दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र कांग्रेस कार्याध्यक्ष हुसैन का भाई बना भाजपाई, भुजबल के शिवसेना में प्रवेश की चर्चा शुरु

September 1st, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भ्रष्टाचार के आरोप में जेल की हवा खा चुके राकांपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व उपमुख्यमंत्री छगन भुजबल के शिवसेना प्रवेश की चर्चा ने शनिवार को फिर जोर पकड़ा। हालांकि शिवसेना व भुजबल की तरफ से इसकी पुष्टि नहीं हुई। शिवसेना सूत्रों ने बताया कि भुजबल को पार्टी में लाने को लेकर चर्चा जरुर चल रही है पर अभी कुछ फाईनल नहीं हुआ है। पिछले कुछ दिनों से भुजबल के शिवसेना में शामिल होने की चर्चा चल रही थी। पर वे लगातार इसका खंडन कर रहे थे। शिवसेना कार्यकर्ता भी भुजबल के पार्टी प्रवेश का विरोध कर रहे थे। इसे देखते हुए उद्धव ने भी कार्यकर्ताओं को आश्वासन दिया था कि भुजबल को पार्टी में नहीं लिया जाएगा। लेकिन महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष के मुखिया नारायण राणे के अपनी पार्टी का भाजपा में विलय करने के फैसले के बाद भुजबल को शिवसेना में लाने की कवायद तेज हुई। अब तक राकांपा के कई विधायकों सहित एक दर्जन से ज्यादा वरिष्ठ नेता पार्टी छोड़ कर भाजपा-शिवसेना में शामिल हो चुके हैं। भुजबल यदि शिवसेना में आते हैं को 28 साल बाद उनकी घर वापसी होगी। शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे से मतभेद के बाद भुजबल 1991 में कांग्रेस में शामिल हो गए थे। बाद में राकांपा के गठन के वक्त वे शरद पवार के साथ आ गए। भुजबल के शिवसेना छोड़ने पर खुब बवाल हुआ था। उस समय शिवसैनिक उनकी खुन के प्यासे थे। 

दो साल जेल के बाद जमानत पर हुई है रिहाई

आघाडी सरकार में उपमुख्यमंत्री सहित कई महत्वपूर्ण विभागों की जिम्मेदारी संभालने वाले भुजबल को फडणवीस सरकार के दौरान महाराष्ट्र सदन घोटाला व मनी लांड्रिंग मामले में 15 मार्च 2016 को जेल जाना पड़ा था। करीब 2 साल तक जेल में रहने के बाद 4 मई 2018 को भुजबल जमानत पर रिहा हुए थे।   

प्रदेश कांग्रेस कार्याध्यक्ष हुसैन का भाई बना भाजपाई

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश कांग्रेस के कार्याध्यक्ष मुजफ्फर हुसैन के भाई सैयद मुनव्वर हुसैन भाजपा में शामिल हो गए हैं। शनिवार को मीरा-भायंदर के भाजपा विधायक नरेंद्र मेहता ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। सूत्रों के अनुसार मुनव्वर अभी तक राजनीति में सक्रिय नहीं थे और उनके अपने भाई कांग्रेस के पूर्व विधायक मुजफ्फर हुसैन से अच्छे संबंध नहीं हैं।