comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

अंतिम उड़ान में 418 यात्रियों का काफिला हज के लिए रवाना

अंतिम उड़ान में 418 यात्रियों का काफिला हज के लिए रवाना

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  हजरत बाबा ताजुद्दीन हज हाउस से इस वर्ष हज-ए-बैतुल्लाह के सफर के लिए 14 विमानों से 3,279 हज यात्रियों का काफिला रवाना हुआ। इन काफिलों में नागपुर सहित विदर्भ, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश के हज यात्री शामिल थे।  418 हज यात्रियों का आखिरी काफिला नागपुर विमानतल से रवाना हुआ।  जिला हज कमेटी के सदस्य और मीडिया प्रभारी ग्यासुद्दीन अशरफी ने बताया कि हज हाउस में सभी यात्रियों की ठहरने की व्यवस्था की गई थी। पासपोर्ट, कागजात वितरण करने के लिए कक्ष, एहराम बांधने के लिए महिला और पुरुष के लिए अलग-अलग कक्ष और सामान विमानतल तक पहुंचाने की व्यवस्था की गई थी। जिला हज समिति के अध्यक्ष जुनेद खान ने महाराष्ट्र राज्य हज समिति के अध्यक्ष हाजी जमाल सिद्दीकी तथा अन्य सदस्यों का आभार मानते हुए कहा कि कम समय में 3,279 हज यात्रियों की व्यवस्था चुनौती से कम नहीं था, मगर हाजी दोस्त, कार्यकर्ता, मीडिया, मनपा प्रशासन, पुलिस प्रशासन और सुरक्षा व्यवस्था के सहयोग से हज यात्रा कामयाब रहा।

हज यात्रियों का किया सत्कार

नागपुर विमानतल से हज यात्रियों का आखिरी काफिला रवाना हुआ। इस अवसर पर राज्य हज समिति के अध्यक्ष जमाल सिद्दीकी, मध्यप्रदेश अल्पसंख्यक व हज समिति के सीईओ दाउद खान, म.प्र. हज समिति के अध्यक्ष व सदस्य मोहम्मद असलम मोहम्मद अबरार, अफरोज खान, एजाज सिद्दीकी, अयाज अली, मोहसिन खान, आदिब खान, गोलूभाई, साबिर खान, आरिफ भाई के अलावा छत्तीसगढ़ हज समिति के अध्यक्ष सैयद सैफुद्दीन सदस्य इम्तेयाज अंसारी, सलीम खान, सईद रजा चौहान, कमरूज्जमा, मौलाना बदरूल इस्लाम बहन नाजो सिद्दीकी और महाराष्ट्र हज समिति के सदस्य एजाज देशमुख, जिला हज समिति के अध्यक्ष जुनेद खान, उपाध्यक्ष मौलाना इरशाद, सचिव हाजी बारी पटेल, प्रवक्ता ग्यासुद्दीन अशरफी प्रमुखता से उपस्थित थे। सफलतार्थ सदस्य सैयद अशफाक, हाफिज अख्तर आलम अशरफी, फैयाज खान, हाजी रहीम, हाजी तैयब रिजवी, सैयद शहनाज अली, नजमा बेगम के अलावा शमीम एजाज, निजामुद्दीन अंसारी, डॉ. शकील मोहम्मद, वसीम कल्लन, यास्मीन खान, कनीजा बेगम, जावेद अख्तर, शाहिदभाई रंगूनवाला, इरशाद हुसैन, हाजी हनीफ चौहान, इस्लाम जाफरी, हाजी जाहिर वारसी, हाजी एजाज, हाजी आसिम खान, सूफी शादाब, सिराज अंसारी, हाजी रशीद ने प्रयास किया।
 

कमेंट करें
jFG3l
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।