comScore

महाराजबाग जू से अनामिका ने ली अंतिम विदाई, बीमारी से हुई मौत, 2009 में आई थी

August 18th, 2018 14:34 IST
महाराजबाग जू से अनामिका ने ली अंतिम विदाई, बीमारी से हुई मौत, 2009 में आई थी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। महाराजबाग की कभी शान रहने वाली जाई की मौत को अभी भूला भी नहीं पाए थे कि  महाराजबाग में शनिवार को एक बार फिर मायूसी छा गई। अनामिका नामक 10 वर्षीय तेंदुए की मौत हो गई। गत 8 दिनों से वह बीमार थी। यूरिनल इन्फेक्शन के चलते उसका उपचार जारी था। हालत इतनी भी चिंताजनक नहीं थी, लेकिन शनिवार की सुबह उसकी तबीयत अचानक ज्यादा बिगड़ने से उसकी मौत हो गई। जिसके बाद प्रशासन ने शव को वेटरनरी में पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। महाराजबाग परिसर में ही उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

ज्ञात हो कि 2 माह पहले ही महाराजबाग की शान समझी जानेवाली जाई बाघिन की 8 महीनें इलाज के बाद मौत हो गई थी। महीनों ट्रीटमेंट पिंजरे में रहने के बाद उसके तबीयत में सुधार आया था। जिससे उसके बचने की उम्मीद थी, लेकिन एक रात उसकी मौत हो गई।  

2009 में लाया था उसे महाराजबाग
महाराजबाग में बाघ, तेंदूए, भालू आदि वन्यजीवों को यहां आने वाले पर्यटकों के लिए रखा गया है। वन्यजीवों को देखने के लिए  टिकट निकालकर दूर दराज से पर्यटक यहां आते हैं और अन्य वन्यजीवों के साथ बाघ व तेंदुए को देखना पसंद करते हैं। अब तक यहां 4 तेंदूए रखे थे। जिसमें 10 वर्षीय अनामिका नाम की मादा तेंदुआ भी थी। इसे वर्ष 2009 में एक ग्रामीण इलाके से लाया था। एक खुले कुएं में गिरने से उसके रीड़ की हड्‌डी टूटी थी। ऐसे में उसे चलने में भी दिक्कत होती थी। इन्ही बातों को ध्यान में रखते हुए उसे डिस्प्ले पिंजरे में कभी नहीं रखा गया था। डिस्प्ले पिंजरे के पीछेवाले पिंजरे में ही वह अन्य दो साथियों के साथ रह रही थी। गत आठ दिनों से उसकी तबीयत खराब थी। जांच में यूरिनल इन्फेक्शन बताया गया था। जिसके बाद ट्रीटमेंट पिंजरे में रखते हुए उसे इंजेक्शन व दवाईयां दी जा रही थी। लेकिन अचानक उसकी मौत हो गई है।

हो गया था यूरिनल इंफेक्शन 
इस संदर्भ में महाराज बाग जू के प्रभारी सुनील बावस्कर का कहना है कि अनामिका आठ दिनों से बीमार थी। यूरिनल इन्फेक्शन था। लगा नहीं था, मौत होगी लेकिन शनिवार को 12.35 बजे उसकी मौत हो गई। वर्ष 2009 से वह हमारे पास थी।

कमेंट करें
MyDFI