दैनिक भास्कर हिंदी: मेडिकल अस्पताल से मकोका का आरोपी फरार

July 20th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अजनी थानांतर्गत मेडिकल के सुपर स्पेशालिटी अस्पताल के वार्ड नंबर 43 से शनिवार की सुबह एक आरोपी फरार हो गया। फरार आरोपी का नाम सीजो एल. आर. चंद्रन नाडार (38) खानपुर गांव नई दिल्ली निवासी है। फरार आरोपी पर मकोका की कार्रवाई की गई है। यह विचाराधीन कैदी है। इस आरोपी के खिलाफ वाडी थाने में धारा 363,364 अ, 387,120 ब, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसी प्रकरण में उसे गिरफ्तार किया गया है। वह नागपुर की सेंट्रल जेल में बंद था। गत 4 जुलाई 2019 को रात में आरोपी सीजो ने सांस लेने में तकलीफ होने की शिकायत की, उसे जेल प्रशासन ने मेडिकल के सुपर स्पेशालिटी अस्पताल में भर्ती कराया। वह 16 दिनों से उक्त वार्ड में भर्ती था। शनिवार की सुबह 6.30 से 7 बजे के दरमियान वह बाथरुम जाने के बहाने से गार्ड डयूटी में तैनात दो पुलिसकर्मियों की आंखों में धूल झोंककर फरार हो गया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार सीजो एल. आर. चंद्रन नाडार पर वाडी थाने में वर्ष 2018 में अपहरण व हफ्ता मांगने का मामला दर्ज है। इसी प्रकरण में आरोपी को नई दिल्ली से गिरफ्तार कर वाडी पुलिस लाई थी। वह नागपुर की सेंट्रल जेल में बंद था। 4 जुलाई को उसे सुपर स्पेशालिटी अस्पताल में भर्ती किया गया। उसकी सुरक्षा में गार्ड डयूटी पर पुलिस हेडक्वार्टर के नायब सिपाही कमलेश और सिपाही राजेंद्र को तैनात किया गया था। इस आरोपी पर 5 आपराधिक प्रकरण दर्ज हैं। इस आरोपी को सुपर स्पेशालिटी के वार्ड नंबर 43 में भर्ती कराया गया था। यह श्वश्न विभाग है, जहां पर सांस से जुडी बीमारी का उपचार होता है। आरोपी ने सेंट्रल जेल में सांस लेने में तकलीफ हाेने की शिकायत की थी, जिसके चलते उसे मेडिकल के सुपर स्पेशालिटी के इस वार्ड में भर्ती किया गया। शनिवार की सुबह करीब 6.30 बजे निवासी डॉक्टर इस वार्ड में भर्ती मरीजों की जांच करने आए। आरोपी सीजो का बीपी की जांच हो चुकी थी।

वार्ड में दूसरे मरीजों की जांच शुरू थी। उस समय वह अपने बेड पर था। वह बाथरुम जाने के बहाने उठा। बाथरुम से न जाने कब गायब हो गया यह बात उसकी गार्ड डयूटी में लगे उक्त दोनों पुलिस कर्मियों को भी पता नहीं चल पाई। जब आरोपी सीजो की जांच का नंबर आया तब डॉक्टरों को वह बेड पर नजर नहीं आया। डॉक्टरों ने दोनों पुलिसकर्मियों को उसके बारे में पूछा तो दोनों पुलिसकर्मियों ने बताया कि बाथरुम में शौच के लिए गया है। काफी देर होने के बाद जब वह बाहर नहीं आया तब दोनों पुलिसकर्मियों में से एक शौचालय में उसे देखने गये तो वहां पर वह नहीं था। यह देखते ही दोनों पुलिसकर्मियों के हाथ पांव फूल गए। दोनों पुलिसकर्मियों ने पहले  अपने स्तर पर आस-पास में खोजबीन की, जब नहीं मिला तब वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देकर अजनी पुलिस को सूचित किया। चर्चा है कि करीब एक डेढ घंटे तक उसकी खोजबीन की गई। वह शौच जाने के बहाने से बेड पर से उठा था। शायद इसलिए पुलिसकर्मी भी निंश्चित हो गए थे। आरोपी के फरार होने की जानकारी मिलते ही अजनी के वरिष्ठ थानेदार हनुमंत उरलागोंडावार दस्ते के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। उरलागोंडावार ने बताया कि आरोपी के फरार होने की शिकायत दर्ज कर ली गई है। फरार आरोपी की बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन व अन्य स्थानों पर खोजबीन की गई लेकिन कोई सुराग नहीं मिल पाया है। आरोपी सीजो की गार्ड डयूटी में तैनात पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई हो सकती है। 
 
पहले हुई थी टीबी  

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीजो को पहले गुप्तांग में टीबी हुई थी। इस बीमारी से वह ठीक तो हो गया था, लेकिन कभी- कभी उसे सांस लेने में तकलीफ होती थी। एेसे मरीज की बीमारी ठीक होने पर भी उसे सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। आरोपी सीजो ने सेंट्रल जेल के कर्मियों को सांस में बहुत अधिक तकलीफ होने की शिकायत की थी, जिसके चलते उसे मेडिकल में लाकर भर्ती किया गया। वह डॉक्टरों के सामने ऐसे जताता था कि उससे चलना फिरना नहीं हो पा रहा है। संभावना जताई जा रही है कि वह कमजोर होने का नाटक कर रहा था। वह अगर कमजोर था तो मौका मिलने पर गायब कैसे हो गया। वह अस्पताल में रहकर अधिक समय कैसे बिताया जा सकता है। इसकी तरकीब ढूंढ रहा था। मौका पाते ही वह फरार हो गया।   
 

खबरें और भी हैं...