दैनिक भास्कर हिंदी: सिंगापुर जाने की जरूरत नहीं नागपुर में ही बनेगा शानदार प्राणी संग्रहालय

July 29th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि, अंतरराष्ट्रीय स्तर के प्राणी संग्रहालय गोरेवाड़ा का उद्घाटन आगामी सितंबर माह में होगा। उद्यान की छटा व सुंदरता को देखते हुए वन्यप्रेमी व पर्यटकों को अब सिंगापुर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अंबाझरी जैवविविधता उद्यान का लोकार्पण मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के हाथों हुआ। केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी की अध्यक्षता में हुए इस कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि के रूप में पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार, राज्यमंत्री डॉ. परिणय फुके, विधायक सुधाकर देशमुख, समीर मेघे, मल्लीकार्जुन रेड्डी, महापौर नंदा जिचकार, पार्षद परिणिता फुके, प्रधान मुख्‍य वनसंरक्षक व वनबल प्रमुख यू.के. अग्रवाल, अपर प्रधान मुख्‍य वनसंरक्षक एस.जी. टेंभूर्णीकर, विभागीय आयुक्त संजीवकुमार, जिलाधिकारी अश्विन मुद्गल उपस्थित थे। 

फडणवीस ने कहा कि, एक हजार आठ सौ एकड़ में जैवविविधता से समृद्ध यह परिसर नागपुरवासियों के लिए सुंदर भेंट है। जैवविविधता का संवर्धन हो आैर यह जैवविविधता जनता प्रत्यक्ष देख सके, इसलिए अंबाझरी परिसर में यह  प्रोजेक्ट पूर्ण किया गया है। 160 विविध प्रजाति के पक्षी व समृद्ध वनसंपदा का दर्शन यहां होता है।  इसके अलावा जैवविविधता व वन्यप्राणी वाले अंतरराष्ट्रीय गोरेवाड़ा प्राणी संग्रहालय का काम अंतिम चरण में है। यह दोनों ही जगह वन्यप्रेमी व पर्यटकों के लिए वरदान साबित होंगे।

केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने इको टूरिज्म को प्रोत्साहन देने वाले व नागपुर के वैभव के रूप में पहचाने जाने वाला अंबाझरी जैवविविधता उद्यान यह अनमोल भेंट साबित होगी। वनमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि, 28 हजार ग्राम पंचायतों में जैवविविधता समितियां गठित की गई हैंहरित सेना के तहत 62 लाख नागरिकों का पंजीयन किया गया है।  इस दौरान अंबाझरी क्षेत्र के विविध प्रजाति के पक्षियों की जानकारी देने वाले अंबाझरी बर्ड्स  पुस्तक का प्रकाशन भी किया गया। अंबाझरी उद्यान के बोधचिह्न स्पर्धा की विजेता छात्रा आर्या निमजे व ई-साइकल के निर्माता प्रज्वल टेंभूर्णे को अतिथियों के हाथोें सम्मानित किया गया। संचालन रेखा दंडीगे व श्वेता शेलगांवकर ने एवं आभार वन अधिकारी राजन तलमले ने माना।

अर्बन फॉरेस्ट के रूप में विकसित : डॉ. फुके 

वन राज्यमंत्री डॉ. परिणय फुके ने कहा कि, उद्यान में 21 किमी का ट्रैक है। 11 किमी साइकलिंग व 5 किमी वॉकिंग ट्रैक है। यह पार्क ‘अर्बन फॉरेस्ट’ के रूप में विकसित हुआ है। पक्षी निरीक्षक व निसर्ग प्रेमियों के लिए आकर्षण का स्थल के रूप में यह प्रसिद्ध है। एमआईडीसी व नाग नदी के दूषित पानी पर प्रक्रिया कर इस उद्यान के वृक्षों के लिए ड्रिप सिंचाई की व्यवस्था की है। परिसर में 20 कृत्रिम तालाबों से जलसंवर्धन के काम भी किए गए हैं।