दैनिक भास्कर हिंदी: नागपुर एयरपोर्ट पर तैनात सीआईएसएफ के अधिकारी समेत 7 की दुर्घटना में मौत

June 19th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नागपुर में तैनात सीआईएसएफ के अधिकारी की कार देहरादून में सड़क हादसे का शिकार हुई। कार खाई में गिरने से अधिकारी समेत परिवार के 7 सदस्यों की मौत हो गई है। मृतकों में सीआईएसएफ के सब-इंस्पेक्टर पवन नेगी (32), पत्नी रश्मि (26), पुत्र जेग सिंह, पुत्री इशिका नागपुर निवासी, बहन सुमन तोमर, भांजा आरव तोमर (5) निवासी गास्की जौनसार और बुआ मूर्तिदेवी (72) निवासी जिला शिमला अतर्गत तहसील जुब्बल शामिल हैं। 

घूमने-फिरने निकले थे

पवन औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) में सब-इंस्पेक्टर थे। गत ढाई वर्ष से स्थानीय डॉ.बाबासाहब आंबेडकर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर तैनात थे। गत दिनों पवन अपने गांव और पर्यटन स्थलों पर घूमने-फिरने के इरादे से परिवार के साथ देहरादून गए थे। स्थानीय सीआईएसएफ को देहरादून पुलिस ने सूचना दी कि देहरादून स्थित त्युणी मार्ग पर पवन की कार लगभग 500 फीट गहरी खाई में गिर गई है। कार में सवार पवन समेत परिवार के उक्त सदस्यों की मौत हो गई है। हादसे के दौरान पवन त्युणी बाजार जा रहे थे। कार खुद पवन ही चला रहे थे। पहाड़ी पर कार अनियंत्रित होने से यह भीषण हादसा हुआ। स्थानीय लोगों की मदद से शवों को बरामद किया गया।  

शराबी वाहन चालक ने मां-बेटे को उड़ाया, दोनों की मौत  

रामटेक-नगरधन मार्ग स्थित शनि मंदिर के सामने पेट्रोल पंप के पास  भीषण दुर्घटना में मोटरसाइकिल सवार बेटे और उसकी मां की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। मृतकों के नाम नीलाबाई नत्थूजी मेहरकुले (60) और उनका बेटा राजू मेहरकुले (40) दुधाला, कवडक निवासी बताया गया। राजू निमखेड़ा गांव में मामा के यहां जा रहा था। 

चार किमी तक पीछा किया

शनि मंदिर के सामने तेज गति से आ रही पिकअप गाड़ी (क्रमांक एमएच-40, एके-0736) ने उन्हें टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जोरदार थी कि मोटरसाइकिल का सामने का चक्का निकल गया। वैन भी सामने से क्षतिग्रस्त हुई है। वैन चालक चौधरी (चाचेर-तारसा निवासी) शराब के नशे में धुत था। टक्कर मारने के बाद  वह तेजी से वाहन लेकर भागा। आगे भी तीन-चार जगह कुछ लोग उसकी गाड़ी से बाल-बाल बचे। इन्हीं में से एक शनिवारी वार्ड निवासी अमित बालाजी नागपुरे ने चिचाला मोड़ यानी चार किमी तक उसका पीछा किया। चिचाला की ओर भागने के क्रम में वैन खेत में घुस गई, हालांकि वह पलटी नहीं, मगर वैन चालक पकड़ा गया। पहले उसे उपजिला अस्पताल, रामटेक लाया गया। गुस्साई भीड़ से जैसे-तैसे बचाया गया। बाद में उसे गिरफ्तार किया गया। इस दौरान मां-बेटे को उपजिला रुग्णालय, रामटेक लाया गया। यहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित किया। मामला दर्ज कर रामटेक पुलिस प्रकरण की जांच कर रही है।