दैनिक भास्कर हिंदी: सिलेंडर फटने से पंद्रह वर्षीय बालिका की मौत

December 20th, 2018

डिजिटल डेस्क, पांढुर्ना/छिंदवाड़ा। सिलेंडर फटने से 15 वर्षीय बालिका जलने से मौके पर ही मौत हो गई। सिलेंडर फटने से घर में आग लग गई और गृहस्थी का पूरा समान जलकर खाक हो गया। सूचना पर मौके पर पहुंचे दमकल विभाग की गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। बालिका रसोई में स्वयं के लिए चाय बना रही थी, तभी यह हादसा हो गया।

रसोई में चाय बना रही थी बच्ची
जानकारी के अनुसार गुरुवार की दोपहर भोपाल रोड पर पारिजात होटल के सामने आग लगने और सिलेंडर फटने से एक मकान में आग लग गई। इस हादसे में रसोई में चाय बना रही दीपा अजाबराव बालपांडे उम्र 15 साल की मौके पर मौत हो गई। बताया जा रहा है कि स्कूल से लौटी दीपाली अपने लिए चाय बना रही थी। इस दौरान सिलेंडर में हो रहे लीकेज से आग भभक गई। आग लगने के घबराकर दीपाली बाहर निकलने की कोशिश की पर आग से उठे धुएं के कारण वह बेहोश होकर रसोई में गिर गई। इस दौरान आग की लपटें तेज हो गई और इस आग से सिलेंडर में जोरदार ब्लास्ट हो गया।

पड़ोसियों ने दी हादसे की खबर
पड़ोसियों के अनुसार सबसे पहले दरवाजा तोड़कर भीतर जाने का प्रयास किया। जब अंदर गए तो पूरे रसोई में आग भभक रही थी और दीपाली आग में जल रही थी। हादसे की तत्काल सूचना फायर और पुलिस को दी गई, जिसके बाद टीआई मुकेश खंपरिया ने टीम के साथ वहां पहुंचकर आग बुझाने मशक्कत की। इस हादसे में दीपाली की दर्दनाक मौत हो गई।

रिश्तेदार के यहां गया था परिवार
हादसे के दौरान घर में दीपाली अकेली थी। बताया जा रहा है कि वह गिरजाबाई स्कूल में कक्षा दसवीं में पढ़ रही थी। दोपहर करीब साढ़े तीन बजे वह घर आई, पर इस दौरान घर में कोई नहीं था। उसके माता-पिता किसी रिश्तेदार के यहां कार्यक्रम में गए थे और भाई काम पर गया था। इस दौरान वह खुद अपने लिए चाय बनाने रसोई में गई और गैस शुरू किया। गैस शुरू होते ही अचानक लीकेज के चलते आग भभक उठी और यह हादसा हो गया। हादसे की खबर लगते ही लौटे परिजन दीपाली की मौत पर रोते-बिलखते रहे।

तत्परता से टल गया बड़ा हादसा
आग लगने और सिलेंडर फटने की खबर लगते ही पुलिस, फायर और 100 डायल की टीम मौके पर पहुंच गई। फायर वाहन और अमले के अलावा टीआई मुकेश खंपरिया अमले के साथ मौके पर पहुंच गए। फायर टीम के साथ पुलिस टीम ने आग बुझाने मशक्कत की। अमले की तत्परता से आग बुझ पाई। टीआई मुकेश खंपरिया के अनुसार मकान में आग लगने और सिलेंडर फटने से घर की छत उड़ गई, वहीं गृहस्थी का सारा सामान जल गया। आग बुझाने के प्रयास तत्काल होने से बड़ा हादसा टल गया। श्री खंपरिया का कहना है कि यदि समय रहते आग पर काबू नहीं पाया जाता, तो आग आस-पास के कच्चे मकानों को भी अपनी चपेट में ले लेती।