दैनिक भास्कर हिंदी: यूरिया की कालाबाजारी: SDM ने लगाई फटकार, पुलिस की मौजूदगी में प्रति किसान 5-5 बोरी का वितरण

August 21st, 2018

डिजिटल डेस्क, चौरई/छिंदवाड़ा। व्यापारियों को फायदा पहुंचाने के लिए क्षेत्र में यूरिया खाद की कृत्रिम कमी दिखाई जा रही थी। मंगलवार को बैठक लेकर एसडीएम ने समिति प्रबंधकों और विपणन से खाद का रिकार्ड मांगा तो पता चला कि 300 टन खाद गोदामों में है। एसडीएम की फटकार के तत्काल बाद खाद की नगद ब्रिकी शुरू कर दी गई। पुलिस की मौजूदगी में कृषि और विपणन के अधिकारियों ने किसानों की समस्या का समाधान करने नकदी खाद का वितरण किया।

गौरतलब है कि चौरई और चांद में किसानों को यूरिया खाद नहीं मिल पा रही थी। मक्का फसल में यूरिया की अनिवार्यता होने से किसानों को मजबूरन ही बाजार से महंगे दाम में यूरिया लेना पड़ रहा था। समितियों में 265 रुपए में बिकने वाली यूरिया खाद के लिए व्यापारी किसानों से साढ़े 300 से 400 रुपए तक वसूल रहे थे। ऐसे में मंगलवार को एसडीएम मेघा शर्मा ने समिति प्रबंधकों, कृषि अधिकारी और विपणन की बैठक ली।

उन्होंने सहकारी समिति के प्रबंधकों से पूछा कि उनके पास यूरिया खाद का कितना स्टाक है। प्रबंधकों और विपणन ने कहा कि 300 टन खाद उपलब्ध है। इसके बाद भी खाद का वितरण नहीं करने और कालाबाजारी को बढ़ाने पर एसडीएम सुश्री शर्मा ने जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि प्रति किसान 5 बोरी यूरिया तत्काल दिया जाए। एसडीएम का आदेश होने के बाद पुलिस बल की मौजूदगी में कृषि अधिकारी उमेश पाटिल, विपणन के श्री तिवारी ने हसनपुर स्थित गोदाम से किसानों को पांच-पांच बोरी यूरिया का वितरण शुरू कर दिया। देर शाम तक यहां पर खाद लेने के लिए किसान लाइन में लगे रहे। खाद मिलने से किसानों ने राहत की सांस ली है।

डिफाल्टर किसानों के नाम पर रोकी थी खाद
डिफाल्टर किसान, परमिट और अन्य नियम बताकर समितियों ने यूरिया का वितरण बंद कर दिया था। जबकि विपणन के अधिकारी नकद ब्रिकी बंद होना बताकर किसानों को समितियों या व्यापारियों से खाद लेने के लिए निर्देश दे रहे थे। ऐसे में मजबूरी में किसानों को खाद खुले बाजार से महंगे दाम में लेना पड़ रहा था। मंगलवार को एसडीएम की फटकार के बाद विपणन ने नकद ब्रिकी को चालू किया, जिससे व्यवस्था सुधर गई।

किसानों ने किया चक्काजाम
खाद नहीं मिलने से नाराज किसानों ने चक्काजाम कर दिया। हसनपुर रोड में किसानों के चक्काजाम के बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने व्यवस्था बनाई। थाना प्रभारी अर्चना जाट ने पुलिस बल को तैनात किया और पुलिस की मौजूदगी में खाद का वितरण किया गया।