राजनीति की भेंट न चढ़ाएं शिवाजी पार्क: लता स्मारक के विरोध में मनसे, भाजपा विधायक ने शरद पवार को लिखा था पत्र 

February 8th, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। दादर स्थित शिवाजी पार्क मैदान पर भारतरत्न लता मंगेशकर का स्मारक बनाने की मांग को लेकर भाजपा नेता राम कदम ने राकांपा का समर्थन हासिल करने की कोशिश की है। कदम ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार और उपमुख्यमंत्री अजित पवार को पत्र लिखा है। वहीं मनसे भी मैदान में कूद पड़ी है। पार्टी ने कहा कि शिवाजी पार्क को राजनीति की भेंट न चढ़ाएं। दूसरी ओर नाना पटोले द्वारा इस मांग के समर्थन के बाद उनकी पार्टी की ओर से ही इसके खिलाफ आवाज उठने लगी है।

भाजपा विधायक राम कदम ने सोमवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर शिवाजी पार्क मैदान पर लता मंगेशकर का स्मारक बनाने की मांग की थी लेकिन शिवसेना को यह पसंद नहीं आया था। इसके बाद अब कदम ने राकांपा के दो बड़े नेताओं की तरफ रुख किया है और अपनी मांग के लिए समर्थन मांगा है। शरद पवार को लिखे पत्र में कदम ने कहा है कि आप देश के सबसे अनुभवी और वरिष्ठ नेता हैं साथ ही राज्य की महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार के प्रमुख मार्गदर्शक हैं। कदम ने लिखा कि लता दीदी के करोड़ों चाहने वालों की मांग है कि जिस जगह पर भारतरत्न लता मंगेशकर का अंतिम संस्कार हुआ वहीं दुनिया को प्रेरणा देने वाला उनका स्मारक बनें। कदम ने पवार को लिखा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उपमुख्यमंत्री अजित पवार आपकी बात नहीं टालेंगे इसलिए आप आदेश दें जिससे लता दीदी के स्मृति स्थल का काम शुरू हो सके। कदम ने कहा कि सभी नेता लता दीदी का सम्मान करने की बात करते हैं तो मेरा सवाल है कि स्मारक का काम कब शुरू होगा।

मनसे ने किया विरोध

महाराष्ट्र नव निर्माण सेना ने शिवाजी पार्क मैदान पर लता मंगेशकर का स्मारक बनाए जाने की मांग का विरोध किया है। पार्टी प्रवक्ता संदीप देशपांडे ने कहा कि दलों की राजनीति के लिए शिवाजी पार्क मैदान का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। छत्रपति शिवाजी महाराज पार्क मैदान को अतिक्रमण के बचाने के लिए दादर के लोगों को कई बार संघर्ष करना पड़ा है। अब उसे राजनीति की भेंट न चढ़ाएं। वंचित बहुजन आघाड़ी के अध्यक्ष प्रकाश आंबेडकर ने भी कहा है कि शिवाजी पार्क की पहचान बरकरार रहनी चाहिए। 

पटोले का समर्थन, प्रवक्ता का विरोध 

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कदम के मांग का समर्थन किया था लेकिन उनकी ही पार्टी के नेता डॉ संजय लाखे पाटील इसके विरोध में उतर आए हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि ‘इसके बाद शिवाजी पार्क मैदान पर किसी का अंतिम संस्कार नहीं किया जाना चाहिए साथ ही यहां कोई स्मारक नहीं बनाया जाना चाहिए।’ बता दें कि इसी मैदान पर शिवसेना प्रमुख बाला साहेब ठाकरे दशहरा रैलियां किया करते थे। उनके बाद उद्धव ठाकरे ने भी यह परंपरा जारी रखी। इसलिए शिवसेना का इस मैदान से गहरा नाता है। शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे का अंतिम संस्कार भी इसी मैदान पर हुआ था। हालांकि उनके स्मारक का निर्माण शिवाजीपार्क के समीप स्थित महापौर निवास में किया जा रहा है।