दैनिक भास्कर हिंदी: पटरी पर लौटी मुंबई की लाइफ लाइन, जरूरी सेवा से जुड़े कर्मचारी ही कर सकेंगे सफर, बैंककर्मी नाराज 

June 15th, 2020

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मायानगरी की लाइफ लाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेनें एक बार फिर पटरी पर लौट आईं है। 86 दिन बाद सोमवार सुबह साढ़े 5 बजे पहली लोकल चली। हालांकि फिलहाल केवल सरकारी कर्मचारियों और निजी अस्पतालों से जुड़े स्वास्थ्य कर्मियों को ही इन ट्रेनों में सफर की इजाजत दी गई है। फिलहाल मध्य रेलवे ने 200 लोकल ट्रेनें जबकि पश्चिम रेलवे ने 162 लोकल ट्रेन चलाने का फैसला किया है। हर रोज सुबह 5:30 बजे से रात 11:30 बजे तक यह ट्रेन करीब 15 मिनट के अंतराल पर चलेंगी और इनमें 12 सौ की बजाय सिर्फ सात सौ यात्रियों को सफर करने की इजाजत होगी। फिलहाल सिर्फ फास्ट ट्रेनें चलाई जाएंगी, जो छोटे स्टेशनों पर नहीं रुकेंगी। पहचान पत्र देखकर ही लोगों को स्टेशनों पर आने की इजाजत दी जाएगी। टिकट खरीदने के लिए कुछ खिड़कियां खुलेंगी, लेकिन पहचान साबित करने के बाद ही टिकट दिया जाएगा। इसके अलावा जिन लोगों के रेलवे पास लॉकडाउन के चलते इस्तेमाल नहीं हो पाए, उनकी अवधि बढ़ाने का फैसला किया गया है। कर्मचारियों को क्यूआर कोड आधारित ई-पास जारी किए जाएंगे। इस बात की भी जांच की जाएगी कि जो कर्मचारी ड्यूटी के लिए आ रहा है, वह कंटेंमेंट जोन में रहने वाला ना हो। रेलवे स्टेशन क्षेत्र में 150 मीटर तक कोई फेरीवाला और कोई पार्किंग क्षेत्र नहीं होगा। प्रत्येक स्टेशन के बाहर इमरजेंसी सेवा के रूप में एम्बुलेंस तैनात होगी। इन ट्रेनों से अत्यावश्यक सेवाओं से जुड़े करीब सवा लाख कर्मचारी सफर कर सकेंगे। हालांकि पहले दिन यात्रियों की संख्या कम रही।

किसे यात्रा की इजाजत

राज्य  सरकार ने मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन (एमएमआर) में स्थित सभी महानगर पालिकाओं के कर्मचारियों को यात्रा की इजाजत दी है। मंत्रालय के सभी कर्मचारी राज्य सरकार के सभी कर्मचारी पुलिस होमगार्ड सफाई कर्मचारी आदि लोकल ट्रेनों से यात्रा कर सकेंगे इसके अलावा निजी क्षेत्र के स्वास्थ्यकर्मियों को भी लोकल में सफर करने की इजाजत होगी।

किसे इजाजत नहीं

आम लोगों के अलावा फिलहाल बैंक कर्मचारियों को भी लोकल ट्रेनों में सफर की इजाजत नहीं है। अभी पत्रकारों और मीडिया संस्थानों में काम करने वाले लोगों को भी लोकल से यात्रा की अनुमति नहीं है।

किस मार्ग पर कितनी ट्रेनें

मध्य रेलवे की कुल 200 लोकल चलाई जाएंगी। लोकल 100 अप रूट और 100 डाउन रूट पर चलेंगी। सीएसएमटी से कसारा, कर्जत, कल्याण, ठाणे स्टेशनों के बीच 130 लोकल चलेंगी। इनमें से 65 सीएसएमटी की ओर जाएंगी और 65 वापस लौटेंगी। सीएसएमटी से पनवेल के बीच भी 70 सेवाएं चलेंगी।

पश्चिम रेलवे कुल 162 ट्रेनें चलाएगी। इनमें 73 ट्रेनें डहानु -विरार से चर्चगेट की ओर चलेंगी, जबकि इतनी ही ट्रेनें वापस लौटेंगी। विरार और डहानु रोड स्टेशनों के बीच 16 ट्रेनें चलेंगी। चर्चगेट और बोरीवली के बीच कुछ फास्ट लोकल चलेंगी। बोरीवली के बाद वे अगले स्टेशन पर धीमी गति से चलेंगी।


लोकल ट्रेनों में बैंक कर्मियों को यात्रा की अनुमती ने मिलने से कर्मचारी संगठन नाराज

वहीं ऑल इंडिया सेंट्रल बैंक एम्प्लॉई कांग्रेस (एआईसीबीईसी) और राष्ट्रीय सेंट्रल बैंक ऑफिसर कांग्रेस (आरसीबीओसी) ने बैंक कर्मियों के साथ किए जा रहे सौतेले व्यवहार को लेकर कड़ी नाराजगी जाहिर की है। इसके साथ ही बैंक कर्मियों व अधिकारियों को जरुरी सेवाओं से जुड़े लोगों की भांति मुंबई कि लोकल ट्रेन से सफर करने की इजाजत न मिलने का विरोध किया है। सोमवार से आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों के लिए लोकल ट्रेनों की शुरुआत की गई हैं पर इसमें बैंककर्मियो की सेवा को जरुरी सेवा न मानकर उन्हें ट्रेन में प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। इसे एआईसीबीईसी के महासचिव सुभाष सावंत व आरसीबीओसी के मुख्य महासचिव जे एस राव ने आपत्तिजनक बताया है। इन दोनों संगठनों ने सरकार से मांग की है कि वह इस पूरे मामले को देखे और संबंधित प्राधिकरण को लेकर जरुरी दिशा निर्देश जारी करे। उन्होंने कहा कि बैंककर्मी देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी होते है उनके साथ अपमानजनक बर्ताव बंद किया जाना चाहिए और जो परिवहन की सुविधाएं कोरोना योद्धाओं को उपलब्ध कराई गई है, बैंक कर्मचारियों व अधिकारियों को भी उन सुविधाओं का इस्तेमाल करने की अनुमति दी जाए। जरुरी सेवा में आने वाले बैंककर्मियों को इस्तेमाल करो और फेकनेवाली वस्तु न समझा जाए। बिना इनके अर्थव्यवस्था में तेजी नहीं आ सकती हैं। दोनों संगठन की ओर से जारी की गई प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक कोरोना के शुरुआती दौर में जब सरकार के कई विभाग काम नहीं कर रहे थे उस दौरान भी बैंककर्मियों ने लोगों तक अपनी सेवाएं पहुचाई। 


 

खबरें और भी हैं...