comScore

मतदान में फिर पिछड़े शहरी मतदाता, ठाणे में ईवीएम पर फेंकी स्याही और जानिए कहां पेश आईं दिक्कतें  

मतदान में फिर पिछड़े शहरी मतदाता, ठाणे में ईवीएम पर फेंकी स्याही और जानिए कहां पेश आईं दिक्कतें  

डिजिटल डेस्क, मुंबई। हिंसा की छिटपुट घटनाओं के बीच सोमवार को विधानसभा चुनाव के लिए राज्यभर में मतदान हुआ। विधानसभा की 288 सीटों के लिए हुए चुनाव में कुल 3237 उम्मीदवारों के भाग्य के फैसले इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में बंद हो गए। विधानसभा चुनाव में करीब 60.46 फीसदी मतदान हुआ, जो 2014 के विस चुनाव से 2.67 प्रतिशत कम है। राज्य के ग्रामीण इलाकों के मतदाताओं ने शहरी वोटर की तुलना में ज्यादा उत्साह दिखाया। मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ और शाम छह बजे समाप्त हुआ। विधानसभा चुनाव के लिए मतदान में लोकसभा चुनाव जैसा उत्साह नहीं दिखाई दिया। चुनाव आयोग से मिली जानकारी के अनुसार सुबह 7 बजे मतदान शुरु होने के बाद पहले तीन घंटे में सुबह 9 बजे तक राज्यभर में 6.30 प्रतिशत मतदान हुआ। जबकि दोपहर 3 बजे तक 43.78 मतदान दर्ज किया गया था। शाम 6 बजे तक कुल 63.05 फीसदी मतदान हुआ। चुनाव आयोग के मुताबिक अभी आकड़े में बदलाव हो सकता है। 

ईवीएम को लेकर कांग्रेस ने की 221 शिकायतें

इस बीच कांग्रेस पार्टी ने चुनाव आयोग के पास ईवीएम में गडबड़ी को लेकर 221 शिकायतें दर्ज कराई। कई इलाकों में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को लेकर लोगों ने शिकायतें की। मतदान के दौरान कांग्रेस पार्टी की ओर से राज्य में 221 ईवीएम में खराबी की शिकायतें की गईं। ईवीएम मशीन खराब होने की सबसे ज्यादा 10 शिकायतें नांदेड उत्तर सीट पर मिलीं। नांदेड दक्षिण से भी ईवीएम से जुड़ी 9 शिकायतें की गईं। ठाणे जिले में बसपा नेता ने ईवीएम मशीन पर स्याही फेंककर ईवीएम मशीन मुर्दाबाद के नारे लगाए इसके चलते मतदान करीब आधे घंटे के लिए रोकना पड़ा। कांग्रेस महासचिव व महाराष्ट्र चुनाव प्रभारी अविनाश पांडे ने बताया कि सुबह छह बजे से ही पार्टी ने वाररूम में काम शुरू कर दिया था। सभी विधानसभा सीटों पर कार्यकर्ता तैनात थे। हमें ईवीएम ठीक से काम न करने की कई शिकायतें मिलीं। रामटेक विधानसभा क्षेत्र के बूथ क्रमांक 337 से शिकायत मिली कि ईवीएम मशीन पर कोई बटन दबाई जाए तो वीवीपैट मशीन पर अलग पर्ची निकल रही है। इस बारे में चुनाव आयोग को शिकायत की गई।

ईवीएम पर फेंकी स्याही

ठाणे के बहुजन समाज पार्टी नेता सुनील खांबे ने सिविल अस्पताल के पास स्थित मुख्य पोस्ट ऑफिस में मतदान केंद्र पर मतदान के बाद अपनी जेब में रखी स्याही ईवीएम पर और बाहर फेंक दी और नारेबाजी करने लगे। इसके बाद वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने खांबे को हिरासत में ले लिया। मीडिया से बातचीत में खांबे ने कहा कि ईवीएम लोकतंत्र के लिए घातक है और इसका दुरुपयोग सत्ता में पहुंचने के लिए किया जा रहा है। इसे बंद किया जाना चाहिए। पुलिस ने खांबे के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

विद्रोह से वोट कम रह सकते हैं, सीटें नहीं - महाजन 

उधर जलगांव में जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन ने दावा किया कि पार्टी को राज्य के कई निर्वाचन क्षेत्रों में विरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन इससे महायुति की सीटें कम नहीं होंगी। उन्होंने राज्य में 210 से 215 सीटों और खान्देश की 47 में 40 सीटें जीतने का भी दावा किया। जामनेर विधानसभा क्षेत्र जहां से गिरीश महाजन उम्मीदवार हैं, वहां हिवरी दिगर गांव के ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया। गांववालों का आरोप था कि पिछले पांच साल में महाजन एक पुल का निर्माण भी पूरा नहीं करा पाए।

