comScore

युवती को शादी का झांसा व परिजन को नौकरी देने के बहाने 41 लाख की ठगी

युवती को शादी का झांसा व परिजन को नौकरी देने के बहाने 41 लाख की ठगी

डिजिटल डेस्क, नागपुर । शादी के सपने दिखाकर एक युवक ने लड़की के परिजन, रिश्तेदार और मित्र परिवार से लगभग साढ़े 41 लाख की ठगी की है। प्रकरण में एक महिला की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। तहसील थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है।  

यह है पूरा मामला
टिमकी निवासी धनराज टाेपरे (50) पानठेला चालक हैं। उन्हें एक पुत्री है। कंप्यूटर का प्रशिक्षण प्राप्त करते वक्त उसकी पहचान चैतन्य प्रीतम मौदेकर नामक युवक से हुई। यह बात 1 अप्रैल 2016 से 7 जनवरी 2020 के बीच की है। इस दौरान चैतन्य ने युवती को सब्जबाग दिखाकर अपने झांसे में ले लिया। इसके बाद वह युवती के परिजन, उसके रिश्तेदारों और मित्र परिवारों से मिलते रहा। खुद की ऊंची पहुंच बता कर कई लोगों को सरकारी नौकरी और फिक्स डिपॉजिट करने का प्रलोभन दिया। प्लॉटों की बिक्री में भी मदद का आश्वासन देकर करीब 41 लाख 51 हजार रुपए की चपत लगा दी। इस मामले में नेहा खोब्रागड़े, अस्ताक भाई समेत अन्य लोगों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। यह लोग धोखाधड़ी के मामले में चैतन्य के साथीदार रहे हैं। रुपए देने के बाद भी जब युवती के रिश्तेदार और मत्र परिवार को नौकरी नहीं मिली तो उन्होंने चैतन्य से रुपए वापस मांगे, लेकिन वह टाल-मटोल करने लगा। 

कठघरे में पुलिस भी
ठगे जाने की आशंका के बीच मामला थाने पहुंचा। जांच करने का हवाला देकर पुलिस ने भी मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया। घटित प्रकरण के चार वर्ष बाद बुधवार को आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। लंबे समय तक चली जांच के बाद भी आरोपियों के संबंध में पुलिस को कोई ठोस सुराग नहीं मिला है। अब पुलिस की जांच भी संदेह के घेरे में है।  गौरतलब है कि इसके पूर्व भी शादी के सपने दिखाकर युवती से ठगी व नौकरी के नाम पर लाखों की चपत कई लोगों को लग चुकी है बावजूद इसके इस तरह के मामले सामने आते रहे हैं। किसी भी अनजान व्यक्ति पर आंख बंद कर विश्वास करने का नतीजा बड़ा बुरी होता है।

कमेंट करें
PWZF9