दैनिक भास्कर हिंदी: अवैध शराब की धरपकड़ के लिए चाहिए 100 होमगार्ड की जरूरत

August 12th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। स्टेट एक्साइज विभाग को अवैध शराब की धरपकड़ के लिए 100 होमगार्ड की जरूरत है। लोकसभा चुनाव के दौरान जिला प्रशासन की तरफ से होमगार्ड व वाहन उपलब्ध होने पर अवैध शराब विक्रेताओं के खिलाफ जबरदस्त कार्रवाई की गई थी। ऐसी ही कार्रवाई को दोहराने के लिए होमगार्ड मुहैया कराने की गुजारिश जिला प्रशासन से की जाएगी। 

नागपुर जिले से सटकर वर्धा, चंद्रपुर व गड़चिरोली जिले की सीमा है और तीनों ही जिलों में शराब बंदी है। अगले कुछ महीनों में राज्य में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो सकती है। इसके पहले ही चुनावी आचार संहिता लग जाएगी। चुनाव के दौरान अवैध शराब की बिक्री, परिहवन व संग्रहण बढ़ जाता है। हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान जिला प्रशासन की तरफ से स्टेट एक्साइज विभाग को 100 होमगार्ड व 5 चार पहिया वाहन उपलब्ध कराए गए थे। आचार संहिता के दौरान डेढ़ महीने में विभाग ने जिले में अवैध शराब से संबंधित 500 से ज्यादा कार्रवाई की थी। सितंबर में आचार संहिता लगने की संभावना है। आचार संहिता के पहले ही होमगार्ड व चार पहिया वाहन उपलब्ध हुए तो कार्रवाई में तेजी आ सकती है। इसी कारण स्टेट एक्साइज विभाग अभी से काम पर लग गया है। जिलाधीश को पत्र भेजकर 100 होमगार्ड व वाहन उपलब्ध कराने की गुजारिश की जाएगी।

स्टाफ की बेहद कमी

राज्य में नागपुर जिले को हेवी जिले के रूप में माना जाता है। जिले का क्षेत्रफल ज्यादा होने के साथ ही पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश से जिले की सीमा लगी हुई है। स्टेट एक्साइज विभाग नागपुर के पास एग्जीक्यूटिव व नान एग्जीक्यूटिव स्टाफ मिलाकर 100 अधिकारी-कर्मचारी भी नहीं है। स्टाफ की कमी के कारण कई बार कार्रवाइयां नहीं हो पातीं।

होमगार्ड के लिए पत्र लिखेंगे

आचार संहिता के दौरान अवैध शराब की बिक्री व परिवहन बढ़ जाता है। इसकी रोकथाम के लिए अधिक स्टाफ की जरूरत होती है। आचार संहिता लगने के पहले होमगार्ड जवान उपलब्ध हों, यह हमारी कोशिश है। जिला प्रशासन को पत्र लिखकर 100 होमगार्ड जवान व चार पहिया वाहनों की मांग की जाएगी। लोकसभा चुनाव के दौरान जो धमाकेदार कार्रवाई हुई, उसी तरह की कार्रवाई हमें करनी है। - प्रमोद सोनोने, अधीक्षक, स्टेट एक्साइज विभाग नागपुर