दैनिक भास्कर हिंदी: चेहरा पत्थरों से कुचला मॉडल को उतारा मौत के घाट, ड्रग्स तस्करों का भी हुआ पर्दाफाश

July 14th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। हिंगना क्षेत्र में रहने वाली एक मॉडल युवती की उसी के प्रेमी ने चलती कार में टॉमी से सिर पर वार कर हत्या कर दी। मृतक युवती का नाम खुशी जगदीश परिहार (19) है। पहचान न हो सके, इसलिए चेहरे को पत्थर से बिगाड़ दिया गया था। नागपुर ग्रामीण पुलिस ने खुशी परिहार के प्रेमी अशरफ शेख को उसकी हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। इस बात की पुष्टि  नागपुर ग्रामीण अपराध शाखा पुलिस विभाग के निरीक्षक अनिल जट्टावार ने की। उन्होंने बताया कि खुशी फैशन शो में सहभागी हुआ करती थी। उसे मॉडलिंग का भी शौक था। वह अपनी जिंदगी अपने तरीके से जीना चाहती थी, इसलिए गरीब माता- पिता का साथ छोड़कर नागपुर में अकेले रहने लगी थी। उसे पबों, क्लबों व आलीशान होटलों में जाने की आदत थी। एक पब में ही अशरफ शेख से मिली थी। उसके बाद दोनों में दोस्ती हो गई। दोनों जल्द ही शादी करने वाले थे, फिलहाल दोनों लिव इन रिलेशनशिप में रहते थे। खुशी किसी दोस्त के साथ आना-जाना करती थी, यह अशरफ को पसंद नहीं था। 21 वर्षीय अशरफ शेख ने उसे कई बार चेतावनी दी थी कि वह दूसरों के साथ कहीं पर भी आने-जाने की हरकत छोड़ दे। मना करने पर भी जब वह नहीं मानी तब अशरफ शेख ने उसकी शहर से करीब 40 किलोमीटर दूर नागपुर- पांढूर्णा मार्ग पर सावली फाटा की पहाड़ी में ले जाकर हत्या कर दी। अशरफ शेख ने बयान दिया है कि वह उससे शादी करने वाला था। उसे कई बार समझाया था कि वह दूसरे लड़कों के साथ मेल-जोल न रखे, उसके बाद भी वह पब और होटलों में किसी के भी साथ चली जाती थी। यह मुझे पसंद नहीं  था। 

एमडी ड्रग्स तस्कर गिरोह का पर्दाफाश

सक्करदरा पुलिस ने नागपुर में एमडी ड्रग्स की तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करने में सफलता पाई है। पुलिस ने इस गिरोह में शामिल 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों में  निहाल खान नासिर खान, मोहन नगर, आकाश नारायण सिंग, अमृतनगर,  स्नेह सदन, अंधेरी ईस्ट, मुंबई, अशरफ खान उर्फ राजा  असलम खान सिंधीबन, एनआईटी हाल, बड़ा ताजबाग, नागपुर, जाकिर शेख सलीम सिंधीबन कॉलोनी, बड़ा ताजबाग, अजहर खान मुस्तफा खान, शेख शहबाज  उर्फ बारीक चावल शेख पप्पू,  निवासी ठाकुर प्लाट कॉलोनी, बड़ा ताजबाग और जैकी उर्फ सलीम खान शहंशाह खान, सिंधीबन, बड़ा ताजबाग निवासी शामिल है। इन सभी आरोपियों को पुलिस ने शामबाग मैदान, खंडहर में कुएं के पास   से धरदबोचा। आरोपियों से 19.460 ग्राम एमडी ड्रग्स, कार क्र.-एम.एच.-31-एफ.ए.-8180, 3 मोबाइल फोन सहित करीब 5 लाख 88 हजार 380 रुपए का माल जब्त किया है।