14 ईवीएम, 64 वीवीपैट पड़ीं बंद

उधर जलगांव से भी खबर मिली कि जिले में सुबह कुछ मतदान केंद्रों पर 92 मशीनें बंद पड़ीं थी। चुनाव उपजिलाधिकारी तुकाराम हुलवले ने बताया कि 14 ईवीएम, 14 कंट्रोल यूनिट एवं करीब 64 वीवीपैट मशीन बंद थी, जिन्हें ठीक कर मतदान कराया गया।

सड़क नहीं बनी तो नहीं किया मतदान

उधर उस्मानाबाद की परंडा तहसील में सड़क कार्य और वोटिंग केंद्र गांव में बनाने की मांग को लेकर चव्हाणवाड़ी गांव के मतदाताओं ने चुनाव का बहिष्कार किया। गांव में कुल 415 मतदाता हैं। 

पहले अड़े थे, समझाया तो मतदान करने निकले

जालना के मोंढा इलाके में गायत्री नगर के निवासियों ने सड़क, नालियाें और पीने का पर्याप्त पानी नहीं मिलने से चुनाव बहिष्कार करने का फैसला किया था। लेकिन जब कई संगठनों ने संपर्क किया, तो आश्वासन मिलने के बाद मतदान करने निकले

मोर्शी में निर्दलीय प्रत्याशी का वाहन फूंका 

अमरावती में पुलिस का तगड़ा बंदोबस्त होते हुए भी मोर्शी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के स्वाभिमान शेतकरी संगठन के कांग्रेस-राकांपा समर्थित निर्दलीय प्रत्याशी देवेंद्र भुयार पर कुछ असामाजिक तत्वों ने देशी पिस्तौल से फायरिंग कर उनकी कार को आग लगा दी। समय रहते भुयार और उनके दोनों समर्थक कार से कूदने के कारण बाल-बाल बच गए। शेंदुरजना घाट-धनोडी मार्ग पर घटी इस घटना को लेकर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।  

चुनाव के दौरान नकद के साथ पूर्व पार्षद गिरफ्तार 

अमरावती निर्वाचन क्षेत्र के भातकुली थानांतर्गत क्षेत्र के एक गांव में पूर्व पार्षद समेत कुछ कार्यकर्ताओं को पुलिस ने मतदाताओं को नकद राशि बांटते रंगे हाथों धर दबोचा। पुलिस ने उनके पास से करीब 30 हजार रु. की नकद भी बरामद कर ली। 

वर्धा जिले के दो केंद्रों गलत उंगली पर लगा दी स्याही

बायें  हाथ की तर्जनी पर स्याही लगाने के निर्देश चुनाव विभाग ने दिए हैं लेकिन जिले के सेलू और सेलडोह के मतदान केंद्रो पर दाहिने हाथ की तर्जनी पर स्याही लगाने का मामला सामने आया है

विर्धा 5 और यवतमाल जिले के 1 गांव में नहीं हुआ मतदान 

प्रशासन की कार्यप्रणाली और जनप्रतिनिधियों की अनदेखी से नाराज वर्धा जिले के पांच और यवतमाल जिले के एक गांव के लोगों ने सोमवार 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करते हुए मतदान ही नहीं किया। वर्धा जिले की कारंजा घाडगे में कन्नमवार जि.प. सर्कल अंतर्गत क्षेत्र के आगरगांव, सावली जोग, हेटी, धानोली और मोटहीरजी के नागरिकों ने वन्यजीवों से सुरक्षा प्रदान करने की मांग की अनदेखी को लेकर विधानसभा चुनाव का बहिष्कार किया। 

इसी प्रकार यवतमाल जिले के उमरखेड़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र अंतर्गत ग्राम धारकान्हा के करीब 200 मतदाताओं ने मतदान से मुंह मोड़ लिया। बुनियादी सुविधाएं न मिलने से यहां के मतदाता प्रशासन और जनप्रतिनिधियों से नाराज थे। दोनों ही जिलों में प्रशासन ने मतदाताओं को मतदान के लिए मनाने का प्रयास किया लेकिन मतदाता नहीं माने। 

(लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में वोटिंग प्रतीशत)

विस चुनाव      2019    63.00 %
                     2014    63.08 %
लोस चुनाव      2019    61.02 %

 

कमेंट करें
rHBbI
NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।