29 जून से थी नई प्लानिंग, आत्महत्या थ्योरी पर फिर उठे सवाल, सीएम ठाकरे बोले- दोषी को बख्शेंगे नहीं

SSR Death Case: सुशांत की 29 जून से थी नई प्लानिंग, आत्महत्या थ्योरी पर फिर उठे सवाल, सीएम ठाकरे बोले- दोषी को बख्शेंगे नहीं

डिजिटल डेस्क, मुंबई। सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के मामले में अब एक और ट्विस्ट सामने आया है। सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने वह व्हाइट बोर्ड शेयर किया है, जिस पर सुशांत की 29 जून से प्लानिंग है। अब ऐसे में एक बार फिर सवालिया निशान लग गया है कि जो व्यक्ति भविष्य की प्लानिंग कर रहा था क्या वह आत्महत्या कर सकता है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हालांकि कहा गया था कि उन्होंने आत्महत्या की है। श्वेता ने शुक्रवार को वाइट बोर्ड की तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा-भाई का व्हाइट बोर्ड जहां वह रोजाना 29 जून से अपनी कसरत और ट्रांसेडेंटल ध्यान शुरू करने की योजना बना रहे थे। तो वह आगे की योजना बना रहा था। वहीं मामले में महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा है कि मुंबई पुलिस केस सुलझाने में सक्षम है। जो भी दोषी होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा।

इस व्हाइट बोर्ड में प्लानिंग इस प्रकार है
- जल्दी उठना, बिस्तर ठीक करना।
- कटेंट वाली फिल्में और सीरीज देखना।
- गिटार सीखना
- वर्कआउट
- मेडिटेशन
- अपने आस पास की जगह को साफ रखना।
- सीखना, प्रैक्टिस और रिपीट करना।
- तुम वह सब चीज कर सकते हो जिसके बारे में तुमने कभी सोचा नहीं।
- जो तुम सोचते हो वो तुम करते हो और जो तुम करते हो वो तुम हो।
श्वेता सिंह कीर्ति की इस पोस्ट लोगों ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी।

सुशांत सिह राजपूत ने मुंबई में अपने अवास पर कथित तौर पर 14 जून को आत्महत्या कर ली थी। खबरें सामने आई थी कि उन्होंने अवसाद में यह कदम उठाया है। सुशांत के प्रशंसक उन कारकों के बारे में सोचने लगे कि सुशांत की जिंदगी में ऐसा क्या घटित हो रहा था, कि उन्होंने इतना बड़ा कदम उठाया।

दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा- सीएम
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सुशांत के मामले पर कहा कि जो भी दोषी पाए जाएंगे, उन्हें सूली पर लटकाए बिना हम चुप नहीं बैठेंगे, लेकिन आरोप सिर्फ राजनीति करने के लिए लगाए जा रहे होंगे तो वे गलत हैं। उन्होंने कहा कि यही पुलिस कोरोना के इस संकट काल में हमारी आपकी रक्षा कर रही है। कई पुलिसकर्मियों ने जनता की रक्षा के लिए अपने प्राण दिए और आप इन पुलिसवालों पर शक कर रहे हैं। ऐसा करने वालों को शर्म आनी चाहिए।

सुशांत के परिवार के वकील ने कहा- विक्टिम कार्ड खेल रही हैं रिया चक्रवर्ती
सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद रिया चक्रवर्ती ने पहली बार प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने एक वीडियो जारी कर कहा कि वह न्यायपालिका और भगवान में विश्वास करती हैं और उन्हें विश्वास है कि सच की जीत होगी। बता दें सुशांत के पिता केके सिंह ने रिया और अन्य के खिलाफ पटना में एफआईआर दर्ज कराई है। अब, सुशांत के परिवार के वकील और कोर्ट में केके सिंह का प्रतिनिधित्व करे विकास सिंह ने दावा किया है कि रिया को बचाने के लिए कोई कवरअप किया जा रहा है। उन्होंने रिया पर यह भी आरोप लगाया कि वह अपने आप विक्टम कार्ड खेल रही हैं ताकि कोई उनको दोष न दें।

स्वामी के नियुक्त वकील ने कहा, सीबीआई जांच अनिवार्य
भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी की ओर से सुशांत सिंह राजपूत मामले में नियुक्त किए गए वकील ईश्वरन सिंह भंडारी दिवंगत अभिनेता को न्याय दिलाने के लिए एक जन आंदोलन शुरू करना चाहते हैं। वकील और राजनीतिक विश्लेषक भंडारी को लगता है कि मामले में सीबीआई जांच अनिवार्य हो गई है, ताकि बिहार पुलिस और मुंबई पुलिस के बीच चल रही तनातनी से बचा जा सके।

सुशांत सिंह की मौत के मामले में मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज
बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शुक्रवार को एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज कर लिया है। ED ने गुरुवार को बिहार पुलिस को पत्र लिखकर सुशांत की मौत के मामले में पटना में दर्ज FIR की कॉपी मांगी थी। इसी FIR के आधार पर ये केस दर्ज किया गया है। ED सुशांत के धन और उनके बैंक खातों के कथित दुरुपयोग के आरोपों की जांच करना चाहती है। दरअसल, सुशांत के पिता ने आरोप लगाया है कि उनके पुत्र के बैंक खाते से कम से कम 15 करोड़ रुपये अज्ञात खाते में ट्रांसफर किए गए हैं।

पूर्व सीएम फडणवीस ने भी मनी लॉन्ड्रिंग के जांच की मांग की 
इससे पहले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने ट्वीट करते हुए कहा था, 'सुशांत सिंह राजपूत के मामले को सीबीआई को सौंपने के बारे में एक विशाल जन भावना है, लेकिन राज्य सरकार की अनिच्छा को देखते हुए, कम से कम ईडी एक ईसीआईआर दर्ज कर सकता है, क्योंकि गलतफहमी और मनी लॉन्ड्रिंग का एंगल सामने आया है।

पटना थाने में रिया समेत 6 के खिलाफ FIR
हालांकि सुशांत के पिता केके सिंह मुंबई पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं थे। इसी वजह से उन्होंने पटना के राजीव नगर थाने में 25 जुलाई को इस मामले की जांच के लिए सुशांत की गर्लफ्रेंड रही रिया चक्रवर्ती समेत 6 के खिलाफ FIR दर्ज कराई थी। इसके बाद रिया ने 29 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके पटना में दायर किए गए मुकदमे को मुंबई ट्रांसफर किए जाने का अनुरोध किया। रिया का कहना है कि बिहार में मामले की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकेगी इसलिए केस को मुंबई ट्रांसफर किया जाए। इसके बाद सुशांत के पिता और बिहार सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में कैविएट दाखिल की।

कमेंट करें
5MDnA