हत्या का खुला राज

सावनेर के सुभाषनगर हिंगना निवासी जगदीश परिहार की बेटी खुशी परिहार की उसके ही प्रेमी अशरफ शेख ने हत्या कर दी। शनिवार को खुशी का शव सावडी फाटा के पास पहाड़ियों के बीच सुनसान जगह पर पड़ा मिला। पुलिस सूत्रों के अनुसार, उसके पैर में लांग बूट थे। शरीर पर मॉडल की तरह कपड़े थे। शव की दुर्गंध आने पर सावली फाटा परिसर से अपने पति के साथ जा रही जैतपुर की पुलिस पाटील ज्योति मधुकर कोसरकर ने केलवद पुलिस को प्राथमिक जानकारी दी। उसके बाद  पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। सोशल मीडिया पर घटनास्थल की तस्वीरें वायरल होने पर उसका नाम खुशी परिहार हिंगना निवासी के रूप में पुलिस को पता चला। उसके हाथ पर लवबर्ड का  टैटू बना था, जिसमें खुशी व आशु और सीने के पास क्वीन गुदा हुआ था। यह टैटू भी उसकी पहचान में मददगार साबित हुए। खुशी जो टी शर्ट पहनी थी, उस पर बार कोड लगा हुआ एक लेबल दिखाई दिया। इस बार कोड का पता लगाने पर नागपुर के एक मॉल का निकला। इसी मॉल से पुलिस को सारी जानकारी हासिल हो गई। केलवद पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर उसके प्रेमी अशरफ शेख उर्फ आशू को गिरफ़्तार कर लिया है। वारदात के समय उपयोग की गई अशरफ की कार (क्रमांक एम एच 03 ए एम 4964) को भी पुलिस ने जब्त कर लिया है। इसी कार से उसने खुशी के शव को घसीटकर रात के अंधेरे में सावली फाटा परिसर की सुनसान जगह पर छोड़ा था। शुक्रवार को दोनों ने नागपुर के एक मॉल से करीब 6 हजार रुपए की खरीदारी की थी। यहीं से उसने वह काले रंग की टी शर्ट खरीदी थी, जो पहन रखी थी। 

एसटी के ड्राइवर ने महिला कंडक्टर से की बदतमीजी

टिकट चोरी के आधे हिस्से की मांग को लेकर एक एसटी ड्राइवर ने महिला कंडक्टर से गाली-गलौज की। इस घटना ने एक ओर जहां राज्य मार्ग परिवहन महामंडल की बसों में महिला कर्मचारियों के साथ होनेवाले अभद्र व्यवहार का खुलासा किया है, वहीं बसों में टिकट चोरी का भंडाफोड़ भी किया गया है। ड्राइवर व कंडक्टर की ड्यूटी लगाने की जिम्मेदारी एलोकेशन विभाग की है। नियमानुसार कंडक्टर महिलाओं को सुबह 6 से शाम 7 तक ड्यूटी देना अपेक्षित है। लेकिन आरोप है कि एलोकेशन विभाग मनमानी से बाज नहीं आ रहा है। ज्यादातर महिलाओं को आए दिन रात तक रुकनेवाली शिफ्ट में ड्यूटी लगाई जाती है। इससे उन्हें देर रात घर लौटना पड़ रहा है। गणेशपेठ बस स्टैंड से रोजाना एक हजार से अधिक बसें विभिन्न दिशाओं की ओर दौड़ती हैं। यहां 20 प्रतिशत महिला कंडक्टर हैं, लेकिन कुछ कर्मचारी व अधिकारियों की लापरवाही से महिलाओं के लिए यहां काम करना मुश्किल हो रहा है। 10 जुलाई को महिला कंडक्टर की ड्यूटी सुबह नागपुर से अंबेजोगाई जानेवाली बस में लगी थी। महिला कंडक्टर ने अपनी ड्यूटी भली-भांति निभाई, लेकिन वापसी के बाद छत्रपति चौक पर रात के वक्त बस के ड्राइवर ने महिला से टिकट चोरी के पैसों में से आधा हिस्सा देने की मांग की। इस पर महिला कंडक्टर ने साफ इनकार कर दिया। आरोप है कि ड्राइवर ने महिला कर्मचारी से गाली-गलौज की। आहत महिलाकर्मी ने गणेशपेठ बस स्टैंड के डिपो मैनेजर को लिखित में इसकी शिकायत की है। 

