comScore

बुजुर्गों के लिए जानलेवा बना कोरोना, मरने वालों में 55 प्रतिशत आंकड़ा

बुजुर्गों के लिए जानलेवा बना कोरोना, मरने वालों में 55 प्रतिशत आंकड़ा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। कोरोना का प्रकोप बुजुर्गों के लिए काल बना हुआ है। राजधानी में कोरोना से हुई कुल मौतों में करीब 55 फीसदी बुजुर्ग शामिल हैं। कोरोना से अब तक कुल 5750 मौतों में 3221 मौतें 60 से 100 वर्ष की उम्र वालों की हुई है। जो कि कुल मौत का 55 फीसदी है। मुंबई मनपा के अनुसार 20 जुलाई तक मुंबई में 1 लाख 2267 लोग कोराना से संक्रमित हुए हैं, जबकि 5750 लोगों की मौत हुई है। इनमें सर्वाधिक 60 से 100 साल की उम्र वाले हैं। जान गवाने वालों में सर्वाधिक 1708 लोग 60 से 70 साल के बीच आयु वाले थे। जबकि मौत 50 से 60 वर्ष उम्र के 1554 लोगों की जान जा चुकी है। जो कि कुल मौत का 26.72 प्रतिशत है। इसी तरह मुंबई में 10 वर्ष से कम उम्र वाले 10 बच्चों की जान कोरोना संक्रमण के कारण गई।        

डॉक्टरों कहना है कि बुजुर्गों की अधिकतर मौतों का सबसे बड़ा कारण उनकी इम्युनिटी पॉवर कम होना और कई तरह के रोगों से ग्रसित होना है। इसमें ज्यादातर को डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हृदय रोग,  दमा जैसी  बीमारियां थीं।

महिलाओं की तुलना में पुरुषों की मृत्युदर अधिक

मुंबई में कोरोना वायरस से हुई मृत्यु में महिलाओं की तुलना में पुरुषों की संख्या ज्यादा है। साथ ही, कोरोना वायरस से संक्रमित होने के मामले में भी पुरुष, महिलाओं से काफी आगे हैं। मुंबई में 60 से 70 वर्ष के कोरोना से संक्रमित मरीजों में 62 प्रतिशत पुरुष और 38 प्रतिशत महिलाएं हैं। इसी तरह 50 से 60 वर्ष वालों में 65 प्रतिशत पुरुष और 35 प्रतिशत महिलाएं हैं। 40 वर्ष से 50 वर्ष के बीच के जितने लोग संक्रमित हुए हैं उसमें 67 प्रतिशत पुरुष और 33 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं। जबकि 30 से 40 वर्ष की उम्र में जो लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं उसमें 65 प्रतिशत पुरुष और 35 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं।

उम्र (वर्ष)         मौतें

  0 से 10         10
10 से 20          21
20 से 30          90
30 से 40          257
40 से 50          694
50 से 60         1554
60 से 70         1708  
70 से 80         1037
80 से 90          434
90 से 100          42
 

कमेंट करें
tC7WO