दैनिक भास्कर हिंदी: 80 टन का जहाज दो सप्ताह बाद उतारा जाएगा तालाब में

June 16th, 2018

डिजिटल डेस्क,कोराडी(नागपुर) कोराडी में लगभग 80 टन वजन के जहाज का निर्माणकार्य युद्ध स्तर पर जारी है। दो सप्ताह पश्चात पोकलेन के सहारे कोराडी के 192 हेक्टेयर क्षेत्र में फैले तालाब की सफाई करते दिखाई देगा। यह अनुभव वास्तव में अविस्मरणीय होगा। क्योंकि इस तरीके का काम केवल समुद्र के किनारे ही करते देखा जाता है, लेकिन विदर्भवासियों को ऐसा नजारा पहली बार ही देखने को मिलेगा। इस माध्यम से पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले के महत्वाकांक्षी प्रकल्प समझे जाने वाले कोराड़ी के अद्भुत पर्यटन क्षेत्र  को गति मिलेगी। 

50 करोड़ की लागत से कोराड़ी के संग्रहण तालाब की गहराई एवं स्वच्छता का काम शुरू है। अनावश्यक टाइका नामक घास से तालाब लबालब हो भर गया है। तालाब की सफाई करने का काम चुनौती भरा होने से अनुभवी कोस्टल ड्रेजिंग एंड आर.बी. इंफ्रास्ट्रक्चर प्रा. लि. मुंबई नामक कंपनी को दिया गया है। तालाब की घास पोकलेन की सहायता से  निकालना है। इसलिए पोकलेन को ढोकर ले जाने वाले 80 टन वजन के जहाज का काम कोराडी स्थित भवन्स स्कूल के समीप चल रहा है।

इस जहाज को राठोड-1 नाम दिया गया है। इस जहाज की सहायता के लिए राठोड-2 नामक छोटा जहाज रहेगा, जो कि तालाब का निकाला गया कचरा व घास किनारे पर लाएगा। तालाब की घास निकालने के बाद भीतर का कीचड़ निकालने का काम शुरू होगा। उसके लिए विकास मरिन सर्विसेस की ओर से विशेष "कटर सक्शन ड्रेजर' लाया जाएगा। मशीन की सहायता से 3 से 5 मीटर की गहराई का कीचड़ निकालकर 500 मीटर दूरी पर फेंका जाएगा। यह पंटून सिप कम समय में तैयार हो तथा पालकमंत्री बावनकुले के नियोजन नुसार काम हो इसके लिए कंपनी की ओर से महेंद्र शिंदे, रतनसिंह राठोड व नूर मोहम्मद विशेष प्रयास कर रहे हैं। तालाब के तट पर दीवार डालने का काम अंतिम चरण में होगा।

22 विशेषज्ञों की टीम तैनात
इस जहाज को कोस्टल परिभाषा में स्पड पंटून वेसल या पंटून सिप कहा जाता है। जहाज की निर्मिति के लिए 22 विशेषज्ञों की टीम विशेष रूप से मुंबई से कोराडी में तैनात हो चुकी है। उन्हें समुद्र में काम करने का खासा अनुभव है। इस पंटून सिप का डिजाइन प्रसिद्ध नेवल आर्किटेक्ट द्वारा तैयार किया गया है। डेढ़ करोड़ की लागत से बन रहा यह पंटून सिप दो सप्ताह पश्चात तालाब में प्रवेश करेगा। इस जहाज को पोकलेन मशीन के साथ तालाब में उतारने के लिए व्हैंसल लांचिंग टीम आएगी। जहाज की पेंटिंग अगले सप्ताह होगी। जहाज को चार हल (नांगर) रहेंगे। उसके सहारे यह तालाब में चाहे जहां पहुंचाया जाएगा, जिससे पोकलेन अपना काम करेगा। प्रत्यक्षदर्शियों को यह नजारा बड़ा अद्भुत दिखाई देगा। इस सभी काम पर मुख्य अभियंता अनंत देवतारे की टीम ध्यान रखेगी।