शादी के सपने दिखाकर युवती से दुष्कर्म

जरीपटका थानांतर्गत एक 19 वर्षीय युवती को शादी के सपने दिखाकर उससे जबरन दुष्कर्म किए जाने व गर्भवती होने पर गर्भपात कराने का मामला सामने आया है। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर आरोपी शुभम रजनीश सेन के खिलाफ धारा 376 (2) (एन), 313, 506 व सहधारा 4, 8, 12 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार जरीपटका क्षेत्र में रहने वाली युवती और आरोपी शुभम सेन के बीच वर्ष 2015 में जान पहचान हुई। उस समय दोनों के बीच गहरी दोस्ती हो गई तब युवती किशोरी थी। युवती का आरोप है कि आरोपी शुभम ने उसे शादी के सपने दिखाकर उसके साथ मार्च 2019 तक जबरन संबंध बनाता रहा। इस दौरान युवती गर्भवती हो गई तब आरोपी ने शादी करने के बहाने से उसका गर्भपात करा दिया। बाद में आरोपी शादी करने से मुकर गया तब पीड़िता ने उसके खिलाफ जरीपटका थाने में शिकायत की। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी शुभम सेन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

वीडियो बनाकर आरोपी कर रहा महिला को परेशान

प्रतापनगर थानांतर्गत एक महिला और उसका परिवार एक बदमाश से बेहद परेशान है। यह बदमाश मंगेश वाघ है। महिला ने इसके खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने जब कार्रवाई की, तो बदमाश महिला काे मामला वापस लेने के लिए धमकी दे रहा है। महिला ने केस वापस नहीं लिया, तो आरोपी ने उसका मोबाइल से तस्वीरें लेकर और वीडियो शूटिंग कर परेशान करने लगा है। पुलिस के अनुसार  35 वर्षीय महिला गत दिनों अपनी बेटी के साथ तस्वीरें निकाल रही थी। इस दौरान मंगेश उनकी फोटो निकालने लगा। पीड़िता ने मना किया, तो वह नहीं माना। तब पीड़िता ने उसके खिलाफ थाने में शिकायत की। अब आरोपी उस महिला की बार-बार आते जाते समय तस्वीरें निकालकर उसे  केस वापस लेने के लिए  धमका रहा है। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। 

सरकारी ठेकेदार बनकर की 3.14 लाख की ठगी

कोतवाली थानांतर्गत दो आरोपियों ने सरकारी कांट्रैक्टर बनकर ग्रेनेट व टाइल्स व्यवसायी को 3 लाख 14 हजार रुपए का चूना लगाकर फरार हो गए। आरोपियों ने माल की खरीदारी कर ले गए। दोनों आरोपियों ने व्यवसायी काजी वसीमउद्दीन को चेक देकर चले गए।  चेक का भुगतान करने जाने पर पता चला कि उस नंबर के खाते में पैसे ही नहीं हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार बाबुलवन निवासी काजी वसीमउद्दीन, काजी रियाजउद्दीन की कोतवाली क्षेत्र में काॅसी स्टोन, गंगाबाई घाट रोड, नागपुर पर ग्रेनेट व टाइल्स की दुकान है। अप्रैल माह में उनकी दुकान में   आरोपी खालीद देशमुख और परवेज देशमुख जलगांव जामोद, जिला बुलढाणा निवासी पहुंचे। दोनों ने काजी को खुद का परिचय सरकारी कांट्रैक्टर के रूप में दिया। दोनों आरोपियों ने विश्वास जीतकर उनकी दुकान से ग्रेनेट व टाइल्स खरीदा। इसके बदले में दोनों आरोपियों ने  3,14,000 रुपए का चेक दिया, जब इस चेक का भुगतान करने गए तब पता चला िक वह बाउंस हो गया। पीड़ित काजी की शिकायत पर कोतवाली पुलिस ने उक्त दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 406, 420, 34 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

