दैनिक भास्कर हिंदी: लातूर के किल्लारी में भूकंप के तीन झटके, लोगों में दहशत 

October 31st, 2017

डिजिटल डेस्क, लातूर। औसा तहसील के किल्लारी में मंगलवार दोपहर 12 बजकर 23 मिनट पर भूकंप के 3 झटके महसूस हुए। जिसके रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3 मापी गई। हालांकि ये भूकंप के हल्के झटके थे। इस घटना के बाद लोगों में डर का माहौल है। क्योंकि साल 1993 के 30 सितंबर को भीषण भूकंप ने लोगों को दहला कर रख दिया था। जिसे अबतक कोई भुला नहीं पाया है। लातूर जिला पहले से ही भूकंप को लेकर संवेदनशील माना जाता है। यहां भूकंप के झटके महसूस होते रहते हैं। 

नहीं भूले 1993 के खतरनाक झटके

साल 1993 में आया भूकंप इसलिए और भी ज्यादा खतरनाक था, क्योंकि यह तड़के 3.56 बजे उस वक्त आया था, जब ज्यादातर लोग घरों में सोए थे। इस दौरान करीब 10 हजार लोगों की मौत हो गई थी। जबकि 30 हजार से ज्यादा घायल हुए थे। इलाके के 52 गांव तबाह हुए थे। उस दौरान किल्लारी में एक बड़ा गड्ढ़ा भी बन गया था। शहर के हर इलाके में हर ओर शवों का अंबार लगा हुआ था। उस भूकंप की तीव्रता 6.4 मापी गई थी। जिसका ज्यादा असर औसा ब्लॉक और उस्मानाबाद जिले में हुआ था। भूकंप का केंद्र किल्लारी में जमीन से 12 किलोमीटर नीचे था। कहा जाता है कि जहां भूकंप का केंद्र था, उस जगह कभी एक बड़ा सा क्रेटर (ज्वालामुखी मुहाना) हुआ करता था। 

जानमाल के नुक्सान की खबर नहीं

इस बार भूकंप के हल्के झटके कई इलाकों में महसूस हुए। जिसमें किल्लारी समेत नांदुर्गा, हलगन, बाणेगांव, मंगरुल इलाके में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। साथ ही उस्मानाबाद जिले के सास्तूर-माकणी इलाके में भी झटके महसूस हुए। हालांकि इस दौरान किसी तरह से जानमाल के नुक्सान की खबर नहीं है।