कार चुराने वाले दो गिरफ्तार

उधर पांचपावली थानांतर्गत पार्किंग से कार चुराने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने धरदबोचा। आरोपियों के नाम युवराज ढोक बालाभाउपेठ और अनिल सोरटे वैशालीनगर निवासी है। पुलिस ने दोनों आरोपियों से कार व एक बाइक सहित 4 लाख 30 हजार रुपए का माल जब्त किया गया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार कश्मीरी गली कमाल चौक रोड निवासी रिचा ऋषिराज अरोरा ने गत 11 जुलाई को अपनी कार (एमएच 49 यू 1489) घर की पार्किंग में रखी थी। मौका पाकर आरोपी युवराज और अनिल उसे चुराकर ले गए। रिचा के घर में पालतू श्वान है। वह भी कार चोरी होने के बाद रात में नहीं भौंका था। यह बात शिकायत के दौरान रिचा ने पुलिस को बताई थी। पुलिस को लगा कि श्वान नहीं भौंका तो कोई परिचित व्यक्ति ही कार को चुराकर ले गया होगा। पुलिस ने आस-पास के सीसीटीवी कैमरे खंगाले तब रिचा की कार की चोरी का पर्दाफाश हो गया। उनकी कार चुराने वाले आरोपी युवराज और अनिल को उन्होंने पहचान लिया। पुलिस ने दोनों आरोपियों को कार चुराने के आरोप में िगरफ्तार किया। पांचपावली के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक अशोक मेश्राम व सहयोगियों ने कार्रवाई की। यह कार्रवाई वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में की गई।

ऑटो चोर पहुेचा हवालात

कन्हान में दोपहिया वाहन चोरी की वारदातों के बाद चोरों के हौसले काफी बुलंद हो गए। घर के सामने खड़े रखे वाहन तक चुराने में यह लोग पीछे नहीं हट रहे। कामठी के नया पुलिस थाने के कर्मचारियों ने चोरी के ऑटो में घुमने वाले एक चोर को धरदबोचा। वहीं उसका एक अन्य साथी अब भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। प्राप्त जानकारी के अनुसार आदर्श नगर, उमरेड रोड, नागपुर निवासी फरियादी अजहर अली व. नौशाद अली सय्यद (37) अपने ऑटो क्रमांक एमएच-49, ई-5183 में अपने परिवार के लोग लेकर मित्र शेख गाजी की बहन की शादी में शामिल होने कामठी के एक लॉन में 20 जून को कामठी आए थे। उन्होंने लॉन के बाहर ऑटो लॉक किया और समारोह में शामिल हुए। इस बीच अज्ञात आरोपी ऑटो ले उड़े। कामठी नया थाने का डीबी पथक पेट्रोलिंग कर रहा था तब उन्हें कामठी से कलमना की ओर आते हुए एक ऑटो दिखा। पुलिस को ऑटो चालक पर संदेह हुआ और पुलिस ने उसे रोककर दस्तावेज मांगे, तो वह सटिक जवाब नहीं दे पा रहा था। पुलिस ने उसके खिलाफ धारा 379 के तहत मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। 

100 रुपए नहीं देने पर हमला

मानकापुर थानांतर्गत 100 रुपए नहीं देने पर आरोपी ने एक व्यक्ति पर हमला कर उसे जख्मी कर दिया। घायल रेवाराम कमरे है। फिरयादी रामस्वरूप कमरे की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी संतोष यादव के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस के अनुसार  ठाकुर कटिया भंडार, नागपुर परिसर में रहने वाले  रामस्वरूप दसाई कमरे कपारगड,  लखनादौन, जिला सिवनी, म.प्र. निवासी अपने मित्र रेवाराम हलके यादव, एक अन्य दोस्त व आरोपी संतोष मुरारी यादव के साथ रहता है। रेवाराम से संतोष ने 100 रुपए मांगे। उसने नहीं दिया इस बात से गुस्से में आकर संतोष ने रेवाराम पर भारी वस्तु से हमला कर उसे जख्मी कर दिया। घटना के बाद रामस्वरूप कमरे की शिकायत पर आरोपी संतोष के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

रेल पुलिस की कार्रवाई में इसलिए पकड़े नहीं जाते, खबरी करता है तृतीयपंथियों को सतर्क

मध्य रेलवे के नागपुर मंडल में आरपीएफ ने दावा किया है कि ट्रेनों में अवैध वेंडरों पर लगातार कार्रवाई चल रही है और अब अवैध वेंडरों का आना भी कम हो गया है। इस दावे में भले ही दम हो, लेकिन तृतीयपंथियों के ‘आतंक’ में कोई कमी नहीं आई है। कार्रवाई करने के लिए यदि आरपीएफ के जवान जाते हैं तो थाने का ही कोई व्यक्ति इन्हें सूचना दे देता है और वे सचेत हो कर वहां से भाग जाते हैं। यह सब कुछ मिलीभगत के अनुसार चल रहा है। उन्होंने थाने में अपने स्रोत बना रखे हैं। इससे उन्हें पहले ही सूचना मिल जाती है कि कार्रवाई करने के लिए टीम आ रही है। इस विषय पर अधिकारियों से बात करने पर अधिकारियों ने लगातार कार्रवाई करने की जानकारी दी, साथ ही थाने से ही सूचना देने के विषय में स्पष्टीकरण मिलने पर नई टीम बनाने की बात कही। खबरी के पकड़े जाने पर सस्पेंड करने की बात कही, यह आउटर से ट्रेन में चढ़ते हैं और यात्रियों से वसूली करते हैं। कुछ समय पहले इन पर कार्रवाई की गई थी, जिससे ट्रेन में इनका आना-जाना बंद हो गया था, लेकिन ये फिर सक्रिय हो उठे हैं। जनरल ही नहीं, स्लीपर कोच में भी जाकर यात्रियाें काे परेशान कर रहे हैं। जब तक यात्री रुपए नहीं देते तब तक जाते नहीं हैं। सबसे ज्यादा जनरल बोगी के ही यात्री इनके निशाने पर होते हैं। लोगों के पास जाते ही यह रुपए की मांग करने लगते हैं।

पुलिस प्रताड़ना से त्रस्त व्यक्ति ने लगाई न्याय की गुहार

इसके अलावा पुलिस प्रताड़ना से त्रस्त व्यक्ति ने पुलिस आयुक्त से न्याय की गुहार की है। सहायक उप-निरीक्षक पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। व्यक्ति का निर्माण कार्य को लेकर पड़ोसी के साथ हुए विवाद में छेड़छाड़ तथा अन्य झूठे मामले में फंसाने का आरोप है। पुलिस आयुक्त को इसकी फुटेज और रिकार्डिंग भी सौंपी गई है। मामले में सहायक उप-निरीक्षक के खिलाफ जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। मामला शांति नगर थाने से जुड़ा हुआ है। शांति नगर निवासी ज्ञानेश्वर गजानन गोखे (35) निजी क्षेत्र में कार्यरत है। 25 मई की रात दहीबाजार पुलिया के पास शांति नगर थाने के सहायक उप-निरीक्षक घनश्याम तिवारी और अन्य एक कर्मचारी ने नींबू-पानी विक्रेता राजेश चौहान की पिटाई की थी। इस घटना को राजेश के मित्र ज्ञानेश्वर ने उठाया था। इससे बौखलाए उपनिरीक्षक तिवारी ने ज्ञानेश्वर के खिलाफ सिलसिलेवार प्रकरण दर्ज कर करने का आरोप है, जबकि थाने के निरीक्षक बी.के. उईके का कहना है कि, ज्ञानेश्वर का घर निर्माण कार्य को लेकर उसके पड़ोसी शोभा टीकराम ढबाले से विवाद जारी है। उसके खिलाफ शिकायत होने पुलिस उसके घर गई थी, लेकिन ज्ञानेश्वर का पुलिस के प्रति रवैया ठीक नहीं होने से उसका कोई प्रतिसाद नहीं मिला।

खबरें और भी हैं...